Hindi News »Madhya Pradesh »Gwalior» Akleshwar Mahadev Temples Donatorial Open

अचलेश्वर महादेव मंदिर की दानपेटी खुली ,श्रद्धालु दानपात्र में डाल रहे हैं पुराने नोट

बीते माह करीब 25 पुराने नोट 500 और 1000 रुपए के मिले थे। न्यास के पदाधिकारी इन नोटों को अलग रख रहे हैं।

Bhaskar News | Last Modified - Nov 15, 2017, 07:53 AM IST

ग्वालियर.नोटबंदी को एक साल बीत चुका है। लेकिन शहर के मंदिरों के दानपात्र में भक्त 500 रुपए और 1000 रुपए के पुराने नोट आज भी डाल रहे हैं। मंगलवार को अचलेश्वर मंदिर की दान पेटी खुली तो 500 का एक पुराना नोट निकला। अचलेश्वर न्यास में नोटबंदी के बाद हर माह खुलने वाली दानपेटी से पुराने नोट निकल रहे हैं। बीते माह करीब 25 पुराने नोट 500 और 1000 रुपए के मिले थे। न्यास के पदाधिकारी इन नोटों को अलग रख रहे हैं।

- अनुमान है कि अब तक दान में आए एक लाख रुपए के पुराने नोट जमा हो चुके हैं। मंगलवार को खुली न्यास की दानपेटी में कुल 2 लाख 46 हजार रुपए निकले। उधर विकास नगर स्थित साईं बाबा मंदिर में भी हर डेढ़ माह में खुलने वाली दानपेटी में एक-दो नोट पुराने निकल रहे हैं। मंदिर ट्रस्ट के पदाधिकारी इन नोटों को अलग इस आस में रखे हुए हैं कि सुप्रीम कोर्ट का पुराने नोट को लेकर यदि फैसला जमा करने का आता है तो वह बैंक में जमा कर देंगे।

10 से अिधक पुराने नोट रखने पर जुर्माना
- यूको बैंक के वरिष्ठ प्रबंधक नवलकिशोर शुक्ला का कहना है कि यदि कोई व्यक्ति पुराने 500 व 1000 रुपए के 10 से अधिक नोट रखता है या फिर शोध करने वाला व्यक्ति 25 से अधिक नोट रखता है तो दस हजार रुपए के जुर्माने का प्रावधान है। यदि किसी मंदिर में पुरानी करेंसी निकलती है तो उसे स्वयं के पास रखने की अपेक्षा नष्ट करना उचित रहेगा।

साधारण सभा बुलानी पड़ेगी
- मंदिर की दानपेटी में अब भी पुराने नोट निकल रहे हैं। बैंक नोट नहीं ले रहा है और न्यास इन नोटों को नष्ट करने का फैसला इसलिए नहीं ले सकता, क्योंकि न्यास पब्लिक ट्रस्ट है। पुराने नोटों को नष्ट करने के लिए हमें साधारण सभा की बैठक बुलानी पड़ेगी।
हरीदास अग्रवाल, अध्यक्ष, अचलेश्वर न्यास

- साईं बाबा मंदिर के चढ़ावे में अब भी एक-दो पुराने नोट निकल रहे हैं। इन पुराने नोट को अलग रख दिया है। हमें सुप्रीम कोर्ट के फैसले का इंतजार है। इसके बाद ही ट्रस्ट पुराने नोटों के बारे में निर्णय लेगा।
आनंद सावंत, कोषाध्यक्ष, साईं मंदिर ट्रस्ट

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Gwalior

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×