मप्र / गुना के 30 पुलिस कर्मियों पर राजस्थान पुलिस ने दर्ज की एफआईआर



राजस्थान पुलिस का आरोप है कि बिना इजाजत चलाई थीं गोलियां। राजस्थान पुलिस का आरोप है कि बिना इजाजत चलाई थीं गोलियां।
X
राजस्थान पुलिस का आरोप है कि बिना इजाजत चलाई थीं गोलियां।राजस्थान पुलिस का आरोप है कि बिना इजाजत चलाई थीं गोलियां।

  • राजस्थान के मनोहर थाने में केस दर्ज, राजस्थान में बिना इजाजत मप्र पुलिस ने चलाई थीं गोलियां
  • कालापीपल गांव में वारंटियों पर कार्रवाई करने गई पुलिस पर राजस्थान पुलिस का आरोप 

Dainik Bhaskar

Jul 24, 2019, 02:21 PM IST

गुना. राजस्थान के खानपुरिया गांव में पुलिस द्वारा की गई फायरिंग का मामला तूल पकड़ रहा है, स्थानीय लोग उच्च स्तर तक इसे उठाने की तैयारी कर रहे हैं। वहीं राजस्थान पुलिस ने चांचौड़ा थाना सहित अन्य थानों से गए पुलिस बल पर हत्या के प्रयास का मामला दर्ज किया है। इसमें पुलिसकर्मियों की संख्या 30 बताई गई है। 

 

राजस्थान के मनोहर थाना प्रभारी धनराज मीणा का कहना है कि पुलिस गांव में घुसी, इसके कई सारे प्रमाण हैं। गांव के एक व्यक्ति के गोली लगी, उसके खिलाफ न तो कोई अपराध है और न वारंट? इसके अलावा पुलिस द्वारा की फायरिंग के बाद खाली खोल मिले हैं। पुलिस हमारी सीमा में आई तो इसके लिए आमद सूचना देनी चाहिए थी, लेकिन ऐसा नहीं किया है।

 

ग्रामीणों ने चांचौड़ा सहित अन्य थाने से आई पुलिस पर हमला भी किया है, उनके साथ जमकर मारपीट की गई है। इस मामले में चांचौड़ा पुलिस ने अलग से मामला दर्ज किया है। 

 

19 जुलाई को कालापीपल में हो रही थी पंचायत 
तंवर समाज की एक लड़की को कालापीपल निवासी नारायण द्वारा ले जाने के मामले में समाज ने पंचायत बुलाई थी। कालापीपल में 19 जुलाई को समझौता चल रहा था। खानपुरिया और कालापीपल के लोग एकत्रित हुए थे। तभी चांचौड़ा पुलिस ने वारंटियों को पकड़ने के लिए गांव में दबिश दी। कालापीपल से खानपुरिया गांव भी कुछ ही दूरी पर है। इसलिए पुलिस इस गांव में भी घुस गई और खुद पर हमला हुआ तो बचाव में फायरिंग की।

 

पुलिस पर किया था हमला बचाव में की फायरिंग 

 

 

पुलिस वारंटियों को पकड़ने गई थी, तभी ग्रामीणों ने पुलिस पर हमला कर दिया था। पुलिस द्वारा जो भी कार्रवाई की, वह बचाव में की गई थी। हवाई फायर किए थे। विवेचना चल रही है। इस मामले में गुना पुलिस का कोई दोष नहीं है। दूसरा पक्ष घायल हुआ है, वह कैसे हुआ, यह जांच में सामने आएगा। पुलिस की कोई गलती नहीं है। इसलिए ऐसे मामले में खात्मा रिपोर्ट पेश होती है।

राहुल कुमार लोढ़ा, एसपी 
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना