• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Gwalior
  • Gwalior News mp news chief secretary said oldest medical college but the arrangements are poor now it has to be made number 1

मुख्य सचिव बोले- सबसे पुराना मेडिकल कॉलेज लेकिन व्यवस्थाएं घटिया, इसे अब नंबर-1 बनाना है

Gwalior News - मुख्य सचिव एसआर मोहंती ने पहली बार शनिवार को गजराराजा मेडिकल काॅलेज में विभागाध्यक्षों की बैठक लेकर अस्पताल की...

Oct 13, 2019, 07:40 AM IST
मुख्य सचिव एसआर मोहंती ने पहली बार शनिवार को गजराराजा मेडिकल काॅलेज में विभागाध्यक्षों की बैठक लेकर अस्पताल की व्यवस्थाओं काे लेकर नाराजगी जताई। उन्होंने कहा कि जीआरएमसी प्रदेश का सबसे पुराना कॉलेज है लेकिन यहां की व्यवस्थाएं सबसे घटिया हैं। आपके अस्पताल में मरीज परेशान होते रहते हैं। मंत्री बाेलते हैं कि अस्पताल में स्ट्रेचर नहीं है, मुझे ये सुनना अच्छा नहीं लगता। यहां व्यवस्थाएं सुधारने की बेहद जरूरत है। मुझे जीआरएमसी प्रदेश में नंबर वन स्थान पर चाहिए। इसके लिए बजट की जरूरत है तो मुझे बताएं। 100-200 करोड़ की रकम देना कोई बड़ी बात नहीं है। मैं इससे ज्यादा बजट भी यहां के लिए दे दूंगा। मेडिकल काॅलेज के हाॅल में करीब 40 मिनट चली बैठक में मोहंती ने कहा कि अस्पताल में छोटी-छोटी समस्याओं से स्थानीय स्तर पर ही निपटा जा सकता है। जिला और पुलिस प्रशासन व नगर निगम के सहयोग से अस्पताल की व्यवस्थाओं को बेहतर बनाया जा सकता है। छोटी-छोटी समस्याओं के लिए शासन स्तर से अपेक्षा करना उचित नहीं है। बैठक में संभागायुक्त एमबी अाेझा, कलेक्टर अनुराग चाैधरी, एसपी नवनीत भसीन, प्रभारी डीन डाॅ. सराेज काेठारी आदि माैजूद थे।

कहा- बजट की कमी नहीं होने दूंगा

मेडिकल कॉलेज में विभागाध्यक्षों की बैठक लेते मुख्य सचिव।

डाॅ. बिंदल की ओर देखकर मुख्य सचिव बाेले- अाप यहां रहें या वहां?

मुख्य सचिव श्री माेहंती ने बैठक में इंदाैर मेडिकल काॅलेज की डीन और मानसिक आरोग्यशाला की संचालक डाॅ. ज्याेति बिंदल की ओर मुखातिब हाेकर कहा कि आप यहां रहें या वहां, क्या फर्क पड़ता है। इसे जीआरएमसी में डीन बदलने का संकेत माना जा रहा है।

यह भी दिए निर्देश






- सुपर स्पेशलिटी हाॅस्पिटल के लिए अलग से पुलिस चाैकी बनाएं।

इधर..अफसरों से बाेले- समस्याओं को लेकर विभागों के बीच तालमेल नहीं

ग्वालियर। मुख्य सचिव सुधि रंजन मोहंती ने ऊषा किरण पैलेस में कलेक्टर-कमिश्नर और एसपी-आईजी को बुलाकर कहा कि शहर में ट्रैफिक, पेंच वर्क, पोल शिफ्टिंग, अतिक्रमण हटाने, सड़क निर्माण, बिजली कटौती जैसे मामलों में मुझे संबंधित विभागों के बीच तालमेल की कमी नजर आ रही है। उन्होंने कलेक्टर अनुराग चौधरी से कहा कि आप नगर निगम, पीडब्ल्यूडी, ट्रैफिक पुलिस, बिजली कंपनी सहित जितने भी विभाग हैं, उनके अधिकारियों को दो टूक समझा दो कि तालमेल बनाकर काम करें। चंबल प्रोजेक्ट को लेकर मुख्य सचिव कलेक्टर से बोले कि एक सप्ताह बाद आप अपनी टीम के साथ भोपाल आएं और पूरी तैयारी करके आएं। हम इस मामले में कुछ कांक्रीट वर्क करना चाहते हैं। बैठक में एयर कार्गो हब के निर्माण को लेकर भी चर्चा हुई।

मुख्य सचिव ने कहा कि एयर कार्गो हब बनना चाहिए, मैं इसके समर्थन में हूं। लेकिन क्या ग्वालियर में कार्गो हब बनाने के लायक ग्राउंड पर अवसर हैं या नहीं। उन्होंने कलेक्टर से कहा कि यह तभी पता चल पाएगा जब आप कारोबारियों के साथ मुद्दे को लेकर बात करेंगे। ग्वालियर में जितने भी कारोबारी संगठन हैं, उन सभी के साथ आप बैठक करो और उनसे पूछो कि वे कितना माल एक्सपोर्ट करते हैं। अगर स्थानीय कारोबारियों और पैसेंजरों की संख्या बढ़ेगी तो प्राइवेट एयर लाइंस इस दिशा में अपना रिस्पांस दिखाएंगी।

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना