--Advertisement--

हिमस ने शुरू की गोडसे की फोटो पूजा कांग्रेस नेता बोले-मूर्ति हटाना हमारी जीत

पुलिस एवं प्रशासन द्वारा नाथूराम गोडसे की मूर्ति हटाए जाने के बाद बुधवार को हिंदू महासभा ने गोडसे की तस्वीर रखकर पूजा श

Danik Bhaskar | Nov 23, 2017, 07:52 AM IST

ग्वालियर. पुलिस एवं प्रशासन द्वारा नाथूराम गोडसे की मूर्ति हटाए जाने के बाद बुधवार को हिंदू महासभा ने गोडसे की तस्वीर रखकर पूजा शुरू कर दी है। साथ ही महासभा के पदाधिकारियों ने मूर्ति जब्ती के दौरान गिरफ्तार हुए साथी कपिलदेव की जमानत कराई और कार्यालय का ताला खोलकर मूर्ति स्थल पर गोडसे की फोटो रखकर पूजा की। इस पूजा के दौरान वीरांगना झलकारी बाई की जयंती भी मनाई गई। वहीं कांग्रेस नेताओं ने फूलबाग स्थित गांधी पार्क पहुंचकर महात्मा गांधी की प्रतिमा पर नमन किया।

किसने क्या किया : दिनभर राजनीति और अफसरों की चौकसी

हिंदू महासभा:

- हिंदू महासभा कार्यालय पर बुधवार को बैठक हुई। जिसमें पदाधिकारी एवं कार्यकर्ताओं ने प्रशासन की कार्रवाई को गलत बताया एवं तय किया कि प्रशासन ने गोडसे की मूर्ति को नियम विरुद्ध तरीके से जब्ती में लिया है।

- इस कार्रवाई को कानूनी प्रक्रिया के तहत चुनौती दी जाएगी। राष्ट्रीय उपाध्यक्ष डॉ. जयवीर भारद्वाज ने बताया कि कार्यालय में पुन: गोडसे की पूजा शुरू कर दी गई है। साथ ही 30 जनवरी को महासभा की सभी जिला इकाइयों द्वारा गोडसे के अंतिम बयान की कॉपी लोगों के बीच बांटी जाएंगी।

कांग्रेस:

- प्रशासन द्वारा गोडसे की मूर्ति को हटाए जाने को कांग्रेस ने खुद की जीत बताया। बुधवार को शहर जिला कांग्रेस अभियान आंदोलन समिति के संयोजक रमेश अग्रवाल ने कहा कि हिंदू महासभा द्वारा गांधी के हत्यारे की मूर्ति स्थापना के साथ पूजा से समाज को गलत संदेश दिया था।

- कांग्रेस की आपत्ति के बाद कलेक्टर राहुल जैन ने इस मूर्ति को जब्त कराते हुए कार्रवाई की। जब मीडिया ने श्री अग्रवाल से पूछा कि महासभा के दफ्तर में अब गोडसे के चित्र को रखकर पूजा की जा रही है तो वे इस सवाल को टाल गए।

प्रशासन की नजर:

- जिला एवं पुलिस प्रशासन के साथ इंटेलीजेंस के लोग भी इस मामले पर लगातार निगाह बनाए हुए हैं। प्रशासनिक अफसरों को वरिष्ठ अफसरों की हिदायत है कि इस मामले पर कड़ी निगाह रखें और कोई भी अप्रिय स्थिति न बनने दें। बुधवार को इंटेलीजेंस के लोगों ने दौलतगंज स्थित हिंदू महासभा कार्यालय में हुई बैठक एवं फोटो की पूजा पर भी निगाह रखी। साथ ही उस क्षेत्र में मौजूद रहकर गतिविधियों की निगरानी की। जिला व पुलिस प्रशासन के साथ इंटेलीजेंस ने रखी निगाह।