Hindi News »Madhya Pradesh »Gwalior» Amit, Could Not Get Admission In IIM, Now He Lectures There

साइंस-मैथ में फेल होने वाले ढ्ढढ्ढरू में एडमिशन नहीं ले सके, अब वहीं मैनेजमैंट पर लेक्चर देते हैं अमित

साइंस-मैथ में फेल होने वाले ढ्ढढ्ढरू में एडमिशन नहीं ले सके, अब वहीं मैनेजमैंट पर लेक्चर देते हैं अमित

Sameer Garg | Last Modified - Nov 06, 2017, 11:42 AM IST

ग्वालियर.स्कूल में साइंस और मैथ में फेल होने वाले अमित कासलीवाल IIM में एडमिशन नहीं ले सके। कॉमर्स में ग्रेजुएशन करने के बाद इंदौर से एमबीए किया और कई नौकरियां करने के बाद 10 साल में एक MNC में इंडिया के कॉर्पोरेट हैड बन गए। अब उसी IIM में वे मैनेजमेंट के लेक्चर देने जाते हैं, जिसमें वे एडमिशन नहीं ले सके थे।
-अमित कासलीवाल के पिता एक दुकान चलाते हैं। ग्वालियर की जीवाजी यूनिवर्सिटी से कॉर्मस ग्रेजुएट अमित स्कूल में साइंस और मैथ में फेल होते रहते थे।
-ग्रेजुएशन के बाद अमित ने IIM में एडमिशन लेने की कोशिश की, लेकिन कुछ पारिवारिक परिस्थितियां और कठिन टेस्ट के कारण वे सफल नहीं हो पाए।
-उन्होंने हिम्मत नहीं हारी और ग्रेजुएशन के बाद ही जॉब करना शुरू कर दिया। इसके बाद इंदौर की होल्कर यूनिवर्सिटी से एचआर में एमबीए कर लिया।
-शुरुआत में उन्होंने मात्र 8000 रुपए प्रति माह की सेलरी वाला जॉब किया। इस बीच शादी हो गई तो दूसरा जॉब गुरुग्राम में जाकर किया।
फोर्ड इंडिया से चमकी अमित की किस्मत
-इसके बाद उन्होंने फोर्ड मोटर में जॉब के लिए एप्लाई किया, लेकिन कंपनी ने उन्हें चेन्नई जाने के लिए कहा। वे वाइफ को छोड़कर चेन्नई चले गए।
यहां से उनकी तरक्की हुई। कंपनी ने उन्हें कई जिम्मेदारियां दीं, जिसे अमित ने बखूबी से निभाया और आज वे कंपनी के कॉर्पोरेट हैड हैं।
अब अमित IIM में बताते हैं मैनेजमेंट के गुर
-इस सफलता के बाद वे IIM अमित को अपने स्टूडेंट्स को मैनेजमैंट फंडे बताने के लिए बुलाते हैं, जहां वे एडमिशन नहीं ले पाए। अब वे IIM संबलपुर और काशीपुर में नियमित रूप से मैनेजमैंट के लेक्चर देने जाते हैं।
-अमित बताते हैं कि वे स्टूडेंट्स को कभी सक्सेस फंडे नहीं बताते, बल्कि आप लाइफ में फेल कैसे हो सकते हैं, यह बताते हैं। वे कहते हैं कि सक्सेस कैसे पानी है, ये सभी को पता होता है।
अमित बताते हैं कि लोग फेल कहां होते हैं
-अमित के मुताबिक सफलता बताने के लिए कई एक्सपर्ट और मोटीवेटर पहले से मौजूद हैं। इसके अलावा कई बुक्स भी मार्केट में उपलब्ध हैं। इतना सब कुछ होने के बाद भी लोग बिजनेस-कॉर्पोरेट वर्ल्ड में असफल हो रहे हैं।
-इसलिए वे लोगों को बताते हैं कि फेल होने से कैसे बचें। अमित ने बताया कि उन्होंने उन लोगों पर स्टडी की, जो कई बार फेल हुए और फिर सफलता प्राप्त की।
जॉब के साथ जारी रखा पढ़ना
-अमित ने फोर्ड कंपनी में जॉब के साथ-साथ पढ़ाई भी रखी। हाल ही उन्होंने फ्रांस से INSERD का एक कोर्स किया है। इस कोर्स को केवल वही लोग कर सकते हैं, जिनको मार्केटिंग का 10 साल का अनुभव हो।
स्लाइड्स में है अमित कासलीवाल से जुड़े फोटोज.......
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Gwalior

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×