ग्वालियर

--Advertisement--

दतिया / जिला अस्पताल में इंजेक्शन लगते ही तड़पने लगी महिला; दम तोड़ा तो डॉक्टर और स्टाफ भाग निकला

महिला की मौत के बाद परिजनों ने काटा हंगामा, तोड़फोड़; पुलिस के डंडे छीन लिए

मरीज की मौत के बाद आक्रोशित महिला से पत्थर छीनते परिजन। मरीज की मौत के बाद आक्रोशित महिला से पत्थर छीनते परिजन।
आक्रोशित महिला को हाथ जोड़कर समझाते पुलिस जवान। आक्रोशित महिला को हाथ जोड़कर समझाते पुलिस जवान।

Danik Bhaskar

Sep 11, 2018, 03:52 AM IST

दतिया.  जिला अस्पताल में एक ही सिरिंज से एक मरीज की मौत का मामला अभी ठंडा भी नहीं पड़ा था कि साेमवार की रात पेट दर्द से पीड़ित महिला सोनम (18) की इंजेक्शन लगने के बाद मौत हो गई। गुस्साए परिजन ने अस्पताल में तोड़फोड़ कर दी। घटना के बाद नर्सिंग स्टाफ ने मरीज की ट्रीटमेंट शीट और इंजेक्शन का रैपर गायब कर दिया।

 

ड्यूटी डॉक्टर और नर्सिंग स्टाफ भी अस्पताल से भाग खड़ा हुआ। आक्रोशित लोगों को एसडीएम व तहसीलदार ने भी समझाने का प्रयास किया, लेकिन वे लोग नहीं माने। परिजन की मांग थी कि मेडिकल बोर्ड से महिला का पीएम कराया जाए। 

 

सीएमएचओ डॉ. प्रदीप उपाध्याय ने कहा कि डॉ. एसएस सरगैयां ने महिला का इलाज किया। ड्रिप चढ़ाई और सिफोटॉक्सिन एंटीबायोटिक इंजेक्शन लगाया और इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई। जिले के दिनारा के भौये निवासी दीपक केवट सोनागिर के जैन मंदिर में गार्ड हैं।

 

सोमवार की शाम उनकी पत्नी सोनम को पेट में दर्द उठा। परिजन उन्हें जिला अस्पताल लाए। यहां डॉ. एसएस सरगैयां ने सोनम का चेकअप कर मेडिकल वार्ड में भर्ती कर दिया। नर्स माया एवं पुष्पा सक्सेना ने इलाज शुरू किया। नर्स ने जैसे ही इंजेक्शन लगाया तो सोनम छटपटाने लगी और कुछ देर बाद उसकी मौत हो गई।

--Advertisement--
Click to listen..