Hindi News »Madhya Pradesh »Gwalior» Martyr In Mp Bhind no1

प्रदेश में सबसे ज्यादा भिंड के सैनिक हुए शहीद मुरैना जिला दूसरे नंबर पर, 1 करोड़ रु. का चेक देने 14 को आएंगे मुख्यमंत्री

चंबल अंचल में बसे भिंड जिले के युवाओं में शुरू से ही देशभक्ति का जज्बा रहा है

dainikbhaskar.com | Last Modified - Aug 11, 2018, 11:14 AM IST

प्रदेश में सबसे ज्यादा भिंड के सैनिक हुए शहीद मुरैना जिला दूसरे नंबर पर, 1 करोड़ रु. का चेक देने 14 को आएंगे मुख्यमंत्री

भिंड। चंबल अंचल में बसे भिंड जिले के युवाओं में शुरू से ही देशभक्ति का जज्बा रहा है। यही कारण है कि यहां के युवा सबसे ज्यादा सेना में नौकरी करते हैं। वहीं प्रदेश में सबसे ज्यादा शहीद यदि किसी जिले में हैं तो यह गौरव भी भिंड जिले को प्राप्त है। आजादी के बाद चाहे 1962 में भारत चीन की लड़ाई हो या फिर 1965 में भारत पाकिस्तान के बीच हुआ युद्ध हो। यहां तक कि भारतीय सेना के जितने भी बड़े ऑपरेशन हुए हैं, उनमें भिंड के जवानों ने अपनी भूमिका निभाई है। यहां बता दें कि भिंड जिले में 119 शहीदों के परिवार निवास करते हैं। जबकि पड़ोसी जिले मुरैना में यह संख्या में 81 और ग्वालियर में 56 शहीदों के परिवार निवास करते हैं।

उधर स्वतंत्रता दिवस से एक दिन पहले 14 अगस्त को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान भिंड आ रहे हैं। वे भिंड शहर के चतुर्वेदी नगर स्थित शहीद जितेंद्र सिंह राजावत के परिवार को एक करोड़ रुपए का चैक देंगे। साथ ही एसएएफ ग्राउंड पर शहीदों के परिजन का सम्मान करेंगे। उनके संभावित कार्यक्रम को लेकर जिला प्रशासन ने तेजी से तैयारियां शुरू कर दी है। शुक्रवार को कलेक्टर आशीष कुमार गुप्ता और एसपी रुडोल्फ अल्वारेस ने अफसरों की बैठक ली।

कौन हैं शहीद जितेंद्र सिंह
शहर के चतुर्वेदी नगर निवासी रामवीर सिंह कुशवाह के सबसे छोटे बेटे जितेंद्रसिंह सीआरपीएफ की 212 कोबरा बटालियन में पदस्थ थे। 13 मार्च को छत्तीसगढ़ के सुकमा में नक्सलियों द्वारा बिछाई गई बारुदी सुरंग में हुए विस्फोट में शहीद हो गए थे। वे वर्ष 2005 में भर्ती हुए थे। उनकी सात साल पहले सोनम से शादी हुई थी, जिनसे उन्हें दो बच्चियां और एक बच्चा है। सरकार ने जितेंद्र सिंह की शहादत पर एक करोड़ रुपए देने और एक पार्क व स्कूल का नाम रखने की घोषणा की थी।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Gwalior

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×