चार कंपनियों ने खोद डालीं 1123 किलोमीटर सड़कें 17.35 करोड़ का जुर्माना, फिर भी नहीं भरे गड्ढे

Gwalior News - शहर में चल रही 730 करोड़ रुपए की अमृत योजना में सीवर और पानी की लाइनें डालने के लिए 1123 किलोमीटर सड़कों को खोद दिया गया...

Jul 14, 2019, 07:25 AM IST
शहर में चल रही 730 करोड़ रुपए की अमृत योजना में सीवर और पानी की लाइनें डालने के लिए 1123 किलोमीटर सड़कों को खोद दिया गया है। शहरवासियों की शिकायतों पर मुख्य सड़कों सहित पॉश कालोनियों में गड्ढों को भरकर डामर की कामचलाऊ सड़कें बना दी गई, जो बारिश में धंसकने लगी हैं। पानी और सीवर की लाइन की खुदाई के चलते शहर की जनता को गंदा पानी मिल रहा है। पानी और सीवर प्रोजेक्ट पर काम करने वाली चार कंपनियों पर 17.35 करोड़ रुपए का जुर्माना किया है। यह राशि तब मिलेगी, जब चारों निर्माण कंपनियां समय पर पूरा काम कर लेंगी।

सड़कों को ठीक कराने अभियान चलाऊंगा


ग्राउंड रिपोर्ट... सड़कें खोद देने से ऐसे बिगड़ रहे हालात

डीडी नगर: पानी की लाइन 5 किमी क्षेत्र में डाली है। मिट्टी का भराव ठीक से नहीं हुआ। सड़क में जगह-जगह गड्ढे हो गए हैं। बारिश का पानी भरा है। यह काम विष्णु प्रकाश पुंगलिया कंपनी ने 10 माह पहले शुरू किया है।

आदित्यपुरम: रिलायंस पेट्रोल पंप के रास्ते पर पिछले सप्ताह पानी की लाइन के लिए खुदाई की गई थी। यह काम विष्णु प्रकाश पुंगलिया ने किया है। पांच जगह गड्ढे खुदे पड़े हैं। इनमें पानी भरने से मच्छर पनप रहे हैं।

सचिन तेंदुलकर मार्ग: सिटी सेंटर से लेकर हुरावली तक 3 किलोमीटर पानी की मुख्य लाइन (400 एमएम की) डाली जा रही है। यह काम पुंगलिया कंपनी कर रही है। रोक के बाद भी काम चल रहा है। मिट्टी धंसकने से गड्ढे हो गए हैं। एक तरफ की सड़क 500 मीटर तक बंद पड़ी है। वाहन दूसरे रास्ते से निकल रहे हैं।

भैंसमंडी मार्ग: दो माह पहले इस मार्ग पर सीवर प्रोजेक्ट का काम करने वाली कंपनी ने लाइन डाली थी। उसके गड्ढों पर मरम्मत कर डामर कर दिया गया है। 400 मीटर लंबी सड़क पर डामर की सड़क तीन जगह धंसक चुकी है। हजारों वाहन चालक परेशान हो रहे हैं।

अलकापुरी मार्ग: पुंगलिया कंपनी ने दो महीने पहले 600 मीटर पानी की लाइन के लिए गड्ढे किए थे। 300 मीटर में मरम्मत कर सीसी रोड बनाई है। इसके आगे मिट्टी डालकर छोड़ दिया है। पानी से सड़क धंसक गई है। इसके साथ ही दो जगह बड़े गड्डे होने पर भवन का मटेरियल भरकर खानापूर्ति की गई है।

खल्लासीपुरा: शिंदे की छावनी क्षेत्र के खल्लासीपुरा में 3 महीने पहले 400 मीटर पानी की लाइऩ डाली गई थी। गड्ढों में पुंगलिया कंपनी ने मिट्टी भरकर छोड़ दिया है। यहां से बारिश में निकलना मुश्किल हो गया है।

हॉकी खेल अकादमी मार्ग: दक्षिण क्षेत्र में सीवर का काम इनविराड कंपनी कर रही है। इसने खेल अकादमी पर 4 महीने पहले खुदाई कर सड़क पर डामरीकरण कर दिया था। आरटीओ आफिस के पास सड़क तीन जगह बैठ गई है। यह क्षेत्र 150 मीटर लंबा है।

चेतकपुरी मार्ग: बसंत विहार से चेतकपुरी मार्ग डेढ़ किमी लंबा है। यहां जयंती कंपनी ने सीवर प्रोजेक्ट पर काम किया था। खुदाई के बाद भराव, फिर डामरीकरण किया। बारिश में सड़क जगह-जगह बैठ चुकी है। इसके बगल से ही माधव नगर मार्ग है। यहां खुदाई कर आधी सड़क ठीक कर दी गई है।

