Hindi News »Madhya Pradesh News »Gwalior News» After Son Death, Fatherinlaw Married Widow Daughterinlaw

ससुर ने अपनी बहू की फिर से की शादी, शादी के दो महीने बाद हुई थी बेटे की मौत

संजय पाठक/वीरेन्द्र श्रीवास्तव | Last Modified - Nov 05, 2017, 08:47 AM IST

वे उन लोगों के लिए भी प्रेरणास्रोत बने, जो आज भी विधवा विवाह को कुरीति मानते हैं।
  • ससुर ने अपनी बहू की फिर से की शादी, शादी के दो महीने बाद हुई थी बेटे की मौत
    +4और स्लाइड देखें
    नेहा के ससुर राजू श्रीवास ने पिता बनकर नेहा का कन्यादान किया

    भिंड।डेढ़ साल पहले बेटे के गुजर जाने के बाद राजू श्रीवास ने बहू नेहा को बेटी मान लिया था। देवउठनी ग्यारस को उन्होंने सामूहिक विवाह सम्मेलन में इसी बहू का कन्यादान किया तो हर किसी की आंखें भर आईं। न सिर्फ पूरे समाज ने उनकी पहल को सराहा बल्कि कई लोग इस नव युगल की मदद को आगे भी आए। वे उन लोगों के लिए भी प्रेरणास्रोत बने, जो आज भी विधवा विवाह को कुरीति मानते हैं।ऐसे ससुर ने किया बहू को विदा.......

    -राजस्थान के किशनगढ़ निवासी राजू श्रीवास के बेटे टिंकू की शादी पिछले साल अप्रैल में नेहा से हुई थी। शादी के दो महीने बाद टिंकू की मौत एक एक्सीडेंट में हो गई ।

    -पति की मृत्यु के बाद नेहा के जीवन में अंधेरा छा गया। उसने सास ससुर की माता पिता की तरह ख्याल रखना शुरू किया। जवान बेटे के मौत के गम ने नेहा के सास और ससुर को भी तोड़कर रख दिया था।

    -बहू ने जब बेटी की तरह सहारा दिया तो टिंकू के माता-पिता ने खुद को संभाला। हिम्मत जुटाई और उसे नई जिंदगी की शुरुआत करने के लिए मनाया।

    -पहले तो नेहा ने साफतौर पर मना कर दिया। सास-ससुर और अन्य रिश्तेदारों के समझाने बुझाने के बाद बमुश्किल राजी हुई। इसके बाद ससुर ने उसके लिए लड़का खोजना शुरू कर दिया।

    सामूहिक विवाह सम्मेलन में हुई शादी

    -उनकी तलाश भिंड में पूरी हुई। नेहा का रिश्ता मातादीन का पुरा में रहने वाले लक्ष्मी श्रीवास के बेटे अमन से तय हो गया। देवउठनी एकादशी के दिन सामूहिक विवाह सम्मेलन में नेहा और अमन की शादी हो गई।

    -राजू श्रीवास ने विधवा बहू नेहा को बेटी मानते हुए उसका कन्यादान किया। इसके साथ उन्होंने यही कहा कि नेहा का मायका उनका घर है और उन्होंने इसे विदा किया।

    समाज के कुछ लोगों ने किया विरोध
    -विधवा नेहा के पुनर्विवाह में समाज के कुछ लोगों ने समाज और रीति-रिवाज की दुहाई देते हुए अड़ंगा लगाने की कोशिश भी की। इसके बाद भी राजू श्रीवास ने बहू की शादी में रोक नहीं लगाई।

    -बाद में समाज के कुछ लोगों ने इस शादी का समर्थन किया और भिंड की बांके बिहारी सेवा समिति के लोगों शादी में मदद की।

    -अब इस विवाह के बाद सभी लोग राजू श्रीवास के इस निर्णय की तारीफ कर रहे हैं। वहीं राजू श्रीवास का कहना है कि ऐसे विधवा विवाह के लिए समाज के लोगों को ही आगे आना चाहिए।

    स्लाइड्स में देखिए इस शादी से जुड़े फोटोज.....

  • ससुर ने अपनी बहू की फिर से की शादी, शादी के दो महीने बाद हुई थी बेटे की मौत
    +4और स्लाइड देखें
    भिंड के अमन के साथ हुई नेहा की दूसरी शादी
  • ससुर ने अपनी बहू की फिर से की शादी, शादी के दो महीने बाद हुई थी बेटे की मौत
    +4और स्लाइड देखें
    भिंड में एक सामूहिक सम्मेलन में हुई नेहा की शादी
  • ससुर ने अपनी बहू की फिर से की शादी, शादी के दो महीने बाद हुई थी बेटे की मौत
    +4और स्लाइड देखें
    सामूहिक सम्मेलन में शामिल हुए हजारों लोग
  • ससुर ने अपनी बहू की फिर से की शादी, शादी के दो महीने बाद हुई थी बेटे की मौत
    +4और स्लाइड देखें
    सामूहिक सम्मेलन में हुआ नेहा और अमन की शादी
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Gwalior News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: After Son Death, Fatherinlaw Married Widow Daughterinlaw
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

Stories You May be Interested in

      More From Gwalior

        Trending

        Live Hindi News

        0
        ×