--Advertisement--

जेल में मिली पतली दाल और सूखी रोटी तो शुरू कर दिया इस कैदी ने अनशन, अब ढ्ढष्ट में भर्ती

जेल में मिली पतली दाल और सूखी रोटी तो शुरू कर दिया इस कैदी ने अनशन, अब ढ्ढष्ट में भर्ती

Danik Bhaskar | Jan 23, 2018, 03:38 PM IST
कैदी दीपक तनेजा, जिसने खराब भो कैदी दीपक तनेजा, जिसने खराब भो

ग्वालियर. सेंट्रल जेल में एक कैदी से खाने के एवज में रुपए मांगे गए। जब उसने इनकार किया तो उसके पतली दाल और सूखी रोटी देनी शुरू कर दी। इसके विरोध में कैदी ने खाना छोड़ दिया और अनशन शुरू कर दिया। अब इस कैदी की हालत बिगड़ गई और उसे मेडिकल कॉलेज के आईसीयू में भर्ती कराया गया है। परिजनों का कहना है कि कैदी को जेल में मारने की साजिश की जा रही है। यह है मामला......


-एक मर्डर के मामले में दीपक तनेजा पिछले 5 साल से सेंट्रल जेल में है। वह जब भी पेशी पर आता था तो उससे जेल के सिपाही दो हजार रुपए की मांग करते थे। इसकी शिकायत दीपक ने जेल के वरिष्ठ अफसरों से की।
-इसके बाद उसे जेल में दाल का पानी और सूखी और कच्ची रोटी देनी शुरू कर दी। दीपक ने यह खाना खाने से मना कर दिया। उसने मांग की कि जेल के नियमों के मुताबिक भोजन दिया जाए।
-इसके बाद भी उसे सही भोजन नहीं मिला तो दीपक ने खाना छोड़ दिया। इससे उसकी तबीयत खराब हो गई। दीपक की मां ने कलेक्टर से लेकर मुख्यमंत्री तक शिकायत की, लेकिन कोई हल नहीं निकला।

अनशन के बाद तबीयत बिगड़ी

-दो दिन पहले दीपक की हालत ज्यादा खराब हो गई तो उसे मेडिकल कॉलेज के आईसीयू में भर्ती कराया गया है। हॉस्पिटल में दीपक की हालत खराब बनी हुई है। दीपक ने बताया कि जेल में जमकर जातिवाद चलता है और जो कैदी घर से रुपए मंगाकर देते हैं, उन्हें अच्छा भोजन दिया जाता है।
-वहीं जेल अधीक्षक एनपी सिंह का कहना है कि जेल में भेदभाव के आरोप गलत हैं। 3हजार कैदी इस समय जेल में हैं और प्रतिदिन 18 हजार रोटियां मिलती हैं। जेल मैनुअल के हिसाब से सभी को दाल-रोटी और सब्जी दी जा रही है।