--Advertisement--

फैसला / ऑफिस के कागजात फाड़ने, साथी की बाइक तोड़ने के आरोपी क्लर्क को 6 माह की सजा

Dainik Bhaskar

Jan 13, 2019, 01:30 PM IST


guna
X
guna

गुना। जनवरी 2016 के एक चर्चित मामले में पीडब्ल्यूडी में पदस्थ एक क्लर्क को अदालत ने 6 माह के कारावास और 1000 रुपए के जुर्माने की सजा सुनाई। उस पर आफिस के कागजात फाड़ने और साथी कर्मचारी की बाइक की तोड़फोड़ करने का आरोप था। उस समय गिरफ्तार किए जाने के बाद उसने तत्कालीन कार्यपालन यंत्री (ईई) के सेनानी पर उसके साथ दुर्व्यवहार करने का आरोप लगाया था।  


एडीपीओपी सरस्वती यादव ने बताया कि जज जेबीएस राजपूत ने पीडब्ल्यूडी में सहायक ग्रेड 3 पद पर नियुक्त जितेंद्र शर्मा को शासकीय कार्य में बाधा डालने सहित अन्य धाराओ में दोषी मानते हुए यह सजा सुनाई। इस मामले में फरियादी और विभाग में पदस्थ अन्य कर्मचारी मनमोहन राजपूत ने आरोपी के खिलाफ 4 जनवरी 2016 को रिपोर्ट दर्ज कराई थी। जिसके मुताबिक दोपहर करीब 3 बजे जब फरियादी अपना काम कर रहा था, तभी आरोपी ने वहां पहुंचकर हंगामा कर दिया। उसने पत्थर फैंककर दरवाजा तोड़ दिया। कागजात फाड़ दिए और फरियादी की बाइक की भी तोड़फोड़ कर दी।


ईई से नाराज था क्लर्क : आरोपी के पिता विभाग में ही सब इंजीनियर थे। उनकी मृत्यु के बाद 1998 में उसकी अनुकंपा नियुक्ति हुई थी। घटना के बाद जब वह गिरफ्तार हुआ तो उसने मीडिया को बताया था कि वह तत्कालीन ईई के सेनानी के व्यवहार से नाराज था। घटना वाले दिन वह दो दिन की छुट्टी के बाद लाैटा था। उसने बाकायदा इसके लिए आवेदन दिया था। उसका आरोप था कि उक्त आवेदन पर ईई ने लिख दिया कि वह अपनी मानसिक स्थिति की जांच कराए। उसे बार-बार इंक्रीमेंट रोकने की धमकी दी जाती थी। वह इसी से नाराज था और उसने यह हरकत की। 


ईई की कार का कांच भी टूटा था : इस घटना के दौरान कार्यालय परिसर में खड़ी तत्कालीन ईई की कार का कांच भी टूटा था। तब यह आरोप लगाया गया था कि उक्त हरकत भी क्लर्क की ही थी। हालांकि बाद में यह बात पुलिस की एफआईआर में नहीं आई।

Astrology

Recommended

Click to listen..