रानीपुरा: यहां पर पांच महीने पहले सीवर लाइन के लिए खुदाई की गई थी। यह काम जयंती कंपनी ने किया है। गिट्टी डालने के बाद भी गड्ढे हो गए हैं। 100 मीटर क्षेत्र में हजारों लोग परेशान है।

गेंडेवाली सड़क पर सीवर और पानी की लाइन के लिए खोदी गई सड़क।

डीडी नगर: पानी की लाइन 5 किमी क्षेत्र में डाली है। मिट्टी का भराव ठीक से नहीं हुआ। सड़क में जगह-जगह गड्ढे हो गए हैं। बारिश का पानी भरा है। यह काम विष्णु प्रकाश पुंगलिया कंपनी ने 10 माह पहले शुरू किया है।

आदित्यपुरम: रिलायंस पेट्रोल पंप के रास्ते पर पिछले सप्ताह पानी की लाइन के लिए खुदाई की गई थी। यह काम विष्णु प्रकाश पुंगलिया ने किया है। पांच जगह गड्ढे खुदे पड़े हैं। इनमें पानी भरने से मच्छर पनप रहे हैं।

सचिन तेंदुलकर मार्ग: सिटी सेंटर से लेकर हुरावली तक 3 किलोमीटर पानी की मुख्य लाइन (400 एमएम की) डाली जा रही है। यह काम पुंगलिया कंपनी कर रही है। रोक के बाद भी काम चल रहा है। मिट्टी धंसकने से गड्ढे हो गए हैं। एक तरफ की सड़क 500 मीटर तक बंद पड़ी है। वाहन दूसरे रास्ते से निकल रहे हैं।

भैंसमंडी मार्ग: दो माह पहले इस मार्ग पर सीवर प्रोजेक्ट का काम करने वाली कंपनी ने लाइन डाली थी। उसके गड्ढों पर मरम्मत कर डामर कर दिया गया है। 400 मीटर लंबी सड़क पर डामर की सड़क तीन जगह धंसक चुकी है। हजारों वाहन चालक परेशान हो रहे हैं।

अलकापुरी मार्ग: पुंगलिया कंपनी ने दो महीने पहले 600 मीटर पानी की लाइन के लिए गड्ढे किए थे। 300 मीटर में मरम्मत कर सीसी रोड बनाई है। इसके आगे मिट्टी डालकर छोड़ दिया है। पानी से सड़क धंसक गई है। इसके साथ ही दो जगह बड़े गड्डे होने पर भवन का मटेरियल भरकर खानापूर्ति की गई है।

खल्लासीपुरा: शिंदे की छावनी क्षेत्र के खल्लासीपुरा में 3 महीने पहले 400 मीटर पानी की लाइऩ डाली गई थी। गड्ढों में पुंगलिया कंपनी ने मिट्टी भरकर छोड़ दिया है। यहां से बारिश में निकलना मुश्किल हो गया है।

हॉकी खेल अकादमी मार्ग: दक्षिण क्षेत्र में सीवर का काम इनविराड कंपनी कर रही है। इसने खेल अकादमी पर 4 महीने पहले खुदाई कर सड़क पर डामरीकरण कर दिया था। आरटीओ आफिस के पास सड़क तीन जगह बैठ गई है। यह क्षेत्र 150 मीटर लंबा है।

चेतकपुरी मार्ग: बसंत विहार से चेतकपुरी मार्ग डेढ़ किमी लंबा है। यहां जयंती कंपनी ने सीवर प्रोजेक्ट पर काम किया था। खुदाई के बाद भराव, फिर डामरीकरण किया। बारिश में सड़क जगह-जगह बैठ चुकी है। इसके बगल से ही माधव नगर मार्ग है। यहां खुदाई कर आधी सड़क ठीक कर दी गई है।

रानीपुरा: यहां पर पांच महीने पहले सीवर लाइन के लिए खुदाई की गई थी। यह काम जयंती कंपनी ने किया है। गिट्टी डालने के बाद भी गड्ढे हो गए हैं। 100 मीटर क्षेत्र में हजारों लोग परेशान है।

डीडी नगर: पानी की लाइन 5 किमी क्षेत्र में डाली है। मिट्टी का भराव ठीक से नहीं हुआ। सड़क में जगह-जगह गड्ढे हो गए हैं। बारिश का पानी भरा है। यह काम विष्णु प्रकाश पुंगलिया कंपनी ने 10 माह पहले शुरू किया है।

आदित्यपुरम: रिलायंस पेट्रोल पंप के रास्ते पर पिछले सप्ताह पानी की लाइन के लिए खुदाई की गई थी। यह काम विष्णु प्रकाश पुंगलिया ने किया है। पांच जगह गड्ढे खुदे पड़े हैं। इनमें पानी भरने से मच्छर पनप रहे हैं।

सचिन तेंदुलकर मार्ग: सिटी सेंटर से लेकर हुरावली तक 3 किलोमीटर पानी की मुख्य लाइन (400 एमएम की) डाली जा रही है। यह काम पुंगलिया कंपनी कर रही है। रोक के बाद भी काम चल रहा है। मिट्टी धंसकने से गड्ढे हो गए हैं। एक तरफ की सड़क 500 मीटर तक बंद पड़ी है। वाहन दूसरे रास्ते से निकल रहे हैं।

भैंसमंडी मार्ग: दो माह पहले इस मार्ग पर सीवर प्रोजेक्ट का काम करने वाली कंपनी ने लाइन डाली थी। उसके गड्ढों पर मरम्मत कर डामर कर दिया गया है। 400 मीटर लंबी सड़क पर डामर की सड़क तीन जगह धंसक चुकी है। हजारों वाहन चालक परेशान हो रहे हैं।

अलकापुरी मार्ग: पुंगलिया कंपनी ने दो महीने पहले 600 मीटर पानी की लाइन के लिए गड्ढे किए थे। 300 मीटर में मरम्मत कर सीसी रोड बनाई है। इसके आगे मिट्टी डालकर छोड़ दिया है। पानी से सड़क धंसक गई है। इसके साथ ही दो जगह बड़े गड्डे होने पर भवन का मटेरियल भरकर खानापूर्ति की गई है।

खल्लासीपुरा: शिंदे की छावनी क्षेत्र के खल्लासीपुरा में 3 महीने पहले 400 मीटर पानी की लाइऩ डाली गई थी। गड्ढों में पुंगलिया कंपनी ने मिट्टी भरकर छोड़ दिया है। यहां से बारिश में निकलना मुश्किल हो गया है।

हॉकी खेल अकादमी मार्ग: दक्षिण क्षेत्र में सीवर का काम इनविराड कंपनी कर रही है। इसने खेल अकादमी पर 4 महीने पहले खुदाई कर सड़क पर डामरीकरण कर दिया था। आरटीओ आफिस के पास सड़क तीन जगह बैठ गई है। यह क्षेत्र 150 मीटर लंबा है।

चेतकपुरी मार्ग: बसंत विहार से चेतकपुरी मार्ग डेढ़ किमी लंबा है। यहां जयंती कंपनी ने सीवर प्रोजेक्ट पर काम किया था। खुदाई के बाद भराव, फिर डामरीकरण किया। बारिश में सड़क जगह-जगह बैठ चुकी है। इसके बगल से ही माधव नगर मार्ग है। यहां खुदाई कर आधी सड़क ठीक कर दी गई है।

रानीपुरा: यहां पर पांच महीने पहले सीवर लाइन के लिए खुदाई की गई थी। यह काम जयंती कंपनी ने किया है। गिट्टी डालने के बाद भी गड्ढे हो गए हैं। 100 मीटर क्षेत्र में हजारों लोग परेशान है।

जुर्माने का भी असर नहीं

अनुबंध के अनुसार चारों कंपनियों को माइल स्टोन के तहत काम करना है। पूरे काम में चार माइल स्टोन तय किए गए हैं। इसमें पीछे रहने पर जयंती सुपर कंस्ट्रक्शन पर 7 करोड़, इनविराड पर 5 करोड़ रुपए का जुर्माना लगाकर पैसा रोका गया है। विष्णुप्रकाश पुंगलिया पर 8.55 करोड़ रुपए का जुर्माना था। उसका काम ठीक नहीं है फिर भी 6 करोड़ का भुगतान कर 2 करोड़ रुपए रोक लिए गए हैं। दूसरी कंपनी झांसी सीमेंट कंकीट के 35 लाख रुपए रोके गए हैं। यह राशि तब मिलेगी, जब कंपनी पूरा काम कर देंगी। नहीं करने पर पैसा जब्त हो जाएगा। इसके साथ ही पुरानी लाइनें तोड़ने और पानी की बर्बादी पर 5 लाख का जुर्माना लगाया गया है।

250 मीटर खोदकर भराव करें, तब आगे हो काम

अमृत योजना प्रोजेक्ट के अनुबंध के अनुसार पानी और सीवर की लाइन डालने का काम करने वाली कंपनियां 250 मीटर तक खुदाई करेंगी। वहां पर पाइप डालने के बाद ठीक के भराव करेंगी। तब आगे काम होगा। हकीकत में ऐसा नहीं हो रहा है।

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना