वन विभाग / पानी की तलाश में निकले तेंदुए का जंगल में मिला कंकाल, जांच शुरू

Dainik Bhaskar

May 17, 2019, 09:49 AM IST



पावटा के जंगल में मरा पड़ा तेंदुआ। पावटा के जंगल में मरा पड़ा तेंदुआ।
X
पावटा के जंगल में मरा पड़ा तेंदुआ।पावटा के जंगल में मरा पड़ा तेंदुआ।

  • रेंजर से लेकर चौकीदार और फायर वाचर तक को तेंदुए के मरने की जानकारी नहीं लगी
  • मवेशी चराने वाले ने वन रक्षक को दी तेंदुए के मरने की खबर 

ग्वालियर. शहर से 25 किलोमीटर दूर बरई गांव के पास स्थित पावटा के जंगलों में गुरुवार को तेंदुए का 15 दिन पुराना शव मिला। संभावना जताई जा रही है कि तेंदुआ जंगल में पानी की तलाश में गया होगा। इस दौरान भीषण गर्मी के चलते हीट स्ट्रोक से मौत हो गई। वन मंडल ग्वालियर में दो महीने के अंदर तेंदुए के मरने की दूसरी घटना हुई है। सूचना पर वन विभाग के डीएफओ ओपी उचाड़िया टीम को लेकर मौके पर पहुंचे। शव को देखने के बाद अफसरों ने चैन की सांस ली, क्योंकि उसके शरीर के सभी अंग मौजूद थे।

 

हालांकि इस मामले में फिर से वन विभाग की मैदानी टीम की लापरवाही सामने आई है। क्योंकि रेंजर से लेकर चौकीदार और फायर वाचर तक को 15 दिन बाद तेंदुए के मरने की खबर मिली है। 
मवेशी चराने वाले ने वन रक्षक भुवनेश राजौरिया को तेंदुए के मरने की खबर की। उन्होंने वरिष्ठ अधिकारियों को सूचना थी। उस पर एसडीओ जेएल जोनवार टीम के साथ मौके पर पहुंचे। मौके पर मिले शव का कंकाल ही बचा हुआ था। उसे शिवपुरी लिंक रोड स्थित वन विभाग की डिपो में लाया गया। यहां पर पशु चिकित्सक डाॅ.मनीष तिवारी, डाॅ.राजेश शर्मा और डाॅ. आरएन स्वामी की टीम ने पोस्टमार्टम किया। डिपो में सीसीएफ एचएस मोहंता की मौजूदगी में दाह संस्कार किया गया। 

 

कंकाल में कुछ नहीं बचा परीक्षण को : पीएम करने पहुंचे डॉक्टरों ने जब नर तेंदुए के शव को देखा। तब उनका  कहना था कि इसमें सैंपलों को लायक कुछ बचा ही नहीं है। हालांकि डाक्टरों ने पीएम कर कुछ अंगों के सैंपल जरूर लिए हैं। वन अधिकारियों के मुताबिक तेंदुए की उम्र 9-10 साल के आस-पास होगी। 2016-2017 में एक तेंदुआ पावटा के पास स्थित नरपत का पुरा में आ गया था। यहां आस-पास गांव के लोग परेशान हो गए थे। उन्होंने मौका मिलते ही तेंदुआ को लाठियों से पीट-पीटकर मार दिया। दूसरा तेंदुआ तीन साल बाद सामने आया है। गौरतलब है कि 20 मार्च को पुरासानी के जंगलों में एक तेंदुआ मरा मिला था। दो लोगों को वन विभाग पकड़ चुका है।  

COMMENT