--Advertisement--

बैंडिट क्वीन कभी थी पुलिस का सिरदर्द, अब बीमार होकर पहुंची हॉस्पिटल

बैंडिट क्वीन कभी थी पुलिस का सिरदर्द, अब बीमार होकर पहुंची हॉस्पिटल

Danik Bhaskar | Dec 18, 2017, 04:00 PM IST
बैंडिट चंदा,ससुर ने टॉर्चर किय बैंडिट चंदा,ससुर ने टॉर्चर किय

ग्वालियर. डकैतों के साथ जंगलों में रह कर ग्वालियर-शिवपुरी के गांवों में दहशत बरपाने वाली बैंडिट क्वीन चंदा इन दिनों वायरल फीवर की चपेट में है। शिवपुरी में डिस्ट्रिक्ट हॉस्पिटल के स्पेशल मेडिकल वार्ड में रविवार को पुलिस ने शिवपुरी की जेल में बंद दस्यु सुंदरी चंदा को एडमिट कराया गया है। जेल एडमिनिस्ट्रेशन ने बताया कि चंदा की अचानक तबियत खराब हो गई। जेल के डॉक्टर्स ने उसे डिस्ट्रिक्ट हॉस्पिटल रैफर कर दिया।

- बैंडिट चंदा का इलाज कर रहे डॉ.आलोक श्रीवास्तव के मुताबिक चंदा को कोई वायरल इंफेक्शन हुआ है, जिस वजह से उसे फीवर हुआ है। सोमवार शाम उसकी पैथोलोजी रिपोर्ट्स आएंगी तब उसकी बीमारी का पता चलेगा।

फूलन देवी की तरह सांसद बनना चाहती थी चंदा
- पति को छोड़ डकैत चंदन गड़रिया की गैंग में शामिल हुई बैंडिट चंदा महज 64 दिन के डकैत जीवन में सुर्खियों में आ गई थी। पकड़े जाने के बाद चंदा ने पूछताछ में पुलिस को बताया है कि उसकी शादी वीरपाल से हुई थी।

- चंदा का ससुर उसे टॉर्चर करता था, आखिरकार चंदा को मायके में आने का मौका मिला। वहां उससे मिलने ममेरा भाई डकैत चंदन आने लगा।

- चंदा ने चंदन को ससुराल में अपने टॉर्चर की बात बताई। चंदन ने उसे सहानुभूति में लेकर नजदीकी बढ़ाई और सपने दिखा कर कहा तुम हमारे गैंग में आ जाओ।

- चंदन ने चंदा को सब्जबाग दिखाए थे कि दोनों मिलकर गैंग चलाएंगे, किडनैप की फिरौती से पैसा वसूलेंगे। पैसा जमा हो जाएगा, और चंदा फूलनदेवी की तरह बैंडिट क्वीन के तौर पर मशहूर हो जाएगी।

- इसके बाद सरेंडर करेंगे, जेल से निकलने के बाद जमा पैसे से बिजनेस करेंगे और चंदा को चुनाव में जिता कर फूलन देवी की तरह सांसद बनाएंगे।


वीआईपी मूवमेंट पर हुई कार्रवाई
- 30 जनवरी 2016 को शिवपुरी में केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर का दौरा थाय़ उस दिन पुलिस ने चंदन गड़रिया को एनकाउंटर में मार डाला था। उस वक्त बताया गया कि चंदा गिरोह के साथ भाग कर बच निकलने में कामयाब हो गई।
-12 फरवरी 2016 को मंत्री यशोधरा राजे शिवपुरी में थीं तो बैंडिट चंदा को गिरफ्तार कर लिया गया। उसकी चंदन के साथ प्रेम कहानी तो 30 जनवरी को ही खत्म हो गई थी। गिरफ्तारी के साथ बैंडिट क्वीन फूलन देवी बनने के सपने भी टूट गए।