सूखे और गीले कचरे के लिए अलग हों डस्टबिन घर से ही करेंे पर्यावरण बचाने की शुरुआत

2 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
पर्यावरण सरंक्षण को लेकर हमें कई तरह के उपाय अपनाना होंगे। सबसे पहले वाटर हार्वेस्टिंग अपनानी होगी, ताकि उस पानी का उपयोग घरेलू कामकाज में किया जा सके। यह बात इनरव्हील क्लब ऑफ ग्वालियर की अध्यक्ष रेखा आलोक जैन ने कही। वह बुधवार को कमलाराजा हॉस्पिटल में पर्यावरण संरक्षण विषय पर आयोजित कार्यक्रम में बोल रही थीं। उन्होंने महिलाओं को पर्यावरण की सुरक्षा के लिए शपथ भी दिलाई। साथ ही क्लब की सदस्यों ने कैंपस में दस डस्टबिन लगाकर स्वच्छता अभियान भी चलाया। इस दौरान पेड़ बचाओ व पानी बचाओ पर दस बैनर भी लगाए गए। इस अवसर पर क्लब की पदाधिकारियों के अलावा सदस्य और महिलाएं मौजूद रहीं।

इनरव्हील क्लब की ओर से आयोजित कार्यक्रम के दौरान लोगों को जागरूक करतीं महिलाएं।

महिलाओं के सवालों के दिए जवाब
प्रदूषण पर किस तरह नियंत्रण किया जा सकता है?‌

सबसे पहले शहर से ऐसे वाहनों को चिन्हित कर हटाना होगा जो काफी पुराने हैं और धुंआ अधिक छोड़ते हैं। पब्लिक ट्रांसपोर्ट के लिए ई-व्हीकल बेहतर है।

शहर में गिरते जलस्तर को बचाने के लिए क्या उपाय किए जा सकते हैं?

शहरी और ग्रामीण क्षेत्रा में दिन-प्रतिदिन जलस्तर गिरता जा रहा है। अत: आवश्यकता से अधिक बोरिंग के निर्माण पर पाबंदी लगानी होगी। नागरिकों को वाटर हार्वेस्टिंग प्रणाली अपनानी होगी।

कचरे को किस तरह अलग करना चाहिए?

गीले और सूखे कचरे के लिए अलग-अलग डस्टबिन होना चाहिए। कचरा फेंकने के लिए पॉलीथिन का उपयोग न करें और लोगों को जागरूक करें।

खबरें और भी हैं...