• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Gwalior
  • Gwalior News mp news the temple of teli is the tallest among the monuments built on the gwalior fort the height is 30 meters

ग्वालियर किले पर बने स्मारकों में सबसे ऊंचा है तेली का मंदिर, 30 मीटर है ऊंचाई

Gwalior News - यह है द्रविड़ शैली की खासियत द्रविड़ शैली दक्षिण भारतीय हिंदू स्थापत्य कला की तीन शैलियों में से एक शैली है। यह...

Apr 08, 2020, 07:05 AM IST

यह है द्रविड़ शैली की खासियत

द्रविड़ शैली दक्षिण भारतीय हिंदू स्थापत्य कला की तीन शैलियों में से एक शैली है। यह शैली दक्षिण भारत में विकसित होने के कारण ही द्रविड़ शैली कहलाती है। इन शैली के मंदिर की प्रमुख विशेषता यह होती है कि यह काफी ऊंचे और विशाल प्रांगण में होते हैं। प्रांंगण का मुख्य प्रवेश द्वार गोपुरम कहलाता है।

जीर्णोद्धार पर खर्च हुए थे 7625 रुपए

अक्रमणकारियों द्वारा मंदिर की कई मूर्तियों को खंडित कर दिया गया था, लेकिन ब्रिटिश पीरियड में मेजर जेबी कीथ ने (1881 से 1883) इसका जीर्णोद्धार कराया था। इस पर 7 हजार 625 रुपए का खर्च आया था। इसके लिए 4 हजार की राशि सिंधिया स्टेट के तत्कालीन महाराजा ने दी थी। अंग्रेजों ने कॉफी शॉप के रूप में भी मंदिर के प्रांगण का उपयोग किया था। इसका उल्लेख मुख्य प्रवेश द्वार पर लगे शिलालेख में भी मिलता है।

तेल व्यापारियों द्वारा दिए गए धन से हुआ था निर्माण

सिटी रिपाेर्टर . ग्वालियर

ग्वालियर किले पर बना तेली का मंदिर दक्षिण भारतीय द्रविड़ शैली का बेहतर उदाहरण है। इसका निर्माण 9वीं सदी ईस्वी में प्रतिहार राजा मिहिर भोज के शासनकाल में तेल के व्यापारियों द्वारा दिए गए धन से हुआ था। इसलिए
इसका नाम तेली का मंदिर पड़ा। इसका उल्लेख मुख्यद्वार पर लगे शिलालेख पर भी मिलता है। किले पर बने स्मारकों में यह सबसे ऊंचा स्मारक है। इसकी ऊंचाई धरातल से 30 मीटर है। आर्कियोलॉजिकल सर्वे ऑफ इंडिया (एएसआई) के सहायक पुरातत्वविद् शशिकांत राठौर ने बताया कि इस मंदिर की भवन योजना में गर्भगृह और अंतराल प्रमुख हैं। इसमें प्रवेश के लिए पूर्व दिशा में सीढ़ियां हैं। मंदिर की खास विशेषता इसकी गजपृष्ठाकार छत है, जो कि द्रविड़ शैली में निर्मित है। इस प्रकार के मंदिर उत्तर भारत में बहुत कम देखने को मिलते हैं। इस मंदिर में उत्तर भारतीय एवं दक्षिण भारतीय वास्तुकला का सम्मिश्रण देखने को मिलता है। मंदिर के पूर्वी भाग में दो मंडपिकाएं और प्रवेश द्वार 1881 में अंग्रेज आर्किटेक्ट द्वारा बनवाए गए थे।

पहले**

यह फोटो 1881 के समय का है।

अब**

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना