एक ही चट्‌टान पर जैन समाज के 24 तीर्थंकर

Gwalior News - कभी अशांत क्षेत्र के तौर पर पहचाने जाने वाला ग्वालियर-चंबल अंचल अब अहिंसा के लिए दुनियाभर में अलख जगा रहे जैन समाज...

Bhaskar News Network

Apr 17, 2019, 07:26 AM IST
Gwalior News - mp news 24 tirthankars of jain society on the same rock
कभी अशांत क्षेत्र के तौर पर पहचाने जाने वाला ग्वालियर-चंबल अंचल अब अहिंसा के लिए दुनियाभर में अलख जगा रहे जैन समाज का प्रमुख तीर्थ स्थल बन रहा है। ग्वालियर शहर के बीचोंबीच पिछले 33 साल में ऐतिहासिक किले के नीचे गोपाचल तीर्थ विकसित हो चुका है। यहां न सिर्फ हरियाली है बल्कि जैन समुदाय की आराधना के केंद्र भी संवारे जा चुके हैं। इसे देखकर लगता है कि इंसान चाहे तो क्या नहीं हो सकता, यहां पत्थरों के बीच फूल खिलाए गए हैं। बरसात के पानी को सहेज कर यहां ऐसा सुरम्य वातावरण तैयार किया गया है, जिसे अनुभव करने के लिए जैन समाज के लोग बड़ी संख्या में यहां पहुंचते हैं।

इसी तरह शहर से 22 किमी दूर बरई में स्थित जैन समाज के श्री जिनेश्वर धाम तीर्थ क्षेत्र अगले एक साल में देश में जैन तीर्थों के मामले में सबसे अलग और खास हो जाएगा। इसलिए कि यहां अगले एक साल में भगवान महावीर स्वामी की देश की सबसे ऊंची प्रतिमा स्थापित होने जा रही है। इसके लिए जैन धर्माबलंबियों की मदद से राजस्थान के मकराना से 230 टन पत्थर लाया जा चुका है, जिसे प्रतिमा की शक्ल दी जा रही है। अंचल के भिंड, शिवपुरी, दतिया और मुरैना में जैन समाज के प्राचीन मंदिरों का वैभव फिर से संवारा जा रहा है।

गोपाचल पर्वत: 26 गुफाओं में 1500 से अधिक प्रतिमाएं, लेकिन एक चट्‌टान पर उकेरी ये प्रतिमा सबसे खास

गोपाचल पर्वत स्थित गुफा में एक ही चट्टान पर जैन समाज के 24 तीर्थंकर भगवान की प्रतिमाएं उकेरी गईं हैं। सदियाें पुरानी ये प्रतिमाएं सरकार की ओर से संरक्षित की जा रही हैं। फोटो: विक्रम प्रजापति

33 साल में संवारा गोपाचल पर्वत, अब यहां हर सुविधा

शहर के बीचाेंबीच फूलबाग स्थित जैन तीर्थ सिद्ध क्षेत्र गोपाचल पर्वत 33 साल पहले बियावान था। यहां पर्यावरण संरक्षण का काम 1986 में शुरू किया गया। तब अासपास की बस्तियों के लोग यहां गंदगी फैलाते थे। इसे संवारने का बीड़ा उठाया अजीत वरैया ने, जो इस तीर्थ क्षेत्र की कमेटी के महामंत्री हैं। श्री वरैया ने किले से बहने वाले बारिश के पानी का सदुपयोग किया। इसे रोकने के लिए कटाव बनवाए गए, जिससे पानी जमीन में बैठता है। इससे यहां हरियाली बढ़ी है। बकौल श्री वरैया सबसे पहले बस्तियों के उन्मूलन का काम शुरू किया। प्रशासनिक मदद से सीवर लाइन बिछवाईं और सार्वजनिक शौचालय बनवाए। इसके बाद बंजर जमीन पर पौधे लगाने का काम शुरू किया। सुरक्षा के लिए दीवार बनवाई। अब यहां सुबह-शाम बड़ी संख्या में लोग सैर और पूजा के लिए आते हैं।

पर्वत पर यह है खास: पेड़ों पर लगने वाले फल पक्षियों के लिए रिजर्व




देश की सबसे ऊंची प्रतिमा बनाने का दावा

बरई में तैयार हो रही देश की सबसे ऊंची भगवान महावीर स्वामी की प्रतिमा।

बरई में महावीर स्वामी की 101 फीट ऊंची प्रतिमा होगी स्थापित

सिटी रिपोर्टर | ग्वालियर

शहर से 22 किमी दूर बरई में स्थित जैन समाज के श्री जिनेश्वर धाम तीर्थ क्षेत्र में भगवान महावीर स्वामी की देश में सबसे ऊंची 101 फीट की खड़गासन प्रतिमा स्थापित की जाएगी। इसमें 50 फीट ऊंचा आधार रहेगा। प्रतिमा काे 2020 में स्थापित किया जाएगा। जून 2017 से बरई में ही 230 टन वजनी पत्थर पर मकराना से आए कलाकार इस प्रतिमा को तैयार कर रहे हैं। 4 माह बाद प्रतिमा को आधार पर खड़ा किया जाएगा, उसके बाद इसे तराशा जाएगा। प्रतिमा के निर्माण के लिए भीलवाड़ा में 2015 में 280 टन का पत्थर चुना गया था। इस पत्थर काे ग्वालियर लाने के लिए 50 टन कटिंग की गई। इसके बाद 230 पत्थर 28 दिन में ग्वालियर आया था। इसके अलावा बरई में 27 अप्रैल को भगवान आदिनाथ की 41 फीट ऊंची प्रतिमा की स्थापना की जाएगी, जाे राजस्थान के मकराना में तैयार की जा चुकी है।

राजा भरत ने कैलाश पर्वत पर स्थापित किए थे 72 जिनालय

पाैराणिक जैन ग्रंथाें में उल्लेख है कि चक्रवती राजा भरत ने कैलाश पर्वत पर 72 जिनालयों की स्थापना की थी। इसी तर्ज पर बरई में कैलाश पर्वत और 72 जिनालयों का निर्माण कराया जा रहा है। जिनालयों की ऊंचाई 3 फीट रहेगी। कैलाश पर्वत मिट्टी और गोल पत्थर से बनेगा।

बनेगी नेकी की दीवार और कम खर्च में होगा विवाह

बरई तीर्थ में नेकी की दीवार बनाई जाएगी। इस पर खूंटियां लगाईं जाएंगी, जिन पर किसी भी समाज का व्यक्ति पुराने कपड़े, जूते-मोजे आदि लटका सकता है। लोगों से मिले इन कपड़ों को साफ करने के बाद जरूरतमंद को बांटा जाएगा। जिनेश्वर धाम मध्यमवर्गीय परिवारों के युवाओं का कम खर्च में विवाह कराएगा। यह सुविधा हर समाज के परिवार के लिए रहेगी। यह सेवा नवंबर-दिसंबर तक शुरू हो जाएगी।

Gwalior News - mp news 24 tirthankars of jain society on the same rock
X
Gwalior News - mp news 24 tirthankars of jain society on the same rock
Gwalior News - mp news 24 tirthankars of jain society on the same rock
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना