Hindi News »Madhya Pradesh »Gwalior» Females Lying Unconscious In The Open Before Sterilization

नसबंदी के दौरान 45 महिलाओं की जान से खिलवाड़, फोटो में दिखा ऐसा मंजर

ये तस्वीरें हेल्थ मिनिस्टर रुस्तम सिंह के कंस्टीट्युएंसी मुरैना डिस्ट्रिक्ट हॉस्पिटल की है।

Bhaskar News | Last Modified - Nov 14, 2017, 02:47 AM IST

  • नसबंदी के दौरान 45 महिलाओं की जान से खिलवाड़, फोटो में दिखा ऐसा मंजर
    +4और स्लाइड देखें
    मुरैना(ग्वालियर).ये तस्वीरें हेल्थ मिनिस्टर रुस्तम सिंह के कंस्टीट्युएंसी मुरैना डिस्ट्रिक्ट हॉस्पिटल की है। यहां सोमवार को नसबंदी के लिए आई 45 महिलाओं को बेहोशी का इंजेक्शन देने के बाद खुले में फर्श पर लिटा दिया गया। न गद्दे दिए और न ही कंबल। फैमिली मेंबर ने विरोध किया तो महिला कर्मियों की बजाए पुरुष कर्मियों ने इन्हें वार्ड में शिफ्ट किया। मामले की शिकायत महिला आयोग से की गई है। क्या है मामला....
    - दरअसल, डिस्ट्रिक्ट हॉस्पिटल में सोमवार को नसबंदी कैंप लगाया गया था।
    - इसके लिए 45 महिलाओं के रजिस्ट्रेशन कराए गए थे।
    -ऑपरेशन से पहले इन महिलाओं को बारी-बारी से बेहोशी के इंजेक्शन लगाया गया।
    - इसके बाद उन्हें अस्पताल के खुले आंगन में ऐसे स्थान पर लेटा दिया गया।
    - महिलाओं को लेटने के लिए फर्श बिछाया गया लेकिन न गद्दे बिछाए न ओढ़ने के लिए कंबल दिए।
    - इस हाल में साथ आई महिला परिजन ने शॉल व चादर ओढ़ाई। ऐसे में कुछ फैमिली मेंबर ने हंगामा खड़ा किया।
    - इस पर सिविल सर्जन डाॅ. अनिल कुमार सक्सेना ने पुरुष सुरक्षा गार्ड व सफाई कर्मचारी भेजकर महिलाओं को खुले मैदान से उठवाकर वार्ड में शिफ्ट कराया।
    बाद में वार्ड में शिफ्ट कर दिया था
    - सर्जिकल स्पेशलिस्ट के मुताबिक, 45 महिलाओं को बेहोशी का इंजेक्शन लगाने के बाद कुछ समय के लिए जमीन पर लिटाया गया था। बाद में सभी को वार्ड में शिफ्ट करा दिया था।
    महिला आयोग से शिकायत
    - जनवादी महिला समिति की संयोजिका सीमा दोनेरिया ने सोमवार को जिला अस्पताल में बेहोश महिलाओं को पुरुष कर्मचारियों से उठवाने के मामले को गंभीरता से लेते हुए इसकी शिकायत राज्य महिला आयोग प्रेसीडेंट लता वानखेड़े से की है। महिला समिति ने इसके लिए दोषी अफसर - कर्मचारियों को तुरंत सस्पेंड कराने की पेशकश की है।
    इन परिजन ने बताई अपनी पीड़ा
    एक घंटे से खुले में लेटी रही पत्नी
    - घुरघान से आए प्रमोद दीक्षित ने अपना दर्द बयां करते हुए कहा कि वे पत्नी पूनम (30) को जिला अस्पताल में नसबंदी ऑपरेशन के लिए लाए हैं।
    - बेहोश करने के बाद पूनम को अन्य महिलाओं के साथ जमीन पर फर्श पर लेटा दिया। एक घंटे से बेहोश महिलाओं की सिविल सर्जन व आरएमओ ने खैर-खबर तक नहीं ली।
    गंदी जगह लेटाया इन्फेक्शन की आशंका

    - वीरमपुरा से आए दिनेश शर्मा ने आपत्ति ली कि ऑपरेशन के लिए आईं महिलाओं के लिए अस्पताल प्रशासन ने सुरक्षित व्यवस्थाएं नहीं कीं।
    - ऑपरेशन से पहले महिलाओं को खुले में लिटा दिया, जहां गंदगी पसरी है।
    - ऐसे में उन्हें इन्फेक्शन हो सकता है। उनकी पत्नी भूरी को एक कंबल तक नहीं दिया।
    आगे की स्लाइड्स में देखे PHOTOS....
  • नसबंदी के दौरान 45 महिलाओं की जान से खिलवाड़, फोटो में दिखा ऐसा मंजर
    +4और स्लाइड देखें
  • नसबंदी के दौरान 45 महिलाओं की जान से खिलवाड़, फोटो में दिखा ऐसा मंजर
    +4और स्लाइड देखें
  • नसबंदी के दौरान 45 महिलाओं की जान से खिलवाड़, फोटो में दिखा ऐसा मंजर
    +4और स्लाइड देखें
  • नसबंदी के दौरान 45 महिलाओं की जान से खिलवाड़, फोटो में दिखा ऐसा मंजर
    +4और स्लाइड देखें
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Gwalior

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×