--Advertisement--

ईवनिंग वॉक के बहाने निकली, सुनसान में पहुंच बुजुर्ग लेडी ने खुद को किया आग के हवाले, छोटे बेटे की बीमारी से थी परेशान

ईवनिंग वॉक के बहाने निकली, सुनसान में पहुंच बुजुर्ग लेडी ने खुद को किया आग के हवाले, छोटे बेटे की बीमारी से थी परेशान

Danik Bhaskar | Nov 17, 2017, 01:33 PM IST
चार में से दो बेटे भिवानी में क चार में से दो बेटे भिवानी में क

ग्वालियर. हजीरे की लाइन नं.12 में अपने दो बेटों के साथ रह रही बुजुर्ग गुरुवार शाम घर से टहलने निकली और रेलवे ट्रैक के किनारे सुनसान में पहुंच कर कैरोसिन उड़ेल कर खुद को आग के हवाले कर दिया। रात में वहां से गुजरे एक राहगीर कुछ जलता हुआ देख वहां पहुंचा तो महिला पूरी तरह जली हालत में मिली, उसकी मौत हो चुकी थी। सूचना मिलने पर पुलिस ने महिला की शिनाख्त कराई और बेटों को सूचना दे बॉडी पोस्टमॉर्टम के लिए भेज दी। ये है मामला....


 - हजीरा इलाके  लाइन नं.12 में रहने वाली 60 साल की महादेवी सिंह गुरुवार की शाम करीब 7 बजे घर से ईवनिंग वॉक के बहाने निकली थी। रात को उनके बेटों को पुलिस ने सूचना दी कि उनकी मौत हो गई है।
 - पुलिस को संजय नगर पुल के पास सुनसान इलाके में उनकी जली हुई बॉडी मिली थी। एएसपी अभिषेक तिवारी के अनुसार गुरुवार देर रात कुछ राहगीरों ने सूचना दी थी कि जली हुई महिला नजर आई है। मौके पर पहुंची पुलिस ने शव की पहचान की कोशिश की तो कुछ स्थानीय लोगों ने पहचान महादेवी सिंह के रूप में कर दी।
 - इसके बाद महिला के परिजन को बुलाकर तस्दीक कराई गई। पुलिस को आशंका है कि महिला मिट्टी के तेल की कट्टी लेकर घर से निकली थी। महिला ने आत्महत्या क्यों की, इसका पता नहीं चल सका है।

- हालांकि पुलिस को आशंका है कि पति प्रताप सिंह चौधरी की मौत के बाद से महादेवी अक्सर बीमार रहने वाले छोटे बेटे अरविंद की हालत से निराश थीं। इसी डिप्रेशन में वह गुरुवार शाम को कैरोसिन की छोटी कट्टी छिपा कर ईवनिंग वॉक के बहाने घर से सुसाइड करने निकली थीं। 
 -  महादेवी के दो बेटे अनिल सिंह और अनुज भिवानी में नौकरी करते हैं, जबकि अरुण सिंह और अरविंद उनके साथ रहते हैं। अरुण जेबी मंघाराम में नौकरी करता है जबकि छोटा अरविंद बीमार रहता है।

 

स्लाइड्स में है खुद को आग के हवाले करने वाली महादेवी सिंह.....