Hindi News »Madhya Pradesh »Gwalior» Dacoit Worship With Bell This Temple, Now Devotees Directly Reached By Car

कभी डकैत चढ़ाते थे इस माता मंदिर में घंटा, अब सीधे कार से पहुंच सकेंगे भक्त

कभी डकैत चढ़ाते थे इस माता मंदिर में घंटा, अब सीधे कार से पहुंच सकेंगे भक्त

Sameer Garg | Last Modified - Jan 02, 2018, 12:07 PM IST

ग्वालियर. घने जंगल में मां लखेश्वरी देवी का मंदिर। इस मंदिर में चंबल के कई डकैतों ने पूजा करके पीतल के घंटे चढ़ाए हैं। पहले यहां पहाड़ी चढ़नी होती थी। 37 साल पहले यहां 710 सीढ़ियां बना दीं। अब मंदिर तक पहुंचने के लिए करीब 5 किमी की सड़क बनाई जा रही है, जिससे भक्त सीधे कारों से ऊपर जा सकेंगे। इसकी ऊंचाई करीब 460 फीट है। नवरात्रि में यहां लाखों भक्तजन पहुंचते हैं।ऐसा है इस मंदिर का एरियल व्यू.......

-ग्वालियर की भितरवार तहसील के जंगलों में मां लखेश्वरी देवी का मंदिर पहाड़ी पर बना है। ऐसा माना जाता है कि इस मंदिर में देवी प्रतिमा की स्थापना राजा नल ने की थी। पुराने जमाने में लोग कष्ट उठाकर घने जंगल में स्थित इस मंदिर में पहुंचते थे।

-1981 में इस मंदिर में पहुंचने के लिए सीढ़ियां बना दी गई। 460 फीट ऊंची पहाड़ी पर बने इस मंदिर तक पहुंचने के लिए 710 सीढ़ियां भक्त चढ़ते हैं। मंदिर में नवरात्रि और एकादशी पर कई राज्यों से लाखों भक्त पूजा करने आते हैं।

चंबल के डकैत चढ़ाते हैं यहां पीतल का घंटा

-ऐसी मान्यता है कि मां लखेश्वरी देवी पर पीतल का घंटा चढ़ाओ तो मनौतियां पूरी होती हैं। आम भक्तों के अलावा पुराने समय में चंबल के डकैत यहां घंटा चढ़ाते थे।

-कुख्यात डकैत त दयाराम रामबाबू गड़रिया गिरोह ने 2006 में लखेश्वरी माता मंदिर पर 111 किलो का घंटा चढ़ाया था। गिरोह के खत्म होने के बाद परिवार के किसी सदस्य ने इतने ही वजन का दूसरा घंटा 2015 में चढ़ाया जिसे प्रशासन ने हटवा दिया।

पहाड़ी काटकर बनाई जा रही है सड़क

-भक्त मां लखेश्वरी देवी के दर्शन करने आसानी से पहुंच सकें, इसके लिए सरकार रानीघाटी से लखेश्वरी माता मंदिर तक सड़क स्वीकृत हुई है। 4.75 किमी लंबी सड़क वन क्षेत्र से होते हुए पहाड़ी काटकर बनाई जाएगी।

-सड़क बनने के बाद भक्तों के वाहन सीधे मंदिर परिसर तक पहुंच सकेंगे। मप्र सरकार का ग्रामीण सड़क विकास प्राधिकरण इस सड़क को करीब 7 करोड़ रुपए की लागत से बनाएगा।

-वाहन सीधे मंदिर परिसर के पास तक पहुंच सकेंगे। मप्र ग्रामीण सड़क विकास प्राधिकरण द्वारा सड़क निर्माण के लिए 687.28 लाख रुपए की राशि स्वीकृत की गई है।

मैहर माता जैसा हो जाएगा मंदिर

-यह सड़क ठीक उसी प्रकार से बनेगी, जैसे मैहर वाली माता मंदिर की बनी है। सतना में मैहर वाली माता का मंदिर 600 फीट की ऊंचाई पर है। पहले भक्तों को यहां पहुंचने के लिए एक हजार से ज्यादा सीढ़ियां चढ़नी होती थीं। अब वहां सड़क से सीधे वाहन ऊपर पहुंच जाते हैं।

स्लाइड्स में है मां लखेश्वरी मंदिर के फोटोज...........

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Gwalior

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×