जन्मशती समारोह / राजमाता को याद कर भावुक हुए मुख्यमंत्री मां के लिए यशोधरा राजे के छलके आंसू

Dainik Bhaskar

Oct 13, 2018, 03:40 AM IST



कमल शक्ति सम्मेलन में आंसू पोंछती यशोधरा। कमल शक्ति सम्मेलन में आंसू पोंछती यशोधरा।
छत्री से निकाले गए चल समारोह में शामिल शहरवासी। छत्री से निकाले गए चल समारोह में शामिल शहरवासी।
X
कमल शक्ति सम्मेलन में आंसू पोंछती यशोधरा।कमल शक्ति सम्मेलन में आंसू पोंछती यशोधरा।
छत्री से निकाले गए चल समारोह में शामिल शहरवासी।छत्री से निकाले गए चल समारोह में शामिल शहरवासी।

  • सीएम ने छत्री पर पुष्पांजलि में कहा- पार्टी के विस्तार में अतुलनीय योगदान के लिए भाजपा रहेगी ऋणी
  • कमल शक्ति सम्मेलन में बोले- प्रदेश में बेटियों को सशक्त बनाकर पूरा करेंगे राजमाता का सपना 

ग्वालियर. राजमाता विजयाराजे सिंधिया के जन्मशती समारोह में शुक्रवार को पुष्पांजलि अर्पित करने आए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान भावुक हो गए। छत्री पर आयोजित कार्यक्रम में उन्होंने कहा- अम्मा महाराज से मेरा मां आैर बेटे का रिश्ता था। वे राजमाता होकर भी अपनी सरलता, सहजता आैर समर्पण के चलते लोगों के दिलों में लोकमाता बनकर बसी हैं।


उन्होंने जनसंघ की जड़ों को जमाने से लेकर भाजपा को आगे बढ़ाने तक में अतुलनीय योगदान दिया है। इसके लिए भाजपा उनकी ऋणी है। छत्री के बाद सीएम ने मंगल वाटिका में आयोजित भाजपा महिला मोर्चा के कमल शक्ति सम्मेलन में भी पहुंचे। वहां उन्होंने प्रदेश में बेटियों को सशक्त बनाकर अम्मा महाराज के सपनों को साकार करने की बात कही।  प्रदेश के खेल एवं युवा कल्याण मंत्री यशोधरा राजे सिंधिया की आंखें भी अपनी मां को याद कर छलक उठीं।


मुख्यमंत्री ने कहा- कुशाभाऊ ठाकरे के साथ मिलकर उन्होंने गांव-गांव घूमकर जनसंघ की जड़ों को जमाया। इसके बाद भाजपा को भी आगे बढ़ाया। देश सेवा के लिए अपनी तमाम संपत्ति दान कर दी।  आज हम उनका सौवां जन्मदिन मना रहे हैं। केंद्र सरकार ने इसके लिए आयोजन समिति गठित की है। प्रदेश सरकार साल भर कई कार्यक्रम आयोजित करेगी। भाजपा महिला मोर्चा की राष्ट्रीय अध्यक्ष विजया राहटकर ने कहा- महिलाआें की प्रगति के बिना समाज की, देश की प्रगति संभव नहीं है। प्रदेश अध्यक्ष लता ऐलकर ने कहा- हम सब राजमाता के बताए ध्येय पर आगे बढ़ें, यही उनके प्रति हमारी सच्ची श्रद्धांजलि होगी। इस मौके पर मंत्री माया सिंह, जयभान सिंह पवैया, महापौर विवेक शेजवलकर, अभय चौधरी, राकेश जादौन सहित कई वरिष्ठ नेता मंचासीन थे। संचालन सुमन शर्मा ने किया।
 

राजनीति में कमल थी राजमाता : वर्षों तक राजमाता के साथ रहने आैर काम करने वाली दिल्ली की मोहिनी गर्ग ने कहा- राजघराने की होकर भी वे अत्यंत सरल, सहज आैर सामान्य महिला की तरह  लोगों से मिलतीं थीं। वे राजनीति में होकर सचमुच में कमल थीं, कीचड़ से ऊपर।                                      

 

चल समारोह में छत्री से बाड़े तक चले पैदल : शाम को छत्री से राजमाता सिंधिया जन्मशती समारोह समिति ने चल समारोह निकाला। इसमें आगे-आगे बैंड आैर उसके पीछे फूलों से सजाए गए रथ पर  रखे राजमाता विजयाराजे सिंधिया के चित्र पर शहरवासियों ने पुष्पवर्षा कर स्वागत किया।  रथ के पीछे लोगों का पैदल काफिला था। इसमें मंत्री माया सिंह, यशोधरा राजे, महापौर विवेक शेजवलकर, पूर्व महापौर समीक्षा गुप्ता, महिला मोर्चा की अध्यक्ष खुशबू गुप्ता, मेला प्राधिकरण के पूर्व अध्यक्ष अनुराग बंसल, विवेक जोशी, संदीप जैन, विजय गर्ग आदि चल रहे थे।
 

सुबह हुए भजन : सुबह छत्री पर राजेंद्र पारिख आैर साथियों ने भजनों के साथ पुष्पांजलि अर्पित की। शैलेंद्र बरूआ, वेदपऱ्काश शर्मा, विवेक शेजवलकर, देवेश शर्मा मे विचार रखे। 

COMMENT