--Advertisement--

कंटेनर ने बाइक को मारी टक्कर, मां-बेटी की हुई मौत, ट्रेन से उतर कर रिश्तेदार के साथ आ रहे थे बाइक से

कंटेनर ने बाइक को मारी टक्कर, मां-बेटी की हुई मौत, ट्रेन से उतर कर रिश्तेदार के साथ आ रहे थे बाइक से

Danik Bhaskar | Nov 28, 2017, 12:42 PM IST
2 साल की सिमन्या व मां को याद कर 2 साल की सिमन्या व मां को याद कर

ग्वालियर. शिवपुरी से पति-पत्नी दो साल की बेटी को लेकर ट्रेन से ग्वालियर रवाना हुए। ग्वालियर से उन्हें एक बीमार रिश्तेदार को देखने आंतरी जाना था। पत्नी के बहनोई मोहना में रहते थे, उनके आग्रह पर दंपत्ति वहां उतर गए और बाद में उनके साथ बाइक पर आंतरी के लिए रवाना हुए। थोड़ी ही दूर चल सके थे कि बाइक में कंटेनर ने टक्कर मार दी। नतीजतन मां-बेटी की तत्काल मौत हो गई। ये है मामला.....
 
-पुरानी शिवपुरी के महेश सेन सोमवार दोपहर पत्नी ममता व 2 साल की बेटी सिमन्या के साथ पैसेंजर ट्रेन से ग्वालियर के लिए रवाना हुए। मोहना में महेश के साढ़ू राजेंद्र सेन का घर है। ट्रेन मोहना पहुंची तो राजेंद्र आ गए और ममता व सिमन्या समेत महेश को ट्रेन से उतार कर अपने घर ले गए। तय हुआ कि कुछ देर रुक कर ममता अपनी बहन से मिल लेगी, इसके बाद राजेंद्र उन्हें अपनी बाइक से आंतरी ले जाएंगे।   
-  सोमवार शाम राजेंद्र सेन अपने साढ़ू महेश, उनकी पत्नी ममता व बेटी सिमन्या  के साथ आंतरी रवाना हुए। बाइक राजेंद्र चला रहे थे जबकि महेश, उनकी पत्नी ममता और बेटी सिमन्या बाइक पर पीछे बैठे थे।
 - मोहना पुलिस थाने से आगे एंथनी स्कूल के पास आगरा-मुंबई हाईवे पर कंटेनर MH-15 DK-4142 ने बाइक में पीछे से टक्कर मार दी। कंटेनर की टक्कर से राजेंद्र और महेश तो बाइक से उछल कर दूर जा गिरे, लेकिन ममता और सिमन्या कंटेनर के पहिए नीचे आ गईं। कंटेनर उन्हें कुचलता हुआ आगे बढ़ गया, नतीजतन मां-बेटी की मौके पर ही मौत हो गई। हादसे के बाद कंटेनर ड्राइवर फरार गया।
 - हादसे की सूचना पर मोहना पुलिस थाने के प्रभारी एचएल प्रजापति फोर्स के साथ मौके पर पहुंचे,  और घायल राजेंद्र व महेश को हॉस्पिटल भेजा व ममता-सिमन्या की बॉडीज पोस्टमॉर्टम के लिए भेजी गई। पुलिस ने मामला दर्ज कर ड्राइवर की तलाश शुरू कर दी है।

 


 माँ व बहन का चेहरा देखने बिलखती रहीं बेटियां
 - आज सड़क हादसे में मरी ममता की चार बेटियां हैं जिनमें सिमन्या सबसे छोटी बेटी थी जिसे वह अपने साथ ले गई थी। उसकी 3 बड़ी बेटियां घर पर ही थीं। जब इन्हें पता चला की उनकी मां और छोटी बहन की सड़क हादसे में मौत हो गई है तो वह बेसुध हो गई।

- देर रात मां-बेटी की बॉडीज आईं तो तीनों मासूम माँ और छोटी बहन का चेहरा देखने के लिए बिलखने लगीं, लेकिन कंटेनर ने उनके चेहरे इतने क्षत-विक्षत कर दिए थे कि बेटियों को दिखाए बिना ही उनका अंतिम संस्कार कर दिया गया।

 

स्लाइड्स में है, मां-बेटी जिनकी कंटेनर से कुचलकर हो गई मौत....