2980 करोड़ के प्रोजेक्ट, सभी की अवधि बढ़ेगी

Gwalior News - स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट: 2250 करोड़ चयन: केंद्र सरकार की इस योजना में ग्वालियर का चयन मई 2016 में हुआ था। 100 स्मार्ट...

Mar 28, 2020, 07:06 AM IST

स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट: 2250 करोड़

चयन: केंद्र सरकार की इस योजना में ग्वालियर का चयन मई 2016 में हुआ था। 100 स्मार्ट सिटी का पांच साल का ही वक्त था। यह 31 को खत्म हो रहा है। अभी तक 100 करोड़ के काम हुए हैं। 300 करोड़ रुपए की राशि के टेंडर प्रक्रिया में चल रहे हैं।

प्रोजेक्ट जो चल रहे हैं: आईटीएमएस, कटोराताल और टाउन हाल का जीर्णोद्धार, प्लेनटोरियम, सेंट्रल लाइब्रेरी का जीर्णोद्धार, स्मार्ट खेल मैदान, स्मार्ट वाश रूम एवं कैफेटेरिया आदि।

ये टेंडर प्रक्रिया में: 40 इलेक्ट्रिक बस, 80 सीएनजी बस, स्मार्ट रोड एवं पैदल जोन, फसाड लाइटिंग अाैर स्वर्ण रेखा प्रोजेक्ट आदि हैं।


सीवर लाइन पर खर्च करेंगे 400 करोड़


सीवर ट्रीटमेंट प्लांट: जलालपुर 145 एमएलडी, शताब्दीपुरम में 8 एमएलडी, लालटिपारा में 65 एमएलडी और ललियापुरा में 4 एमएलडी का प्लांट बनना है। जलालपुर की टेस्टिंग हुई है। वह भी बंद हो गई।

सीवर लाइन: मुरार क्षेत्र में 180 किमी, लश्कर क्षेत्र में 87 किमी लाइन पर काम चल रहा है।

पुराने पंपिंग स्टेशन की क्षमता बढ़ाना: लालटिपारा पर 50 एमएलडी की क्षमता बढ़ाकर 65 और पीएचई काॅलोनी, हजीरा की क्षमता 90 से 145 एमएलडी करना है।

वाटर प्रोजेक्ट: कुल लागत 330 करोड़

पाइप लाइन बिछाने का काम कुल: 825 किलोमीटर, अभी काफी काम बकाया।

43 पानी की टंकियां : काम जारी, सभी टंकियां नहीं बनीं।

7 संपवैल निर्माण का कार्य, मोतीझील प्लांट पर मरम्मत का काम अभी चल रहा है।

जलालपुर में 165 एमएलडी क्षमता वाला वाटर ट्रीटमेंट प्लांट: निर्माण कार्य अधूरा

तिघरा बांध से जलालपुर तक पानी की लाइन: अनुबंध के अनुसार लंबाई-20.5 किमी। निर्माण कार्य अधूरा है।

अमृत योजना

ग्वालियर| शहर में चल रही 2980 करोड़ रुपए की योजनाओं के काम 31 मार्च तक पूरे नहीं हो पाएंगे। छह महीने पहले ही लेट हो चुके अमृत योजना के प्रोजेक्ट पर नगर निगम जुर्माना लगा रहा है। अभी तक 50 करोड़ का जुर्माना लगाया जा चुका है। अब कोरोना प्रकोप का फायदा अमृत योजना के साथ-साथ स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट को भी मिलने वाला है। इनकी अवधि को बढ़ाने का काम देश और प्रदेश स्तर पर चल रहा है। भोपाल स्थित संचालनालय में पदस्थ जिम्मेदार अधिकारियों का कहना है कि 31 मार्च को जिन कामों की अवधि खत्म होने जा रही है, उनको बढ़ाया जाएगा।

नगर निगम में अमृत योजना प्रोजेक्ट के तहत सीवर और पानी के काम किए जा रहे हैं। यह प्रोजेक्ट 730 करोड़ रुपए का था। इनको पूरा करने की अवधि सितंबर-अक्टूबर 2019 में पूरी हो गई थी जबकि काम 40 प्रतिशत भी पूरे नहीं हुए थे। तब शासन ने इनकी अ‌वधि को 6 महीने के लिए बढ़ाया था। इस पर कंपनियों पर जुर्माना लगाया गया।

सिटी सेंटर पर सेंट्रल पार्क होटल के सामने वाली सड़क पर अमृत योजना के तहत बिछायी जा रही पानी की पाइप लाइन का काम जो बंद पड़ा है।

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना