मानव तस्करी / बदनापुरा से दंपत्ति पकड़े, झांसी से बेचने के लिए लाई गई 6 माह की बच्ची बरामद



crime
X
crime

Dainik Bhaskar

Apr 16, 2019, 02:19 PM IST

ग्वालियर। मासूम बच्चियों की खरीद-फरोख्त के लिए बदनाम हो चुके बदनापुरा इलाके से पुलिस एक 6 माह की बच्ची को बरामद किया है, जिसे झांसी से बेचने के लिए लाया गया था। बच्ची को सोमवार को बाल कल्याण समिति के समक्ष पेश किया गया। बच्ची जिस घर में बरामद हुई, वहां से आकाश धनावत और माया धनावत को हिरासत में लिया है। 

 

 

इन दोनों का नाम ढाई साल पहले भी बच्चियों की खरीद-फरोख्त में सामने आया था। आकाश पर एफआईआर भी दर्ज हुई थी, लेकिन तभी से वह फरार चल रहा था। दोनों उसी गिरोह के सदस्य हैं, जो ढाई साल पहले 9 मासूम बच्चियों की खरीद-फरोख्त में पकड़ा गया था। दोनों से पुलिस पूछताछ कर रही है कि आखिर अभी तक वह कितनी बच्चियों की खरीद-फरोख्त कर चुके हैं। आकाश बच्चियों की खदीर फरोख्त में शामिल मास्टरमाइंड राममिलन कंजर का खास गुर्गा है और माया राममिलन के जरिये ही आकाश के संपर्क में आई। 


इसी के बाद से दोनों साथ में रह रह थे। राममिलन ढाई साल पहले पकड़ा गया था। पुरानी छावनी थाना पुलिस ने फिलहाल आकाश और माया पर ही एफआईआर दर्ज कर ली है। पुलिस को आशंका है, बच्ची के माता-पिता भी खरीद-फरोख्त में शामिल हो सकते हैं। इसके लिए इसकी पड़ताल की जा रही है। 

 

ऐसे खुला मामला: एसपी को मिली थी पहली सूचना 
एसपी नवनीत भसीन को पुरानी छावनी के रहने वाले एक युवक ने सूचना दी थी कि ढाई साल पहले बदनापुरा में बच्चियों की खरीद-फरोख्त में जो गिरोह शामिल था, उस गिरोह के दो सदस्य यहां रह रहे हैं। इनके पास एक 6 माह की बच्ची है, जिसे बेचने के लिए लाया गया है। एसपी ने टीआई पुरानी छावनी केपीएस यादव, टीआई पड़ाव अनिल भदौरिया, क्राइम ब्रांच प्रभारी विनोद छावई, एसआई भावना तिवारी की एक टीम बनाई। इस टीम को टास्क दिया। रविवार रात को टीम ने बदनापुरा में दबिश देकर घर में से 6 माह की बच्ची को बरामद किया और आकाश, माया को हिरासत में ले लिया। पुलिस ने जब पड़ताल की तो पता लगा कि आकाश पर पड़ाव थाने में मानव तस्करी के मामले में 2016 में एफआईआर दर्ज हुई थी। फिर पूरी कहानी खुल गई। 


इतनी शातिर माया... पुलिस से बोली- वह मेरी ही बेटी है 
माया और आकाश बहुत शातिर हैं। माया ने पहले पुलिस से कहा- वह उसकी ही बेटी है। जब जन्म प्रमाण पत्र मांगा तो वह सकपका गई। फिर बोलने लगी झांसी में रहने वाले एक रिश्तेदार ने उसे बच्ची पालने को दी है। बच्ची के माता-पिता तक पुलिस पहुंच गई। लेकिन माता-पिता भी संतोषजनक जबाव नहीं दे पाए। पुलिस ने माया को महिला थाने में रखा है। पुलिस ने दोनों की गिरफ्तारी नहीं दिखाई है। 


ऐसे सामने आया दोनों का नाम 
30 दिसंबर 2016 को सांई बाबा मंदिर से बच्ची को चुराकर ले जा रही लक्ष्मी कुशवाह काे पकड़ा गया था। उसकी निशानदेही पर बदनापुरा से रोशनदेवी, राममिलन राजपूत, राजेश को पकड़ा था। जबकि माया और आकाश के नाम सामने आए थे। यह पकड़े नहीं गए थे। राममिलन इसका मास्टरमाइंड था।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना