Hindi News »Madhya Pradesh »Gwalior» Man Leaving Girl On Gwalior Platform

प्लेटफार्म पर ले जा रहा था अनजान व्यक्ति महिला ने टोका तो बच्ची को छोड़कर भागा

जीआरपी जांच अधिकारी अंजना भिलवाई ने बताया कि वीडियो कॉलिंग पर घरवालों ने खुशी को पहचान लिया है।

Bhaskar News | Last Modified - May 03, 2018, 02:22 AM IST

  • प्लेटफार्म पर ले जा रहा था अनजान व्यक्ति महिला ने टोका तो बच्ची को छोड़कर भागा

    ग्वालियर.अपने पिता के परिचित के साथ विशाखापट्नम से ग्वालियर आ रही 12 साल की बच्ची इटारसी स्टेशन पर ट्रेन से उतर गई। प्लेटफार्म पर एक अनजान व्यक्ति उसे अपने साथ लेकर जाने लगा। तभी एक महिला की नजर उस पर पड़ी। उन्होंने उस व्यक्ति को टोका तो वह बच्ची को छोड़कर भाग गया। महिला के नाम की जगह सिर्फ इतना पता चला है कि इंग्लिश की टीचर हैं आैर उन्हें कोठारी मैडम के नाम से जाना जाता है।


    12 साल की खुशी शर्मा अपने पिता के परिचित संजय सिंह की पत्नी सीता सिंह के साथ वहां से 30 अप्रैल को ग्वालियर के लिए रवाना हुई। वह ट्रेन 12803 के ए-1 कोच में सीट नंबर 41 पर सवार थी। ट्रेन जब भोपाल पहुंचने वाली थी तब सीता उसे उठाने उठीं तो खुशी बर्थ पर नहीं थी। जब वह नहीं मिली तो सीता ने इसकी सूचना पति संजय सिंह को दी। संजय सिंह ने इटारसी में परिचितों को फोन लगाया तो परिचित इटारसी जीआरपी थाने पहुंचे। वहां उन्हें खुशी मिल गई। उधर खुशी की मां मनीषा भी अपने बेटे के साथ इटारसी पहुंच गईं। उनका कहना है कि खुशी विशाखापट्नम में हॉस्टल में रहकर पढ़ाई कर रही है आैर छुट्टी में अपने चाचा के पास ग्वालियर आ रही थी। शर्मा परिवार अंबाह का है।

    खुशी ने अपना नाम सौजन्य बताया

    जीआरपी को खुशी ने अपना नाम सौजन्य पटनायक बताया। उसने बताया कि वह विशाखापटनम में दादा -दादी के पास रहती है। उन्होंने ही उसे विशाखापटनम से इटारसी का टिकट देकर ट्रेन में बैठाया था। जबकि जीआरपी को कोई टिकट नहीं मिला।

    पहचानने से किया इनकार

    इटारसी जीआरपी के कर्मियों ने वीडियो कॉलिंग के जरिए संजय सिंह से खुशी की बात कराई। श्री सिंह ने तो खुशी को पहचान लिया। लेकिन खुशी ने उन्हें पहचानने से इनकार कर दिया। इस पर श्री सिंह ने खुशी से जुड़ी जानकारियां और सामान के बारे में पुलिस को बताया आैर उसे अपने पास ही रखने को कहा।

    घर वालों ने पहचान लिया
    जीआरपी जांच अधिकारी अंजना भिलवाई ने बताया कि वीडियो कॉलिंग पर घरवालों ने खुशी को पहचान लिया है। लेकिन वो अपना नाम सौजन्य पटनायक बता रही है। फिलहाल उसके घरवाले उसकी पहचान से संबंधित कोई दस्तावेज लेकर नहीं आए हैं। खुशी को मनोचिकित्सक के पास ले जाकर काउंसिल कराई जाएगी।

Topics:
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Gwalior

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×