मिलावटी दूध के संदेह में टैंकर को दो किमी पीछा कर पकड़ा

Gwalior News - मिलावटी दूध के संदेह में फूड विभाग की दो अलग-अलग टीमों ने शहर के दो प्रवेश मार्गों पर छापामार कार्रवाई कर टैंकर...

Bhaskar News Network

Oct 13, 2019, 07:36 AM IST
Gwalior News - mp news on suspicion of adulterated milk the tanker was chased two km
मिलावटी दूध के संदेह में फूड विभाग की दो अलग-अलग टीमों ने शहर के दो प्रवेश मार्गों पर छापामार कार्रवाई कर टैंकर पकड़े, लेकिन इनको पकड़ने के लिए टीम को फिल्मी अंदाज में पीछा करना पड़ा। पहली टीम लखनलाल कोरी, लाेकेंद्र सिंह, रवि शिवहरे और निरुपमा शर्मा की थी, जो झांसी रोड थाने के सामने खड़े होकर दूध के टैंकरों के गुजरने का इंतजार कर रहे थे।

मुरैना के नूराबाद से दूध का टैंकर लेकर आ रहे बृजेंद्र गुर्जर ने जैसे ही टीम को देखा तो उसने वाहन को भगाने का प्रयास किया। टीम को ड्राइवर की यह कोशिश संदेहास्पद लगी, इसलिए वे भी अपनी कार से टैंकर चालक के पीछे लग गए। करीब दो किमी.पीछा करके नाका चंद्रवदनी के अंदरुनी इलाके में जाकर टैंकर को रोका और फिर थाने लेकर आए। इसी तरह का घटनाक्रम हजीरा थाना के बाहर हुआ। यहां पर सतीश धाकड़ और सतीश शर्मा की टीम ने मुरैना जा रहे टैंकर को इसी तरह पीछा कर पकड़ा।

ड्राइवर बोला- नूराबाद से लाया टैंकर, कंपू से भरा दूध और धौलपुर लेकर जा रहा हूं

थाने पर ड्राइवर बृजेंद्र गुर्जर से फूड इंस्पेक्टर लखनलाल ने पूछा कि तुम हमें देखकर भाग क्यों रहे थे। ड्राइवर बोला कि वह घबरा गया था, इसलिए भाग रहा था। टीम ने पूछा कि दूध कहां से ला रहे थे, तो ड्राइवर बोला कि वह मुरैना के नूराबाद स्थित गांव धनेला से टैंकर ला रहा था। कंपू पर ग्वालियर के अलग-अलग गांव से टंकियों में भरकर दूधिए दूध लाते हैं। उन्हीं से दूध लेकर यह टैंकर भरा गया है। इस टैंकर को हम धौलपुर की जय भोलेनाथ फैक्ट्री में लेकर जा रहे थे। इसके बाद टीम में शामिल इंस्पेक्टर ने टैंकर में से दूध के सैंपल लिए। इस टैंकर में 1 हजार लीटर दूध भरा हुआ था। इसी दौरान वहां से गुजर रहे एक बड़े चिलर टैंकर को रोका गया। यह टैंकर राजगढ़ के ब्यावरा से आ रहा था। मानव महिला मिल्क प्रोड्यूसर के नाम यह टैंकर पंजीबद्ध था। इसमें करीब 11 हजार 699 लीटर दूध भरा हुआ था। ड्राइवर शैलेंद्र सिंह इसे लेकर इटावा जा रहा था। इसमें से भी दूध के सैंपल लिए गए। संदेह के कारण फूड विभाग ने ग्वालियर दुग्ध संघ से संपर्क किया और उनके प्लांट में काम करने वाले स्टाफ को बुलाया गया। उन्होंने मौके पर दोनों टैंकरों से लिए गए दूध में यूरिया, नमक, रिफाइंड ऑयल और न्यूट्रिलाइज की जांच की। हालांकि इस जांच में दूध में कुछ भी ऐसा पदार्थ नहीं मिला जो मानव जीवन के लिए हानिकारक हो। दूध सपरेटा किस्म का था। विस्तृत जांच के लिए एक अलग सैंपल भी लिया गया, जिसे भोपाल स्थित लैंब में भेजा जाएगा।

X
Gwalior News - mp news on suspicion of adulterated milk the tanker was chased two km
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना