फल मंडी से शुल्क वसूलने की तैयारी में मंडी बोर्ड

Bhaskar News Network

May 18, 2019, 07:41 AM IST

Gwalior News - ग्वालियर

Gwalior News - mp news mandi board in preparation of fees from fruit market
ग्वालियर
पुरानी छावनी स्थित थोक फल मंडी में 70 से अधिक दुकानें हैं। वहीं दूसरी मंडी जनकगंज थाने के नजदीक संचालित की जाती है। ये दोनों ही फल मंडियां निजी जमीन पर संचालित होती हैं और व्यापारियों ने यहां किराए से दुकानें ले रखी हैं। इस कारण यहां मंडी बोर्ड द्वारा शुल्क वसूली के संबंध में कार्रवाई नहीं की जाती है। बोर्ड के अफसर सिर्फ उन्हीं व्यापारियों से शुल्क वसूल करते हैं, जो उनके परिसर में दुकान संचालित कर रहे हैं। इसको देखते हुए अब बोर्ड के अफसरों ने इस मंडी को लक्ष्मीगंज स्थित सब्जी मंडी की आठ बीघा जमीन पर शिफ्ट करने का प्रस्ताव तैयार किया है। इस प्रस्ताव के मुताबिक नई मंडी में सब्जी और अनाज के व्यापारियों के शिफ्ट होने के बाद खाली होने वाली जमीन पर फल मंडी को शिफ्ट किया जाए। इसके लिए 30 दुकानों और खुली जगह की नीलामी की जाएगी और व्यापारी अपनी बोली लगाकर अलॉटमेंट करा सकेंगे। इससे फुटकर दुकानदारों सहित शहरवासियों को भी एक ही परिसर में सब्जी, अनाज और फल उपलब्ध हो जाएंगे। अगर टैक्स से बचने के लिए व्यापारी यहां नहीं आएंगे, तो फिर वर्तमान मंडियों के बाहर ही मंडी बोर्ड के अफसर टैक्स वसूली के लिए चेकिंग की कार्रवाई करेंगे। अभी चेकिंग न होने की स्थिति में बोर्ड को हर साल 20 लाख रुपए के टैक्स का नुकसान उठाना पड़ता है।


पुरानी छावनी और जनकगंज में निजी जमीन पर संचालित हो रही फल मंडी से अब मंडी बोर्ड के अफसर टैक्स वसूलने की तैयारी कर रहे हैं। अफसरों का प्लान है कि इन दुकानदारों को सब्जी मंडी परिसर में शिफ्ट किया जाए। अगर थोक व्यापारी ऐसा करने में आनाकानी करते हैं, तो वर्तमान परिसर से ही शुल्क वसूली की प्रक्रिया शुरू की जाएगी। ऐसा करने से मंडी बोर्ड को हर साल 20 लाख रुपए से अधिक का राजस्व प्राप्त होगा।

सिर्फ बाहर जाने वाले फलों पर टैक्स

वर्तमान में मंडी बोर्ड को सिर्फ उन्हीं व्यापारियों से टैक्स प्राप्त होता है, जो यहां से दूसरे शहरों में फलों को भेजते हैं। इन शहरों में फलों की बिक्री और सप्लाई के लिए मंडी टैक्स चुकाने की रसीद अनिवार्य होती है। ऐसा न होने पर इसे टैक्स चोरी का माल मानकर टैक्स की राशि का 10 गुना तक जुर्माना वसूल करने का प्रावधान है।

हमने प्रस्ताव भेजा है

फल मंडी को लक्ष्मीगंज स्थित वर्तमान मंडी में शिफ्ट करने के लिए हमने प्रस्ताव तैयार किया है। फल मंडी यहां शिफ्ट होने पर मंडी बोर्ड यहां टैक्स की वसूली कर सकेगा। देवेेंद्र सिंह जादौन, सचिव कृषि उपज मंडी लश्कर

X
Gwalior News - mp news mandi board in preparation of fees from fruit market
COMMENT