ग्वालियर / सीएम कमलनाथ ने दिए जांच के आदेश; डबरा में 17 गायों की एक कमरे में बंद करने से हो गई थी मौत

ग्वालियर के डबरा में गायों की मौत के मामले में पशुपालन मंत्री लाखन सिंह ने दिए जांच के आदेश। - फाइल ग्वालियर के डबरा में गायों की मौत के मामले में पशुपालन मंत्री लाखन सिंह ने दिए जांच के आदेश। - फाइल
X
ग्वालियर के डबरा में गायों की मौत के मामले में पशुपालन मंत्री लाखन सिंह ने दिए जांच के आदेश। - फाइलग्वालियर के डबरा में गायों की मौत के मामले में पशुपालन मंत्री लाखन सिंह ने दिए जांच के आदेश। - फाइल

  • पशुपालन मंत्री लाखन सिंह ने कहा- दोषियों को बख्शा नहीं जाएगा, जांच डबरा एसडीएम को दी गई 
  • गायों व उनके बछड़ों को सरकारी भवन के एक कमरे में बंद कर दिया गया था, जिससे उनकी मौत हुई

दैनिक भास्कर

Oct 17, 2019, 04:21 PM IST

भोपाल. ग्वालियर जिले के डबरा क्षेत्र में समुदन गांव के एक सरकारी भवन में एक दर्जन से ज्यादा गायों की मौत के मामले में मुख्यमंत्री कमलनाथ ने जांच के आदेश दे दिए हैं। वहीं पशुपालन मंत्री लाखन सिंह ने शुक्रवार को कहा कि यह मामला उनकी जानकारी में आने के बाद उन्होंने तत्काल ग्वालियर जिला प्रशासन से मामले की जांच कर दोषियों का पता लगाने के लिए कहा है। सुनिश्चित किया जाएगा कि दोषियों के खिलाफ सख्त से सख्त कार्रवाई हो। 

 

मुख्यमंत्री कमलनाथ ने ट्वीट करके ग्वालियर के डबरा के समुदन में 17 गायों की मौत पर दुख जताया है। उन्होंने कहा, "इस घटना की निष्पक्ष जांच के निर्देश दिए हैं। जांच में जिसका दोष सामने आए, उस पर कड़ी कार्यवाई होगी। हम गौमाता की रक्षा व संवर्धन के लिए निरंतर प्रयासरत और वचनबद्ध हैं। ऐसी घटनाएं बर्दाश्त नहीं की जा सकती हैं।"

 

पशुपालन मंत्री लाखन सिंह ने कहा, "कल रात उनकी जानकारी में ये मामला आया। प्रारंभिक पड़ताल में पता चला है कि किसी सिरफिरे व्यक्ति ने एक दर्जन से अधिक गायों को गांव के पास सरकारी भवन के एक कमरे में बंद कर दिया और उसका दरवाजा लगा दिया। इस वजह से दम घुटने के कारण गायों की मौत हो गयी। मंत्री ने इस घटना की भर्त्सना करते हुए कहा कि दोषियों को बख्शा नहीं जाएगा। उन्हें सजा दिलाएंगे।"

 

शिवराज ने कांग्रेस को याद दिलाया वचनपत्र 

कांग्रेस ने अपने वचन पत्र में गौशाला बनाने का वचन दिया था। अगर शासन-प्रशासन गाय को गौशाला में ले जाता, तो वो किसी कमरे में बंद नहीं होती और मौत का शिकार नहीं होती। वचन देकर मुकरना, फिर गाय का मर जाना, ये गौ हत्या जैसा पाप है। शासन को पहल करनी चाहिए, ताकि ऐसे गौमाता न मरें।

 

17 गायों और बछड़ों को एक कमरे में ठूंसा गया 
वहीं इस मामले को उठाने वाले प्रदेश भाजपा मीडिया प्रभारी लोकेंद्र पाराशर ने ट्वीट के जरिए कहा कि ग्वालियर के पास समुदन गांव के स्कूल के कमरे में 17 गायों और बछड़ों को ठूंस दिया गया। इन गौवंशों ने चारा, पानी और हवा के अभाव में दम तोड़ दिया। स्कूल के बच्चों को बदबू आने पर कमरा खुलवाया गया और तब इस घटनाक्रम का पता चला। 

 

गौ सेवकों ने किया था हंगामा 
वहीं ग्वालियर जिला प्रशासन के सूत्रों का कहना है कि इस मामले की जांच कराई जा रही है। जैसे ही इसकी सूचना गौ सेवकों को मिली वे मौके पर पहुंच गए और हंगामा कर दिया और हाईवे पर जाम लगा दिया। सूचना मिलने पर सिटी थाने की पुलिस मौके पर पहुंची और गौ सेवकों को समझाइश देकर मामला दर्ज करने की बात कही तब जाकर गौ सेवकों ने जाम खोला।

 

 

आशंका जताई जा रही है कि फसलों को नुकसान के चलते कुछ लोगों ने इन गायों को सरकारी भवन के कक्ष में बंद कर दरवाजा बाहर से लगा दिया। आशंका है कि यह गौवंश कमरे में कम से कम दो दिन तक बंद रहे होंगे। इस मामले की जांच पड़ताल करायी जा रही है। 

 

एफआईआर कराई गई है 
कुछ लोगों द्वारा कुछ मृत गायों को गड्ढ़ा खोदकर दफनाया जा रहा था। इस मामले में कुछ गौ सेवकों द्वारा गायों की हत्या करने का आरोप लगाया जा रहा था। इस मामले में एफआईआर कराई जा रही है। - यशवंत गोयल, टीआई सिटी थाना डबरा

 

DBApp

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना