मध्यप्रदेश / 57 साल बाद भिंड के मालनपुर में खुलेगा प्रदेश का दूसरा सैनिक स्कूल

Dainik Bhaskar

Feb 13, 2019, 04:05 PM IST


भिंड से पहले सैनिक स्कूल रीवा में खोला गया था। भिंड से पहले सैनिक स्कूल रीवा में खोला गया था।
X
भिंड से पहले सैनिक स्कूल रीवा में खोला गया था।भिंड से पहले सैनिक स्कूल रीवा में खोला गया था।
  • comment

  • सांसद भागीरथ प्रसाद के प्रयासों से भिंड में आया सैनिक स्कूल 

भिंड. मध्यप्रदेश के भिंड जिले के मालनपुर में प्रदेश के दूसरे सैनिक स्कूल का शुभारंभ लोकसभा चुनाव से पहले होगा। पहला सैनिक स्कूल रीवा में 57 साल पहले 1962 में खोला गया था। 

 

आधिकारिक जानकारी के अनुसार, ग्रुप कैप्टन रवि कुमार ने भिंड जिले के गोहद अनुविभाग के अनुविभागीय अधिकारी राजस्व (एसडीएम) डीके शर्मा, तहसीलदार एसएस प्रजापति को साथ लेकर मालनपुर में अस्थायी बिल्डिंग में सैनिक स्कूल खोलने के लिए तलाश शुरू की। रवि कुमार ने मालनपुर में बंद पडी हॉटलाइन फैक्ट्री की बिल्डिंग देखी। निजी विद्या आश्रम स्कूल का भवन भी देखा। उन्होंने बताया कि सैनिक स्कूल की खुद की बिल्डिंग तैयार होने तक संचालन अस्थायी बिल्डिंग में किया जाएगा।

 

सैनिक स्कूल सोसायटी को यहां स्कूल शुरू करने के लिए 10 क्लासरूम, 22 स्टाफ रेजीडेंस, खेल मैदान सहित फिलहाल करीब 5-7 एकड जमीन की आवश्यकता है। एसडीएम का कहना है अस्थायी भवन में स्कूल शुरू करने के लिए विद्या आश्रम का भवन को भी पसंद किया गया है। 

 

एसडीएम का कहना है मालनपुर में सैनिक स्कूल के लिए 50 एकड जमीन चिन्हित की गई है। रीवा का सैनिक स्कूल 260 एकड में बना है। सैनिक स्कूल कैंपस में 300 बच्चों के लिए हॉस्टल भी रहेगा। कल यहां निरीक्षण के बाद अब रवि कुमार दिल्ली पहुंचकर रिपोर्ट तैयार करेंगे। इसकी रिपोर्ट गुरुवार को रक्षा मंत्रालय भेजी जाएगी। इसके बाद मालनपुर में सैनिक स्कूल के शुभारंभ की तारीख तय की जाएगी।

 

2016 में हुई थी स्कूल खोलने की घोषणा : रक्षा मंत्रालय ने 57 साल पहले देशभर में सैनिक स्कूल शुरू किए थे। मध्यप्रदेश में रीवा जिले में 20 जुलाई 1962 में सैनिक स्कूल का शुभारंभ हुआ था। अब 57 साल बाद मध्यप्रदेश में दूसरा सैनिक स्कूल भिण्ड जिले में खुलने जा रहा है। सांसद डॉ भागीरथ प्रसाद ने सैनिक स्कूल की घोषणा फरवरी 2016 में भिण्ड-इटावा रेल लाइन के शुभारंभ के दौरान तत्कालीन मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से करवाई थी।

COMMENT
Astrology
Click to listen..
विज्ञापन
विज्ञापन
एप में पढ़ें