Hindi News »Madhya Pradesh »Gwalior» My Family Is Poor, Wrote On Tribals House, Notice Given By Human Rights Commission

गरीबों के घर पर लिखा मैं गरीब हूं

गरीबों के घर पर लिखा मैं गरीब हूं

Sameer Garg | Last Modified - Dec 16, 2017, 05:58 PM IST

ग्वालियर. एक ओर एमपी के मुख्यमंत्री शिवराज सहरिया आदिवासियों के लिए कई घोषणाएं कर रहे हैं, वहीं शिवपुरी के अफसरों ने आदिवासियों से मजाक करते हुए उनके घर पर लिखवा दिया, वे गरीब हैं। इसके बाद एक लॉ स्टूडेंट ने राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग से इसकी शिकायत की तो आयोग ने अफसरों को नोटिस देकर जबाव मांगा है। यह है मामला.......

-यह मामला शिवपुरी जिले के विनेगा गांव का है। इस गांव में सहरिया आदिवासी रहते हैं। ज्यादातर आदिवासी गरीब हैं और सभी के पास बीपीएल कार्ड है।

-गांव के लोगों ने बताया कि दो महीने पहले अफसर आए और उन्होंने घर की दीवार पर लिख दिया कि मेरा परिवार गरीब है। अफसरों ने आदिवासियों से कहा कि उन्हें गेहूं, चावल सहित दूसरी सरकारी योजनाओं का लाभ मिलने लगेगा।

-हालांकि आदिवासियों की शिकायत है कि उन्हें समय पर राशन नहीं मिला और साथ ही पीएम आवास सहित दूसरी योजनाओं का लाभ भी नहीं मिल रहा है।

लॉ स्टूडेंट की शिकायत पर नोटिस जारी
-सहरिया आदिवासी परिवारों के साथ हो रहे इस भेदभाव की शिकायत उड़ीसा लॉ कॉलेज के छात्र अभय जैन ने राष्ट्रीय मानव अधिकार आयोग को की है। इस शिकायत के बाद राष्ट्रीय मानव अधिकार आयोग हरकत में आया है।

-लॉ स्टूडेंट अभय जैन ने बताया कि आयोग ने शिवपुरी जिला प्रशासन और मप्र सरकार से उक्त मामले में नोटिस जारी कर चार सप्ताह में जबाव मांगा है। शिकायतकर्ता अभय जैन ने कहना है कि यहां पर आदिवासी परिवारों की गरीबी का मजाक उड़ाया जा रहा है।

-उल्लेखनीय है कि एक हफ्ते पहले सीएम शिवराज सिंह सेसई में आयोजित सहरिया सम्मेलन में आदिवासियों के विकास के लिए करोड़ों रुपए के बजट वाली घोषणाएं की थीं।

स्लाइड्स में है इस मामले के फोटोज..........

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Gwalior News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: aadivaasiyon ke ghr par likhaa meraa parivaar garib hai , maanv adhikar aayoga ne diyaa Notice
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From Gwalior

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×