सबका एक ही मकसद... कोई भूखा न रहे, अपने-अपने स्तर पर कर रहे मदद

Gwalior News - ग्वालियर| कोरोना संक्रमण के चलते शहर की संस्थाओं और समाजसेवियों द्वारा जरूरतमंदों को भोजन बांटने का सिलसिला अब...

Mar 31, 2020, 07:06 AM IST
ग्वालियर| कोरोना संक्रमण के चलते शहर की संस्थाओं और समाजसेवियों द्वारा जरूरतमंदों को भोजन बांटने का सिलसिला अब और अधिक तेज हो गया है। मदद के लिए हर व्यक्ति अपने-अपने स्तर से प्रयास कर रहा है। परिवार के साथ पैदल अपने गांव जा रहे मजदूर भूखे न रहें। उनकी परेशानी कुछ कम हो जाए। इसी भावना से हर व्यक्ति समाजसेवा कर रहा है।

जीवाजी क्लब...हर रोज तैयार कर रहा 1500 पैकेट

जेयू के शिक्षक...हाईवे पर बांटे 100 खाने के पैकेट

वकीलों को आज से मिलेगी सहायता राशि

देशभर में 14 अप्रैल तक लॉकडाउन के चलते सभी न्यायालय बंद है। इस कारण कई वकीलों को आर्थिक संकट से जूझना पड़ रहा है। इस घड़ी में उच्च न्यायालय अभिभाषक संघ, ग्वालियर मंगलवार से जरूरतमंद वकीलों के खाते में ढाई हजार रुपए की सहायता राशि जमा करा रहा है। संघ के सचिव पवन पाठक ने बताया, 200 से अधिक वकीलों ने आर्थिक सहायता के लिए आवेदन किया है। इन आवेदनों की छंटनी की जा रही है। केवल उन्हीं वकीलों को सहायता राशि दी जाएगी जो नियमित न्यायालय में आते हैं। मंगलवार को लगभग 20 से अधिक वकीलों के खाते में सहायता राशि पहुंचा दी जाएगी। उधर डॉ. दिली समाधिया, देवेंद्र राजपूत ने साईं बाबा मंदिर, जेयू के परीक्षा भवन क्षेत्र में जरूरतमंदों को भोजन के पैकेट बांटे।

न्यायाधीशों ने एक दिन का वेतन जमा कराया

कोरोना वायरस से निपटने के लिए तैयार किए गए प्रधानमंत्री राहत कोष में जिला न्यायालय ग्वालियर में पदस्थ न्यायाधीशों की ओर से कुल 2,65,788 रुपए की राशि प्रदान की गई। जानकारी के अनुसार, जिले में पदस्थ न्यायाधीशों ने एक दिन का वेतन प्रधानमंत्री राहत कोष में दिया गया है। इसमें विशेषकर न्यायाधीश संजय अग्रवाल, न्यायाधीश उत्सव चतुर्वेदी, न्यायाधीश शिवकांत व न्यायाधीश ऋतुराज सिंह चौहान ने राहत कोष में 11-11 हजार रुपए जमा कराए हैं।

रेलवे में नौकरी के साथ-साथ कर रहे जनसेवा

शहर से 20 किलोमीटर दूरी पर स्थित आतंरी स्टेशन पर पदस्थ स्टेशन मैनेजर संजय हयारण अपनी नौकरी के साथ-साथ भूखों की चिंता भी कर रहे हैं। वे जब सुबह ग्वालियर से ड्यूटी के लिए निकलते हैं। तब अपनी कार में बिस्किट और नमकीन के पैकेट आदि ले जाते हैं। ग्वालियर से आंतरी तिराहे तक हाईवे पर जो भी पैदल राहगीर चलता मिलता है, उसे रोककर खाद्य सामग्री देते हैं। यह सिलसिला ड्यूटी से लौटते वक्त भी रहता है।

जीवाजी क्लब जरूरतमंदों को हर दिन भोजन के 1500 पैकेट बांट रहा है। क्लब के सचिव तरुण गोयल ने बताया कि आर्थिक सहायता और भोजन बांटने का काम प्रशासन के माध्यम से किया जा रहा है। जिन लोगों को अधिक मात्रा में भोजन के पैकेट चाहिए वे श्री गाेयल के माेबाइल नंबर 8889058888 पर संपर्क कर सकते हैं। वहीं फूड फॉर ऑल संस्थान ने 50 हजार पैकेट बांटे।

जीवाजी यूनिवर्सिटी के शिक्षकों ने सोमवार को बड़े गांव के पास स्थित हाइवे पर आगरा से टीकमगढ़ के लिए पैदल निकले 100 मजदूरों को भोजन के पैकेट और बच्चों को बिस्किट के पैकेट बांटे। खाने का इंतजाम आर्कियोलाॅजी के असिस्टेंट प्रोफेसर डॉ. शांतिदेव सिसौदिया ने किया था। उनके साथ फार्मेसी के विभागाध्यक्ष डॉ. मुकुल तेलंग भी पहुंचे थे।


X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना