जनसेवा था राजमाता का मकसद, उनकी मेहनत से भाजपा आज बड़ा परिवार

Gwalior News - पाॅलिटिकल रिपाेर्टर | ग्वालियर ये राजमाता विजयाराजे सिंधिया के त्याग और तपस्या का ही नतीजा है कि आज भाजपा इतने...

Oct 13, 2019, 07:37 AM IST
पाॅलिटिकल रिपाेर्टर | ग्वालियर

ये राजमाता विजयाराजे सिंधिया के त्याग और तपस्या का ही नतीजा है कि आज भाजपा इतने विशाल रूप में दिखाई देती है। वे आज शारीरिक रूप से हमारे बीच नहीं हैं लेकिन उनके आदर्श और जीवन केे मूल्य हमें सही मार्ग पर बढ़ने की प्रेरणा देते हैं। ये बात शनिवार को राजमाता की 100वीं जयंती पर आयोजित श्रद्धांजलि व भजनाजंलि कार्यक्रम में पूर्व राज्यपाल प्रो. कप्तान सिंह सोलंकी ने कही। कटोरा ताल स्थित छत्री प्रागंण में आयोजित इस कार्यक्रम में भाजपा-कांग्रेस के राजनेताओं के अलावा समाजसेवियों और व्यापारियों ने भी अपनी पुष्पांजलि राजमाता को अर्पित की। श्री सोलंकी ने कहा केंद्र की मोदी सरकार आज राजमाता के सपने को साकार कर रही है। अगर राजमाता जी आज जीवित होतीं तो वह यह देखकर बहुत खुश होतीं कि उनकी पार्टी की सरकार जनहित में शुरू की गई विभिन्न योजनाओं के जरिए जरूरतमंदों के लिए काम कर रही है। कार्यक्रम में राजमाता की बेटी एवं राजस्थान की पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे, विधायक यशोधरा राजे, राजमाता के नाती एवं पूर्व केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया, वसुंधरा राजे के पुत्र एवं सांसद दुष्यंत सिंह विशेष रूप से उपस्थित रहे। कार्यक्रम में पूर्व मंत्री अनूप मिश्रा, भाजपा प्रदेश कार्यसमिति सदस्य वेदप्रकाश शर्मा, संतोष गुरु, भाजपा शहर अध्यक्ष देवेश शर्मा ने भी विचार व्यक्त किए। श्रद्धांजलि सभा के अंत में वसुंधरा राजे एवं यशोधरा राजे ने शहर अध्यक्ष श्री शर्मा को राजमाता की डिजिटलाइज फोटो भेंट किया, जिसे भाजपा कार्यालय मुखर्जी भवन में लगाया गया। श्रद्धांजलि सभा में पूर्व मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा, माया सिंह, ध्यानेंद्र सिंह, रुस्तम सिंह, नारायण सिंह कुशवाह, विधायक भारत सिंह कुशवाह, आरएसएस मध्य भारत प्रांत के प्रचार प्रमुख ओमप्रकाश सिसौदिया, पूर्व महापौर समीक्षा गुप्ता, कमल माखीजानी, सोनू मंगल, मधु भार्गव, खुशबू गुप्ता, भरत दांतरे सहित सैकड़ों कार्यकर्ता उपस्थित थे।

ज्योतिरादित्य बुआ वसुंधरा और यशाेधरा से मिले गले, दुष्यंत से हुईं बातें

राजमाता वियजाराजे सिंधिया को पुष्पांजलि देने के लिए श्रद्धांजलि सभा के बीच पूर्व केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया भी पहुंचे। उन्होंने पहले छत्री में जाकर श्रद्धासुमन अर्पित किए फिर बाहर आकर फोटो पर फूल चढ़ाए। इसके बाद वे लोगों के बीच पहुंचे और यशोधरा राजे के पास जाकर प्रणाम किया। फिर दूसरी साइड वसुंधरा राजे और दुष्यंत सिंह के बीच बैठ गए। यहां श्री सिंधिया अपनी बुआ और उनके बेटे से बातें करते रहे। तीनों के बीच कुछ हंसी मजाक भी हुआ। आखिर में वे वसुंधरा राजे और यशाेधरा राजे से गले मिलकर रवाना हुए। वहीं कार्यक्रम में उनकी ये मौजूदगी भाजपा नेताओं के चर्चा का विषय रही। पत्रकारों से चर्चा करते हुए उन्होंने कहा कि आज मेरी प्रिय दादी की जयंती है और मैं उन्हें पुष्पांजलि अर्पित करने आया हूं। इसे राजनीतिक चश्मे से न देखा जाए। ये हमारा पारिवारिक कार्यक्रम है।

माधवराज की छत्री पर भी पहुंची वसुंधरा और यशोधरा: कार्यक्रम समाप्त होने के बाद वसुंधरा राजे, यशोधरा राजे एवं दुष्यंत सिंह दिवंगत माधवराव सिंधिया और दिवंगत जीवाजीराव सिंधिया की छत्री पर भी पहुंचे। वहां श्रद्धासुमन अर्पित करने के बाद पत्रकारों से चर्चा में यशोधरा राजे ने कहा कि अम्मा महाराज की मेहनत से भाजपा इतने विशाल परिवार के रूप में सबके सामने है। उनका सपना था कि हर व्यक्ति को जनसेवा का लाभ मिले और हम लोग उसी दिशा में काम कर रहे हैं।

वीआईएसएम कॉलेज में भी हुआ कार्यक्रम

वीआईएसएम कॉलेज में भी हुआ कार्यक्रम

वीआईएसएम कॉलेज में राजमाता विजयाराजे सिंधिया की जयंती के उपलक्ष्य में कार्यक्रम किया गया। संस्थान के चेयरमैन डाॅ. सुनील राठौर ने उनके चित्र पर माल्यार्पण कर उनके व्यक्तित्व एवं कृतित्व पर प्रकाश डाला। उन्होंने कहा कि राजमाताजी ने राजमहल में रहकर भी आम आदमी की परेशानियों को समझा एवं उन्हें दूर करने के प्रयास निरंतर प्रयास किए। इसलिए संस्थान का नाम राजमाता के नाम पर रखा। इस अवसर पर संस्थान की चेयरपर्सन सरोज राठौर, ग्रुप डायरेक्टर डाॅ. प्रज्ञा सिंह, नर्सिंग डायरेक्टर प्रो. जयश्री, नर्सिंग प्राचार्य प्रो. रक्षा कुलश्रेष्ठ, प्रशासनिक अधिकारी विजय पाटनकर सहित छात्र-छात्राएं उपस्थित रहें।

भारतीय जनता पार्टी के नेता सईद सिंधिया ने अम्मा महाराज की छत्री पहुंचकर राजमाता को श्रद्धासुमन अर्पित किए। उन्होंने इस दौरान कहा कि अम्मा महाराज के जीवन से प्रेरणा लेते हुए जीवन में काफी कुछ सीखने को मिला है। सिंधिया छत्री पहुंचकर उन्होंने राजस्थान की पूर्व मुख्यमंंत्री वसुंधराराजे सिंधिया और पूर्व मंत्री यशोधर राजे सिंधिया से भी मुलाकात की।

वीआईएसएम कॉलेज में राजमाता विजयाराजे सिंधिया की जयंती के उपलक्ष्य में कार्यक्रम किया गया। संस्थान के चेयरमैन डाॅ. सुनील राठौर ने उनके चित्र पर माल्यार्पण कर उनके व्यक्तित्व एवं कृतित्व पर प्रकाश डाला। उन्होंने कहा कि राजमाताजी ने राजमहल में रहकर भी आम आदमी की परेशानियों को समझा एवं उन्हें दूर करने के प्रयास निरंतर प्रयास किए। इसलिए संस्थान का नाम राजमाता के नाम पर रखा। इस अवसर पर संस्थान की चेयरपर्सन सरोज राठौर, ग्रुप डायरेक्टर डाॅ. प्रज्ञा सिंह, नर्सिंग डायरेक्टर प्रो. जयश्री, नर्सिंग प्राचार्य प्रो. रक्षा कुलश्रेष्ठ, प्रशासनिक अधिकारी विजय पाटनकर सहित छात्र-छात्राएं उपस्थित रहें।

भारतीय जनता पार्टी के नेता सईद सिंधिया ने अम्मा महाराज की छत्री पहुंचकर राजमाता को श्रद्धासुमन अर्पित किए। उन्होंने इस दौरान कहा कि अम्मा महाराज के जीवन से प्रेरणा लेते हुए जीवन में काफी कुछ सीखने को मिला है। सिंधिया छत्री पहुंचकर उन्होंने राजस्थान की पूर्व मुख्यमंंत्री वसुंधराराजे सिंधिया और पूर्व मंत्री यशोधर राजे सिंधिया से भी मुलाकात की।

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना