• Hindi News
  • Mp
  • Gwalior
  • Here Hanuman ji runs a bank; There is a deposit of more than 5 crores capital named Sitaram

भिंड / यहां हनुमान जी चलाते हैं बैंक; 5 करोड़ से अधिक जमा है सीताराम नाम की पूंजी

भिंड में दंदराैआ धाम मंदिर में इस पुस्तिका को लिखने के लिए ले जाते हैं श्रद्धालु। भिंड में दंदराैआ धाम मंदिर में इस पुस्तिका को लिखने के लिए ले जाते हैं श्रद्धालु।
दंदराैआ धाम मंदिर में स्थित बैंक में सीताराम नाम लिखते हुए एक श्रद्धालु। दंदराैआ धाम मंदिर में स्थित बैंक में सीताराम नाम लिखते हुए एक श्रद्धालु।
X
भिंड में दंदराैआ धाम मंदिर में इस पुस्तिका को लिखने के लिए ले जाते हैं श्रद्धालु।भिंड में दंदराैआ धाम मंदिर में इस पुस्तिका को लिखने के लिए ले जाते हैं श्रद्धालु।
दंदराैआ धाम मंदिर में स्थित बैंक में सीताराम नाम लिखते हुए एक श्रद्धालु।दंदराैआ धाम मंदिर में स्थित बैंक में सीताराम नाम लिखते हुए एक श्रद्धालु।

  • दंददौआ धाम में 10 वर्ष से अखिल भुवन पावन श्री सीताराम नाम से बैंक का संचालन हो रहा है
  • बैंक की यूपी-एमपी में चार शाखाएं सीताराम लिखने नि:शुल्क देते हैं कॉपी

Dainik Bhaskar

Dec 04, 2019, 12:52 PM IST

भिंड. जिले में कई राष्ट्रीयकृत और कोऑपरेटिव बैंक संचालित हैं। लेकिन दंदरौआ धाम में एक ऐसी अनूठा बैंक है, जहां पर सीताराम नाम लिखित 5 करोड़ से अधिक कॉपियां जमा हैं। इस बैंक की सबसे अच्छी बात यह है कि भगवान डॉ. हनुमान जी ही इस बैंक के कर्ताधर्ता हैं। साथ ही इस बैंक की चार शाखाएं मप्र सहित उप्र में चल रही हैं।

जिले की ये पहला बैंक हैं, जहां पर श्रद्धालु सीताराम नाम से लिखने के लिए अपने घर लेकर जाते हैं, जब कॉपी सीताराम नाम से भर जाती है तो यहां आकर उसको जमा कराते हैं। इस बैंक में लोगों के आध्यात्मिक कर्म को सहेज कर रखा जाता है। मंदिर के प्रवक्ता जलज त्रिपाठी बताते हैं कि सीताराम नाम लिखी कापियों का विशेष महत्व है, जो दंदरौआ धाम मंदिर का आधार स्तंभ बनी हुई है।

चारों शाखाओं के संग्रह में 20 करोड़ होंगी सीताराम नामक लिखित कापियां 

महंत रामदास महाराज बताते हैं कि सीताराम बैंक 10 साल पहले मंदिर से शुरू की गई थी। वर्तमान में ग्वालियर, उज्जैन, चित्रकूट और वृंदावन में कुल चार शाखाएं हैं। वर्तमान में दंदरौआ धाम मंदिर में 5 करोड़ से अधिक सीताराम नाम लिखित कॉपियों का संग्रह है, अगर चार शाखाओं के संग्रह को जोड़ा जाए तो यह संख्या 20 करोड़ के आसपास की है। इस बैंक को अखिल भुवन पावन श्रीसीताराम बैंक के नाम से जाना जाता है। यह जिले की ऐसी पहली बैंक है जहां श्रद्धालुओं को सीताराम नाम लिखने के लिए नि:शुल्क कॉपी दी जाती है। साथ ही श्रद्धालुओं के द्वारा लिखित कॉपियों को यहां पर जमा भी किया जाता है।


सीताराम लिखने हर साल बांटी जाती हैं 6 लाख काॅपी
मंदिर प्रबंधन द्वारा जब 10 साल पहले जब बैंक की शुरुआत की गई उस दौरान हर महीने 10 से 15 हजार श्रद्धालु सीताराम नाम लिखने के लिए कॉपी वितरित की जाती थी। लेकिन हर साल कॉपियों को लेने के लिए श्रद्धालुओं की संख्या बढ़ने लगी। वर्तमान में 5 लाख से अधिक कॉपियों को श्रद्धालुओं के बीच वितरित किया जाता है। इसके अलावा ग्वालियर, उज्जैन, चित्रकूट और वृंदावन की शाखाओं में इतनी ही संख्या में कॉपियों को वितरण के लिए मंदिर प्रबंधन द्वारा हर साल भेजा जाता है।


श्रद्धालु राम नाम जपते भी हैं और लिखते भी हैं

डॉ. हनुमान की इस बैंक में सीताराम नाम का हिसाब-किताब दर्ज किया जाता है। यहां भिंड जिले के अलावा अन्य जिले से लोग कॉपी लेने के लिए आते हैं। बैंक की मुख्य शाखा के साथ अन्य चार शाखाओं में करोड़ों सीताराम नाम जमा हो चुके हैं। बैंक खोलने का उद्देश्य राम नाम का प्रचार-प्रसार करना है।
महंत रामदास महाराज, दंदरौआधाम
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना