बीएड की काउंसिलिंग के लिए सेटिंग के निरीक्षण

Gwalior News - ग्वालियर

Bhaskar News Network

May 18, 2019, 07:41 AM IST
Gwalior News - mp news inspection of settings for counseling of bed
ग्वालियर
जीवाजी यूनिवर्सिटी ने बैचलर ऑफ एजुकेशन (बीएड) और मास्टर ऑफ एजुकेशन (एमएड) के 27 कॉलेजों की संबद्धता खत्म करने के बाद इन्हें बीएड काउंसिलिंग में शामिल कराने के लिए दोबारा निरीक्षण करा लिए। इन कॉलेजों में शिक्षकों की संख्या तय मानकों से कम होने का हवाला देकर काउंसिलिंग लिस्ट से हटा लिया गया था, लेकिन बाद में सेटिंग के जरिए 12 कॉलेजों में निरीक्षण कराकर संबद्धता जारी करने की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है। इन कॉलेजों को पांच जून से शुरू होने वाली थर्ड राउंड की काउंसिलिंग में शामिल करने के लिए यह पूरी कवायद की जा रही है।

27 कॉलेजों पर एक्शन

जेयू के अफसरों ने जिले के 26 बीएड और एक एमएड कॉलेज की संबद्धता खत्म की थी। इसकी लिस्ट उच्च शिक्षा विभाग को भेजी गई थी, जिसके आधार पर इन्हें सेकंड काउंसिलिंग की लिस्ट से हटा लिया गया था और पहली काउंसिलिंग में एडमिशन ले चुके छात्रों की एफडी वापस कराकर उन्हें दूसरे कॉलेज अलॉट किए गए।

इन कॉलेजों की संबद्धता की समाप्त: जेयू ने आरएससी कॉलेज, शीतला शिक्षा महाविद्यालय, एसआर महाविद्यालय, जैन इंस्टीट्यूट, अवध माधव कॉलेज, श्री व्यंकटेश एजुकेशन अकादमी, डीपी सिंह शिक्षा महाविद्यालय, विद्यावती कॉलेज, श्री रामनाथ एमएड कॉलेज, आस्था कॉलेज ऑफ एजुकेशन, हिंदुस्तान कॉलेज ऑफ टीचर्स एजुकेशन, लॉर्ड कॉलेज ऑफ एजुकेशन, पीआईपीएस कॉलेज, आइडिया इंस्टीट्यूट ऑफ टीचर्स एजुकेशन, वंदेमातरम कॉलेज ऑफ एजुकेशन, नीलकांत महाविद्यालय, श्री रामनाथ सिंह महाविद्यालय, वनखंडेश्वर शिक्षा महाविद्यालय, माता प्रसाद तिवारी कॉलेज, शिवशंकर महाविद्यालय, जय हिंद शिक्षा महाविद्यालय, एनएएस इंटरनेशनल स्कूल, पीतांबरा एजुकेशन कॉलेज, जेएम कॉलेज ऑफ एजुकेशन, अंबिका कॉलेज, मां सरस्वती शिक्षा महाविद्यालय व प्राशी शिक्षा महाविद्यालय की संबद्धता समाप्त की गई है।

रिप्रेजेंटेशन पर लिया निर्णय

 संबद्धता समाप्त होने के बाद कुछ कॉलेज संचालकों ने हमें रिप्रेजेंटेशन दिया था कि उनके यहां स्टाफ है, लेकिन निरीक्षण के समय पर उपस्थित नहीं था। इस आधार पर हमने दोबारा निरीक्षण की प्रक्रिया की है। जो कॉलेज संचालक अब भेदभाव का आरोप लगा रहे हैं, उनके पास स्टाफ नियुक्त ही नहीं है। ऐसे में हम उनके कॉलेज का दोबारा निरीक्षण कराकर क्या करेंगे। डीडी अग्रवाल, डायरेक्टर कॉलेज डेवलपमेंट कमेटी, जेयू

अन्य कॉलेजों का तर्क नहीं माना

12 कॉलेज संचालकों ने जब स्टाफ मौके पर उपस्थित न होने का हवाला देकर दोबारा निरीक्षण कराने की मांग की, तो अफसर राजी हो गए। इसको देखते हुए बाद में बाकी 15 कॉलेज संचालकों ने भी यही तर्क देकर जब अपने यहां निरीक्षण की मांग की, तो अफसरों ने इसे नकार दिया। इससे इस प्रक्रिया पर प्रश्न चिह्न खड़े हो गए हैं।

X
Gwalior News - mp news inspection of settings for counseling of bed
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना