दतिया / हेडमास्टर स्कूल में थे, घर पर मौजूद पत्नी और इकलौते बेटे की गला रेतकर हत्या



datia
X
datia

  • सेंवढ़ा में दोहरा हत्याकांड हेडमास्टर शाम 4.30 बजे स्कूल से घर पहुंचे तब हुआ हत्याकांड का खुलासा 
  • मजदूर बोले- न हमने किसी को आते-जाते देखा, न चिल्लाने की आवाज सुनी 

Dainik Bhaskar

Jul 13, 2019, 11:19 AM IST

सेंवढ़ा/दतिया। सेंवढ़ा के वार्ड नंबर दो निवासी हेडमास्टर की पत्नी और इकलौते बेटे की गुरुवार काे दिनदहाड़े गला रेतकर हत्या कर दी गई। महिला व उसके बेटे के शरीर पर धारदार हथियार के इतने ज्यादा घाव हैं कि चेहरा तक पहचानना मुश्किल हो रहा है। वारदात को दोपहर 12 से शाम 4 बजे के बीच अंजाम दिया गया। 

 

शाम 4 बजे जब हेडमास्टर अपने घर पहुंचे, तब उन्हें पत्नी और बेटे के लहूलुहान शव मिले। उन्होंने डायल-100 पर कॉल कर बताया कि उसकी पत्नी और बेटे पर किसी ने हमला कर दिया है और दोनों घायल पड़े हैं। सूचना मिलने पर पुलिस मौके पर पहुंची और मां-बेटे को अस्पताल भेजा, जहां डॉक्टर ने बताया कि दोनों की मौत दो से ढाई घंटे पहले ही हो चुकी है। 

जानकारी के अनुसार सेंवढ़ा के वार्ड 2 में बघेल मोहल्ला निवासी बृजमोहन तिवारी नगर के ही शासकीय माध्यमिक विद्यालय में हेडमास्टर के पद पर पदस्थ हैं। रोज की तरह वे सुबह साढ़े 10 बजे स्कूल चले गए। शाम साढ़े चार बजे लौटकर आए तो वहां घर के सामने काम कर रहे मजदूरों ने उनसे कहा कि मास्साब, हमें पानी पीना है, काफी देर से आपका दरवाजा खटखटा रहे हैं लेकिन कोई सुन ही नहीं रहा है, आप ही पानी पिला दो। 

 

मजदूरों की बात सुनकर श्री तिवारी ने घर के अंदर जाकर देखा तो वे दंग रह गए। कमरे के अंदर फर्स पर उनकी पत्नी राधा तिवारी (45) और 25 वर्षीय इकलौते पुत्र शैलेंद्र बेड पर लहूलुहान पड़े थे। गले पर चाकू के गहरे निशान थे। उन्होंने डायल-100 को कॉल कर बताया कि हमारी पत्नी और बेटे को किसी ने घायल कर दिया है, जल्दी आ जाओ। कुछ देर में ही डायल-100 पहुंची। पीछे से एसडीओपी नरेंद्र सिंह गहरवार भी पहुंचे दोनों को तत्काल सेंवढ़ा अस्पताल पहुंचाया ताकि जान बचाई जा सके लेकिन डॉक्टर ने नब्ज टटोलते ही कह दिया, दोनों की दो-ढाई घंटे पहले ही मौत हो चुकी है। 


हेडमास्टर बोले- न किसी से दुश्मनी, न किसी पर शक 
दोहरे हत्याकांड की सूचना मिलने पर मौके पर पहुंचे एसडीओपी नरेंद्र सिंह गहरवार ने आसपास पूछताछ कर हत्यारों का पता लगाने का प्रयास किया, लेकिन कोई सुराग नहीं लगा। पुलिस ने जांच के लिए एफएसएल अधिकारी को भी बुलाया है। पुलिस ने जब हेडमास्टर से प्रारंभिक पूछताछ की तो उन्होंने बताया कि उनकी न किसी से दुश्मनी थी न उन्हें किसी पर शंका है। पुलिस ने लूट अथवा डकैती के एंगल से प्रारंभिक जांच की तो सामान, मोबाइल सब कुछ यथावत रखा पाया जिससे दोहरे हत्याकांड की गुत्थी उलझ गई। देर रात मौके पर पहुंचे एसपी चक्रवर्ती ने भी मोहल्ले में रहने वाले लोगों से पूछताछ की लेकिन कोई भी कुछ भी बताने को तैयार नहीं है।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना