शिवपुरी / नॉर्मल डिलीवरी के लिए चार दिन भर्ती रखा; बाद में ऑपरेशन कर दिया, जिसमें प्रसूता और उसके दो नवजात की मौत

शिवपुरी में डॉक्टरों की लापरवाही से प्रसूता और उसके दो नवजात बच्चों की मौत हो गई। शिवपुरी में डॉक्टरों की लापरवाही से प्रसूता और उसके दो नवजात बच्चों की मौत हो गई।
नवजात का पिता मातादीन कुशवाह कपड़े में लपेटकर उन्हें ले गया। नवजात का पिता मातादीन कुशवाह कपड़े में लपेटकर उन्हें ले गया।
नवजात के शवों के पास बैठे परिजन। नवजात के शवों के पास बैठे परिजन।
प्रसूता के शव को अस्पताल से ले जाते परिजन। प्रसूता के शव को अस्पताल से ले जाते परिजन।
X
शिवपुरी में डॉक्टरों की लापरवाही से प्रसूता और उसके दो नवजात बच्चों की मौत हो गई।शिवपुरी में डॉक्टरों की लापरवाही से प्रसूता और उसके दो नवजात बच्चों की मौत हो गई।
नवजात का पिता मातादीन कुशवाह कपड़े में लपेटकर उन्हें ले गया।नवजात का पिता मातादीन कुशवाह कपड़े में लपेटकर उन्हें ले गया।
नवजात के शवों के पास बैठे परिजन।नवजात के शवों के पास बैठे परिजन।
प्रसूता के शव को अस्पताल से ले जाते परिजन।प्रसूता के शव को अस्पताल से ले जाते परिजन।

  • जिला अस्पताल में एक साथ तीन मौतों को लेकर ऑपरेशन करने वाली डॉक्टर ने कहा- परिजनों ने जोर डाला 
  • शुक्रबती की बहन ने रोते-रोते बताया कि पिछले साल ही शादी हुई थी, यह उनकी पहली डिलीवरी थी

दैनिक भास्कर

Feb 27, 2020, 02:09 PM IST

शिवपुरी. जिला अस्पताल शिवपुरी में प्रसूता को चार दिन नॉर्मल डिलीवरी की कहकर भर्ती कर रखा था। बुधवार की दोपहर जब प्रसूता की हालत बिगड़ी तो जल्दबाजी में उसे ऑपरेशन थिएटर में ले गए और ऑपरेशन किया। इसमें दो जुड़वा शिशु हुए, लेकिन पैदा होने पर दोनों नवजात शिशुओं की मौत हो चुकी थी। कुछ देर बाद प्रसूता की भी मौत हो गई। एक साथ तीन मौत कैसे हो गईं, किसी ने प्रसूता के परिजन को वजह स्पष्ट नहीं बताई। परिजन रोते हुए प्रसूता व दोनों नवजात के शव लेकर गांव चले गए। 

जानकारी के मुताबिक शुक्रबती (18) पत्नी मातादीन कुशवाह निवासी पिपरघार को प्रसव के लिए परिजन शनिवार की रात करीब 11 से 12 बजे के बीच जिला अस्पताल लेकर आए थे। यहां डॉक्टर और नर्स ने नॉर्मल डिलीवरी की कहकर भर्ती रखा। शुक्रबती की बहन ऊषा कुशवाह ने बताया कि नर्स और डॉक्टर से डिलीवरी के बारे में पूछते तो हर बार यही कहते रहे कि नॉर्मल डिलीवरी हो जाएगी। बुधवार की दोपहर करीब 2 बजे शुक्रबती की हालत बिगड़ गई। इसके बाद शुक्रबती को ऑपरेशन के लिए लेे गए।

ये पहली डिलिवरी थी 

कुछ देर बाद आकर बताया कि दोनों जुड़वा बच्चों की मौत हो गई है। जिसमें एक बेटा व दूसरी बेटी थी। इसके बाद हमें बताया कि शुक्रबती की भी मौत हो गई है। इसके बाद शुक्रबती के पति मातादीन का संतुलन बिगड़ गया। शुक्रबती की बहन ने रोते-रोते बताया कि पिछले साल ही शुक्रबती व मातादीन की शादी थी और यह पहली डिलीवरी थी।


डॉक्टर ने कहा- परिजनों ने ऑपरेशन के लिए जोर डाला

महिला का ऑपरेशन करने वाली महिला चिकित्सक मोना गुप्ता ने पत्रकारों को बताया कि महिला शनिवार से अस्पताल में भर्ती थी। उसके परिजन सामान्य प्रसव के लिए बार-बार जोर दे रहे थे, जबकि महिला कमजोर थी, इसलिए उसे ग्वालियर ले जाने की सलाह दी गई थी। इसके बावजूद परिजनों ने यहीं पर प्रसव के लिए कहा। उनका कहना है कि ऑपरेशन किया गया तो, दोनों बच्चे मृत पैदा हुए और बाद में प्रसूता की भी मृत्यु हो गयी। उनका कहना है कि इसमें अस्पताल कर्मचारियों की ओर से किसी भी प्रकार की कोई लापरवाही नहीं बरती गयी।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना