• Home
  • Mp
  • Gwalior
  • British Air Force sea plane landing on scindia state tighra dam
--Advertisement--

सिंधिया स्टेट के इस डैम में ब्रिटिश एयरफोर्स के उतरते थे प्लेन

सिंधिया स्टेट के इस डैम में ब्रिटिश एयरफोर्स के उतरते थे प्लेन

Danik Bhaskar | Dec 13, 2017, 11:15 AM IST
70 साल पहले दूसरे विश्व युद्ध के 70 साल पहले दूसरे विश्व युद्ध के

ग्वालियर. गुजरात चुनाव के आखिरी दिन प्रधानमंत्री मोदी सी-प्लेन से गुजरात पहुंचे। उनका प्लेन यहां साबरमती नदी में उतरा। लेकिन 70 साल पहले एमपी के ग्वालियर शहर के तिघरा डैम में ब्रिटिश एयरफोर्स के सी-प्लेन उतरते थे। यह डैम सिंधिया राजवंश का था और आज भी इससे ग्वालियर के पानी सप्लाई होता है। ये प्लेन दूसरे वर्ल्ड वॉर के समय ग्वालियर में फ्यूल लेने के लिए आते थे। बाद में इन्हीं प्लेन से प्रेरणा लेकर जीवाजीराव सिंधिया ने खुद की एविएशन कंपनी तक बना ली।


-ग्वालियर में सांक नदी पर तिघरा डैम बना है। करीब 100 साल पुराने इस डैम का निर्माण सिंधिया राजवंश ने कराया था। जब दूसरा विश्व युद्ध हुआ तो ब्रिटिश एयरफोर्स के प्लेन ग्वालियर आने लगे।
-इसमें से कुछ प्लेन सी-प्लेन थे, जो पानी में उतर सकते थे। ऐसे कुछ प्लेन तिघरा डैम पर ब्रिटिश एयरफोर्स लेकर आती थी। यहां से ये प्लेन फ्यूल रिफिलिंग करते थे और फिर युद्ध के मैदान में पहुंच जाते थे।
-तिघरा में जहां पहले ब्रिटिश एयरफोर्स ने अपना अड्डा बनाया, वहां पर अब एमपी पुलिस का सिपाहियों को ट्रेनिंग देने वाला सेंटर हैं।


सिंधिया ने जलाशय के पास बनाया गेस्टहाउस
-ब्रिटिश सैन्य अफसरों को यह झील प्लेन उतारने के लिए ठीक लगी और उनके एयरक्राफ्ट ने इस जलाशय से कई उड़ानें भरीं। उस समय ग्वालियर स्टेट के महाराज जीवाजीराव सिंधिया को यह प्लेन बहुत पसंद आया।
-उन्होंने तिघरा जलाशय के पास एक गेस्ट हाउस बना दिया, जिसमें ब्रिटिश अफसर आते थे। आज भी ऐसे कई फोटोज हैं, जिसमें सी-प्लेन तिघरा में उतरता हुआ नजर आता है।

-इसका उल्लेख ब्रिटिश सरकार के एम्पीरियल वार म्यूजियम में हैं। इस म्यूजियम में फोटा का विवरण इस प्रकार लिखा है। (British Overseas Airways corporetion and Qantas , 1940- 45 Sort S- 23 C class Empire Flying Boat, G-ADUV Corsair Moored on the Lake of Gwalior India)


जीवाजीराव ने बनाई एविएशन कंपनी
-दूसरे विश्वयुद्ध के बाद महाराज सिंधिया ने अंग्रेजों से तीन-चार एयरक्राफ्ट को लेकर एक एविएशन कंपनी भी बनाई, लेकिन वह ज्यादा नहीं चली। लिहाजा जीवाजीराव सिंधिया ने ये विमान बेच दिए।


1960 में बना पुलिस स्कूल
-देश के आजाद होने के बाद गेस्ट हाउस वीरान पड़ा रहा। बाद में मध्य प्रदेश के आईजी रहे केएफ रुस्तमजी ने पुलिस के सिपाहियों को ट्रेनिंग देने वाला एक स्कूल बना दिया। अब इस स्कूल में 1000 से ज्यादा सिपाही ट्रेनिंग लेते हैं।