पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • On The Burjanggarh Fort Of Guna, A Turret Is Stacked Like A Watchman

मुझे तुमसे मिट्टी, पानी, खाद, देखभाल कुछ नहीं चाहिए, बस आजादी दो और मैं पत्थरों में भी अपनी जड़े जमाए रखूंगा

एक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
वटवृक्ष को फलने-फूलने की आजादी मिल गई और देखते ही देखते यह प्रकृति की एक अनुपम कृति की तरह बन गया। 
  • बजरंगगढ़ किले के एक बुर्ज पर पहरेदार की तरह डटा यह वटवृक्ष शायद यही संदेश दे रहा है

गुना. बजरंगगढ़ किले के एक बुर्ज पर पहरेदार की तरह डटा यह वटवृक्ष शायद यही संदेश दे रहा है। इसे किसी पौधरोपण मुहिम के तहत नहीं लगाया गया होगा। इसका कोई बीज कहीं से उड़कर आया और अंकुरित होकर धीरे-धीरे विशाल आकार लेता रहा। न तो किसी ने इसके लिए मिट्टी का इंतजाम किया होगा, न ही पानी डाला होगा। बस इसे फलने-फूलने की आजादी मिल गई और देखते ही देखते यह प्रकृति की एक अनुपम कृति की तरह बन गया। 


एक पूरा जंगल इसी सिद्धांत पर विकसित किया 
कहा जाता है जंगल बनाए नहीं जाते, यह स्वत: विकसित होते हैं। बस इसमें इंसानी दखल को रोक दिया जाए। गुना से पाटई के बीच वन विभाग ने करीब 15-16 साल पहले अपनी जमीन पर ऐसा ही किया था। उन्होंने इस जमीन को सिर्फ चारों ओर से सुरक्षित कर दिया। आज यह हिस्सा घने वन क्षेत्र में तब्दील हो गया है। 

 

जीर्णोद्धार के दौरान वटवृक्ष को भी मूल ढांचे का हिस्सा मानकर छोड़ दिया गया 
विगत 3-4 साल के दौरान इस किले के जीर्णोद्धार का काम पुरातत्व विभाग की देखरेख में चल रहा है। विभाग के अधिकारियों ने वट वृक्ष को छेड़े बिना ही बुर्ज का जीर्णोद्धार किया। हालांकि कुछ को लगता है कि इससे आगे चलकर मूल ढांचे को नुकसान होगा। इस खतरे के बावजूद इसमें दखल नहीं दिया। 

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज का दिन पारिवारिक व आर्थिक दोनों दृष्टि से शुभ फलदाई है। व्यक्तिगत कार्यों में सफलता मिलने से मानसिक शांति अनुभव करेंगे। कठिन से कठिन कार्य को आप अपने दृढ़ विश्वास से पूरा करने की क्षमता रखे...

और पढ़ें