Hindi News »Madhya Pradesh News »Gwalior News» The Police Took Four Hours To Write An FIR

पुलिस ने एफआईआर लिखने में लगा दिए चार घंटे, हंगामे के बीच थमा रहा ट्रैफिक

Bhaskar News | Last Modified - Nov 14, 2017, 07:44 AM IST

घिसाई करते में करंट लगने से झुलसे मुनेंद्र राजावत ( 27) का शव रखकर परिजन ने सोमवार को हजीरा चौराहे पर चक्काजाम किया।
  • पुलिस ने एफआईआर लिखने में लगा दिए चार घंटे, हंगामे के बीच थमा रहा  ट्रैफिक
    +2और स्लाइड देखें
    ग्वालियर.सिटी सेंटर पटेल नगर में बन रहे मकान में फर्श की घिसाई करते में करंट लगने से झुलसे मुनेंद्र राजावत ( 27) का शव रखकर परिजन ने सोमवार को हजीरा चौराहे पर चक्काजाम किया। करीब 4 घंटे लोग परेशान रहे। दोपहर 2.40 बजे करीब मुनेंद्र का शव लेकर चौराहे पर पहुंचे परिजन ने ट्रैफिक पुलिस के बेरीकेड्स खींचकर चारों तरफ का रास्ता बंद कर दिया। उनकी मांग थी कि मुनेंद्र जिस मकान में काम कर रहा था, उसके मालिक बृजेश तिवारी के खिलाफ एफआईआर दर्ज की जाए। चक्काजाम के दौरान उन्होंने आसपास की दुकानें बंद कराने के साथ ही तोड़फोड़ भी की।
    - मुनेंद्र के भाई ऋषभ का आरोप था कि रविवार को सिटी सेंटर पटेल नगर में मकान के फर्श की घिसाई करते समय बाल्टी डाल देने से बृजेश ने मुनेंद्र को चांटा मारा आैर धक्का दे दिया।
    - इससे वह मशीन पर आ गिरा आैर करंट लगने से उसकी मौत हो गई। हादसा दोपहर 2 बजे हुआ, जबकि परिजन को इसकी खबर 5 घंटे बाद दी गई। अस्पताल में मुनेंद्र के इलाज में भी देरी हुई। अगर ठेकेदार आैर मकान मालिक उसे पास के अस्पताल में ले जाते तो जान बच सकती थी।
    - चार घंटे लोग परेशान होते रहे। अंत में पुलिस आैर प्रशासन ने परिजन की जिद मानी आैर मकान मालिक आैर ठेकेदार के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर ली गई। तब रास्ता खुला। जाम स्थल पर मुनेंद्र के परिजन ने बताया, उसके पिता महेश सिंह को 3 महीने पहले लकवा मार गया था। घर की जिम्मेदारी मुनेंद्र पर ही थी। छोटा भाई ऋषभ पढ़ता है।
    स्कूल बसें फंसी, बच्चे पैदल घर गए
    - स्कूली बच्चे फंसे: जाम में स्कूल की बसें भी फंसी, उनमें सवार बच्चे परेशान होते रहे। कई बार ड्राइवर ने जाम करने वालों व पुलिस से गुहार की लेकिन किसी ने नहीं सुनी। बाद में ड्राइवर ने बच्चों के परिजन को फोन किए तो वे बच्चों को लेने चौराहे पर पहुंचे। कुछ बच्चे बस से उतर कर पैदल ही घर गए।
    - फ्रांस के पर्यटक भी फंसे: इस दौरान वृद्ध विकलांग सीएल वर्मा भीड़ द्वारा बीच सड़क पर लगाए गए बैरीकेड में फंस कर गिर गए। बस पकड़ने के लिए बस स्टैंड जा रहे झांसी के विकलांग मोहम्मद शहजाद को चौराहे पर ऑटो-टेंपो नहीं मिले, तो वह पैदल ही तानसेन रोड़ की ओर चले गए।
    - बेरीकेड्स से टकराए : बुजुर्ग सीएल वर्मा घर से कुछ सामान लेने निकले थे। चक्काजाम कर रहे लोगों ने रास्ता बंद करने जो बेरीकेड्स लगाए थे, उनके बीच से निकलने की कोशिश में उलझकर गिर गए तो काफी देर तक सड़क पर ही पड़े रहे।
    घंटे भर बाद पहुंची पुलिस, तोड़फोड़ शुरू हुई तब पहुंचे एसडीएम
    - मुनेंद्र का शव लेकर परिजन करीब 2.40 बजे चौराहे पर पहुंचे। उनकी मांग थी- मकान मालिक आैर ठेकेदार के खिलाफ एफआईआर दर्ज करो। थाने की पुलिस आैर बाद में मौके पर पहुंचे सीएसपी देवेंद्र कुशवाह कहते रहे-पहले बयान होंगे , उसके बाद जांच, तब कायमी करेंगे। परिजन नहीं मानें।
    - चक्काजाम कर रहे लोगों ने दुकानें बंद करा तोड़फोड़ शुरू कर दी। देखते ही देखते हजीरा से पाताली हनुमान तक का बाजार बंद हो गया। तोेड़फोड़ की खबर मिलते ही शाम 5.30 बजे एसडीएम राघवेंद्र पांडे मौके पर पहुंचे। पुलिस ने आनन-फानन में पीड़ित परिवार के बयान लिए, जांच भी कर ली आैर एफआईआर दर्ज भी। इसके बाद 6.30 बजे रास्ता खुला।
    कांग्रेस-भाजपा के नेता हुए शामिल
    - मकान मालिक के खिलाफ प्रकरण दर्ज कराने की बात पर अड़े परिजनों की सुनवाई पुलिस द्वारा न किए जाने पर कांग्रेस के सुनील शर्मा व भाजपा के विक्रांत सिंह भदौरिया भी अपने समर्थकों के साथ मौके पर पहुंचे और धरना में शामिल होकर एसपी से बात की।
    - इसके बाद 6.30 बजे एफआईआर होेना शुरू हुई तब जाम खुला। सुनील शर्मा ने मृतक के परिजन को 10 हजार रुपए की आर्थिक सहायता भी दी।
  • पुलिस ने एफआईआर लिखने में लगा दिए चार घंटे, हंगामे के बीच थमा रहा  ट्रैफिक
    +2और स्लाइड देखें
  • पुलिस ने एफआईआर लिखने में लगा दिए चार घंटे, हंगामे के बीच थमा रहा  ट्रैफिक
    +2और स्लाइड देखें
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Gwalior News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: The Police Took Four Hours To Write An FIR
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

Stories You May be Interested in

      More From Gwalior

        Trending

        Live Hindi News

        0
        ×