ग्वालियर / सरिया कारोबारी की फर्मों देव ट्रेडर्स, देव ट्रेडिंग कंपनी और देव स्टील पर छापा, नहीं दे सके हिसाब



ग्वालियर में देव ट्रेडर्स के गदाईपुरा प्रतिष्ठान पर कार्रवाई करते एंटी इवेजन विंग के अधिकारी। ग्वालियर में देव ट्रेडर्स के गदाईपुरा प्रतिष्ठान पर कार्रवाई करते एंटी इवेजन विंग के अधिकारी।
X
ग्वालियर में देव ट्रेडर्स के गदाईपुरा प्रतिष्ठान पर कार्रवाई करते एंटी इवेजन विंग के अधिकारी।ग्वालियर में देव ट्रेडर्स के गदाईपुरा प्रतिष्ठान पर कार्रवाई करते एंटी इवेजन विंग के अधिकारी।

  • पूछताछ में फर्म के मुख्य प्रोपराइटर राजकुमार किरार खरीद-बिक्री का हिसाब-किताब नहीं दे पाए

Dainik Bhaskar

Sep 12, 2019, 03:17 AM IST

ग्वालियर. काली गिट्टी के कारोबार से मिली रकम को निवेश कर सरिए का कारोबार खड़ा करने वाले कारोबारी राज्य कर विभाग के अधिकारियों को हिसाब-किताब नहीं दे सके। दरअसल विभाग की एंटी इवेजन विंग ने बुधवार को एक ही परिवार द्वारा संचालित फर्म देव ट्रेडिंग कंपनी, देव स्टील और देव ट्रेडर्स के छह नंबर चौराहा मुरार, बड़ा गांव और गदाईपुरा स्थित प्रतिष्ठानों पर एकसाथ छापा मारा। पूछताछ में फर्म के मुख्य प्रोपराइटर राजकुमार किरार खरीद-बिक्री का हिसाब-किताब नहीं दे पाए।

 

फलस्वरूप अधिकारी तीनों स्थानों से फर्म के बहीखाते समेट कर अपने साथ ले आए। गुरुवार को फर्म के खाते देख रहे सीए और अकाउंटेंट से पूछताछ की जाएगी। उसके बाद ही कर अपवंचन की ठीक-ठीक गणना हो सकेगी। राज्य कर विभाग की एंटी इवेजन विंग द्वारा की गई यह कार्रवाई इंदौर मुख्यालय के आदेश पर की गई है।

 

क्रशर चलाने के दस्तावेज भी मिले
तीनों स्थानों का पूरा काम राजकुमार किरार ही देखते हैं। लेकिन उनके नाम से देव ट्रेडर्स गदाईपुरा रजिस्टर्ड है। उनके भाई भूपेंद्र किरार के नाम से देव ट्रेडिंग कंपनी छह नंबर चौराहा और भूपेंद्र की पत्नी रेणु किरार के नाम से बड़ा गांव स्थित देव स्टील फर्म रजिस्टर्ड है। लोहा कारोबारी के यहां से क्रशर चलाने के दस्तावेज भी मिले हैं। इन्हें भी अधिकारियों ने जब्त कर लिया है। कार्रवाई में ज्वाइंट कमिश्नर यूएस बैस के अलावा मिक्की अग्रवाल, अजय ओझा, राजेश धाकड़, दीपा नरवरिया आदि अधिकारी शामिल थे।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना