छात्रों को पढ़ाई के लिए मिलेंगे टैबलेट, किताबें नहीं लानी होंगी

Gwalior News - छात्रों पर किताबों का बोझ कम करने के लिए हाल ही में केंद्रीय विद्यालय संगठन की ओर से ई-प्रज्ञा स्कीम शुरू की गई है।...

Bhaskar News Network

Jul 14, 2019, 07:25 AM IST
Gwalior News - mp news students will not have to buy tablets books for studies
छात्रों पर किताबों का बोझ कम करने के लिए हाल ही में केंद्रीय विद्यालय संगठन की ओर से ई-प्रज्ञा स्कीम शुरू की गई है। इसके तहत छात्रों को क्लासरूम में किताबें नहीं ले जानी हाेंगी, बल्कि उन्हें स्कूल की ओर से टैबलेट दिए जाएंगे। इन टैबलेट के जरिए ही वह ऑनलाइन किताबें पढ़ सकेंगे और होमवर्क कर सकेंगे। खास बात यह होगी कि टैबलेट विद्यार्थी और शिक्षक दोनों के पास होगा। इससे वह मंथली टेस्ट देने के साथ अपने असाइनमेंट भी तैयार कर सकेंगे।

यह योजना अभी कक्षा 8वीं के लिए पायलेट प्रोजेक्ट के रूप में भोपाल के केवी में शुरू की गई है। सफल होने पर इसे अन्य केवी में लागू किया जाएगा। यह बात केंद्रीय विद्यालय संगठन भोपाल रीजन के डिप्टी कमिश्नर सोमित श्रीवास्तव ने कही। वह केंद्रीय विद्यालय संगठन के जेडआईटी में आयोजित प्रिंसिपल कॉन्फ्रेंस में शामिल होने आए थे। उन्होंने बताया कि केवीएस की ओर से देश में 25 रीजन बनाए गए हैं। हर रीजन से ई-प्रज्ञा के लिए एक विद्यालय को चुना जाएगा। यह स्कीम कुल 25 केंद्रीय विद्यालयों में लागू की जाएगी। इसमें विद्यार्थियों का डेटा भी स्टोर रहेगा। इस स्कीम पर ढाई करोड़ रुपए खर्च किए जाएंगे।

केवीएस की प्रिंसिपल कॉन्फ्रेंस को संबोधित करते एक्सपर्ट।

कॉन्फ्रेंस में स्प्लिट सिलेबस पर हुई चर्चा

कॉन्फ्रेंस में दो सत्रों में अलग-अलग विषय पर चर्चा की गई। इसमें भोपाल रीजन के अंतर्गत 63 केवी से आए प्राचार्यों ने स्प्लिट अप सिलेबस पर बात की। उन्होंने कहा कि स्प्लिट अप सिलेबस के तहत अगर किसी बच्चे के पिता का ट्रांसफर शैक्षणिक सत्र के बीच में दूसरे शहर होता है, तो वह बच्चा उस शहर के केवी में एडमिशन लेगा और छूटा हुआ सिलेबस पूरा कर पाएगा।

X
Gwalior News - mp news students will not have to buy tablets books for studies
COMMENT