--Advertisement--

जिस नगर परिषद अध्यक्ष के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव लाई भाजपा, वह फिर से जीत गई

जिस नगर परिषद अध्यक्ष के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव लाई भाजपा, वह फिर से जीत गई

Danik Bhaskar | Jan 20, 2018, 12:20 PM IST
बसपा की संगीता यादव फिर से चुन बसपा की संगीता यादव फिर से चुन

ग्वालियर. भिंड जिले की अकोड़ा नगर परिषद उपचुनाव में बसपा की प्रत्याशी ने जीत हासिल की है। बसपा को कांग्रेस का समर्थन भी हासिल था। बसपा प्रत्याशी ने 676 वोटों से यह जीत हासिल की है। बसपा प्रत्याशी के लिए भाजपा ही अविश्वास प्रस्ताव लेकर आई थी।

MP के नगरीय निकाय चुनावों में BJP-कांग्रेस को 9-9 सीटें, नगर पालिकाओं में कांग्रेस की बड़ी जीत


-कुछ दिन पहले भाजपा ने नगर परिषद अध्यक्ष संगीता यादव के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव पारित किया था। इसके बाद 16 जनवरी को खाली कुर्सी के लिए मतदान हुआ।
-अब मतदान का रिजल्ट आया तो अकोड़ा की जनता ने फिर से संगीता यादव को अध्यक्ष के लिए निर्वाचित करवा दिया। संगीता यादव बसपा की नेता हैं और उन्हें यह जीत 676 वोटों से हासिल हुई है।

नगर निकाय : कांग्रेस ने किया धार में बड़ा उलटफेर, 9 में से 5 पर कांग्रेस के अध्यक्ष


-बसपा की संगीता यादव को कांग्रेस का समर्थन भी हासिल था। बसपा की संगीता यादव को हराने के लिए भाजपा के भिंड विधायक नरेन्द्र सिंह कुशवाह ने पूरी ताकत लगा दी थी।
-इसके बाद भी बसपा ने फिर से बाजी मार ली। अकोड़ा की जीत को इसी साल के अंत में होने वाले विधानसभा चुनाव से भी जोड़कर देखा जा रहा है।

क्या है खाली कुर्सी-भरी कुर्सी
- सीधे जनता द्वारा चुने निकाय जनप्रतिनिधि के खिलाफ जब पार्षद बहुमत के साथ अविश्वास प्रस्ताव लाते हैं तो खाली कुर्सी -भरी कुर्सी के लिए चुनाव होता है। इसमें जनता वोट डालती है। दो उम्मीदवार होते हैं। एक भरी कुर्सी और एक खाली कुर्सी। यदि भरी कुर्सी जीतती है तो वर्तमान जनप्रतिनिधि अपने पद पर बना रहेगा और यदि खाली कुर्सी जीतती है तो वर्तमान जनप्रतिनिधि हट जाएगा।

अटेर में 134 वोट से पूजा ने गीता को हराया
- अटेर जनपद पंचायत के वार्ड क्रमांक 25 से पूजा हिरेंद्रप्रताप सिंह निवासी पुर सदस्य चुनी गई है। उन्होंने अपने निकटतम प्रतिद्वंदी गीता पत्नी राजेश परिहार को 134 वोट से हराया है। पूजा को 752 वोट तथा गीता को 618 वोट प्राप्त हुए थे।

- यहां बता दें कि अटेर जनद के वार्ड 25 की सदस्य कपूरी पत्नी धीर सिंह की आठ माह पहले बीमारी के चलते निधन हो गया था, जिससे यह पद खाली हो गया था। इसके लिए हुए उपचुनाव में कुल छह प्रत्याशी चुनाव मैदान में उतरे थे, जिसमें पांच सिर्फ पुर गांव से थे।