--Advertisement--

समाचार-२

समाचार-२

Dainik Bhaskar

Nov 16, 2017, 11:20 AM IST
हिंदू महासभा ने कांग्रोस को दी हिंदू महासभा ने कांग्रोस को दी

ग्वालियर. महात्मा गांधी के हत्यारे नाथूराम गोडसे की मूर्ति व मंदिर का विरोध कर रही कांग्रेस ने SP को ज्ञापन देकर मूर्ति हटाने के लिए 3 दिन का अल्टीमेटम दिया है। कांग्रेस ने चेतावनी दी है 3 दिन में मूर्ति नहीं हटाई तो कांग्रेस निर्णायक आंदोलन करेगी। कांग्रेस ने मूर्ति लगाने वालों के खिलाफ राष्ट्रद्रोह का मामला दर्ज किए जाने की मांग भी की। हिंदू महासभा ने कहा निजी संपत्ति में दखलंदाजी का देंगे मुंहतोड़ जवाब.....



- गोडसे की प्रतिमा हटाने के लिए जन जागृति फाउंडेशन ने एसपी को ज्ञापन सौंपा। उन्होंने मांग की कि गोडसे की प्रतिमा को तत्काल प्रभाव से हटाया जाए। इससे शहर की छवि पूरे विश्व में दागदार होती है।

- कांग्रेस कार्यालय में भी इस मामले को लेकर हुई बैठक में गोडसे की मूर्ति स्थापित करने की कड़ी निंदा की गई और प्रशासन से मांग की गई कि दोषियों के खिलाफ कार्रवाई की जाए। कांग्रेस ने बाद में एसपी को ज्ञापन सौंपकर कार्रवाई की मांग की और कार्रवाई के लिए 3 दिन का अल्टीमेटम दिया। कांग्रेस ने ज्ञापन में कहा कि कार्रवाई नहीं की गई तो कांग्रेस आंदोलन के लिए बाध्य होगी।

- कांग्रेस के अल्टीमेटम के जवाब में हिंदू महासभा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष जयवीर भारद्वाज ने कांग्रेस को इस मामले में दूर रहने की चेतावनी देते हुए कहा कि हिंदू महासभा अपनी निजी संपत्ति में दखलंदाजी का मुंहतोड़ जवाब देने के लिए तैयार है।

- हिन्दू महासभा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष ने साफ कहा कि गोडसे की मूर्ति पार्टी की निजी संपत्ति की इमारत में लगी है। यदि यहां किसी राजनैतिक दल ने उपद्रव किया तो उसकी जिम्मेदारी पुलिस प्रशासन की होगी। इसके बाद भी हरकत हुई तो हिमस विरोध करने वालों को मुहतोड़ जवाब देगी।

- गौरतलब है कि हिंदू महासभा ने बुधवार को शहर में अपने दफ्तर को मंदिर का रूप दे दिया, और यहां महात्मा गांधी के हत्यारे नाथूराम गोडसे की मूर्ति लगा दी। बुधवार को हिंदू महासभा ने नाथूराम गोडसे का बलिदान दिवस मनाते हुए इस मूर्ति की आरती उतारी। 15 नवंबर 1949 को गोडसे को अंबाला जेल में महात्मा गांधी की हत्या के आरोप में फांसी दी गई थी।

ऑफिस को क्यों बनाया मंदिर?

- भारद्वाज के मुताबिक, गोडसे जब भी ग्वालियर आते थे, वे इसी ऑफिस में रुकते थे। ऐसे में अब इसे मंदिर का रूप दे दिया गया है।
- मौके पर मौजूद लोगों के मुताबिक, गोडसे की पूजा-आरती के वक्त दो पुलिसवाले आए, लेकिन पूछकर चले गए।

कब हुई महात्मा गांधी की हत्या?
- 30 जनवरी, 1948 की शाम सवा पांच बजे नाथूराम गोडसे ने दिल्ली के बिड़ला भवन में गांधी जी के सीने में बैरेटा पिस्टल से तीन गोलियां दाग दी थीं, जिससे उनकी मौत हो गई थी। उस वक्त गांधी जी शाम की प्रार्थना के लिए जा रहे थे।

स्लाइड्स में है कांग्रेस ऑफिस में मूर्त हटाने आोदलन के लिए मीटिंग और गोडसे की मूर्ति...

X
हिंदू महासभा ने कांग्रोस को दीहिंदू महासभा ने कांग्रोस को दी
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..