चौथी रेल लाइन के लिए बनेगा 42 किमी लंबा पहला बायपास ट्रैक

Gwalior News - मथुरा से बीना तक तैयार की जा रही चाैथी रेल लाइन के लिए ग्वालियर में 42 किलाेमीटर लंबा पहला बायपास ट्रैक बनाने की...

Feb 23, 2020, 07:35 AM IST
Gwalior News - mp news 42 km long first bypass track to be built for fourth rail line

मथुरा से बीना तक तैयार की जा रही चाैथी रेल लाइन के लिए ग्वालियर में 42 किलाेमीटर लंबा पहला बायपास ट्रैक बनाने की तैयारी शुरू हाे गई है। रेलवे ने इस काम के लिए कोलकाता की पॉयोनियर कंसल्टेंसी कंपनी को सर्वे की जिम्मेदारी सौंप दी है। रेलवे सूत्रों के मुताबिक बायपास रेल लाइन ग्वालियर स्टेशन से 8 किलोमीटर दूर स्थित नेशनल हाईवे (रमौआ गांव) के पास से होकर निकलेगी। इसकी शुरूआत सांक-बानमोर स्टेशन के पास से होगी और यह ट्रैक सिथौली-संदलपुर रेल ट्रैक से मिलेगा। सर्वे फाइनल होने के बाद उत्तर मध्य रेलवे इसे रेलवे बोर्ड को स्वीकृति के लिए भेजेगा। रेल मंडल झांसी के इतिहास में यह पहला बायपास रेल मार्ग होगा, जो ग्वालियर से होकर निकलेगा। इस बायपास ट्रैक से गुड्स ट्रेनों के अलावा ग्वालियर स्टेशन पर नहीं रुकने वाली यात्री ट्रेनों को भी निकाला जाएगा। गौरतलब है कि बिरला नगर, ग्वालियर और सिथौली रेलवे स्टेशन और यार्ड में चौथी लाइन बिछाने के लिए जगह नहीं है। इस कारण रेलवे आगरा की तरह बायपास ट्रैक बनाने की दिशा में काम कर रहा है।

रेलवे के बायपास से होंगे 2 असर


{फायदा.. ग्वालियर स्टेशन पर वे ट्रेनें नहीं अाएंगी, जिनका स्टाॅपेज नहीं है। मालवाहक गाड़ियां बायपास से निकाली जाएंगी। जाहिर है कि स्टेशन पर ट्रेनाें का लाेड घटेगा। इससे यात्री सुविधाएं बेहतर हाेंगी।

{ नुकसान..अभी आगरा से झांसी की दूरी 215 किमी है। इसे तय करने में ट्रेनें 4 से 4:30 घंटे लेती हैं। बायपास ट्रैक बनने से 42 किमी दूरी बढ़ेगी। यहां से गुजरने वाली ट्रेनों को 45 मिनट ज्यादा लगेंगे।

कहां से कहां तक बनेगा बायपास


5 जगह फ्लाईओवर से गुजरेगा बायपास ट्रैक

{आगरा-ग्वालियर रेल खंड।

{ग्वालियर-भिंड रेल खंड।

{ग्वालियर-भिंड राज्य मार्ग।

{बड़ागांव और बेहट मार्ग के ऊपर से निकलेगा।

{सिथौली स्टेशन के आगे नेशनल हाइवे के ऊपर से गुजरेगा।

प्रोजेक्ट पर कितना पैसा खर्च होगा

शहर में रेलवे के पहले बायपास के लिए सर्वे शुरू

ग्वालियर रेलवे स्टेशन

आगरा में भी हो रहा है ऐसा प्रयोग

रेलवे को बिलौचपुरा से भांडई तक रेल खंड पर चौथी लाइन के लिए जगह नहीं मिली। वहां पर आगरा मंडल ने कीथम स्टेशन से चौथी लाइन को बायपास कर दिया है। यह आगरा के बाहर से निकलकर भांडई स्टेशन पर आकर मिलेगी। मुथरा स्टेशन पर चौथी रेल लाइन के लिए 4.50 किलोमीटर का फ्लाईओवर बनाना तय हो चुका है।

स्टेशन पर चौथे ट्रैक के लिए जगह नहीं है इसलिए सर्वे


{तीन चरणों में बनेगी चौथी लाइन: चौथी रेल लाइन को तीन चरणों में बांटा गया है। पहले चरण की जिम्मेदारी आगरा रेल मंडल को मथुरा से धौलपुर स्टेशन तक के लिए दी गई है। धौलपुर से झांसी की जिम्मेदारी झांसी रेल मंडल और फिर झांसी से बीना तक की जिम्मेदारी भी झांसी मंडल ही संभालेगा।

रेलवे इस प्रोजेक्ट पर 7555 करोड़ रुपए खर्च करेगा। सर्वे के बाद मथुरा-धौलपुर का 2685 करोड़ का प्रोजेक्ट फाइनल हो चुका है। अभी धौलपुर से बीना के प्रोजेक्ट की लागत 4870 करोड़ रुपए प्रस्तावित है। बायपास के कंसेप्ट से इसकी लागत बढ़ सकती है। एक किलोमीटर पर 13 करोड़ रुपए खर्च होने का अनुमान है। इस तरह 546 करोड़ रुपए की राशि और बढ़ सकती है।

आगरा-ग्वालियर रेल मार्ग की अप मेन लाइन के बगल से चौथी पटरी डाली जाएगी। सांक स्टेशन निकलने के बाद ट्रैक को घुमाव दिया जाएगा। रायरू-बिरला नगर ट्रैक के बीच आगरा-झांसी हाईवे के ब्रिज के पास से फिर घुमाव दिया जाएगा। इसके बाद चौथी लाइन बरेठा, बड़गांव, रमौआ गांव, मालवा कॉलेज, सिथौली रेलवे स्टेशन, अडूपुरा बिजली घर के पास से संदलपुर की पहाडिय़ों के बीच गुजरे पुराने रेल ट्रैक के नजदीक पहुंचेगी।

X
Gwalior News - mp news 42 km long first bypass track to be built for fourth rail line

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना