• Home
  • Madhya Pradesh News
  • Harda News
  • 84 हजार की आबादी को 12 एमएलडी पानी की जरूरत, 2.25 लाख लीटर कम िमल रहा
--Advertisement--

84 हजार की आबादी को 12 एमएलडी पानी की जरूरत, 2.25 लाख लीटर कम िमल रहा

गर्मी शुरू होते ही शहर में पेयजल किल्लत शुरू हो गई है। 84000 हजार की आबादी को रोजाना 12 एमएलडी पानी की जरूरत है। लेकिन...

Danik Bhaskar | Mar 02, 2018, 03:00 AM IST
गर्मी शुरू होते ही शहर में पेयजल किल्लत शुरू हो गई है। 84000 हजार की आबादी को रोजाना 12 एमएलडी पानी की जरूरत है। लेकिन इसमें 2.25 लाख लीटर पानी कम मिल रहा है। नर्मदा व अजनाल नदी में जल स्तर कम होता जा रहा है। इससे नपा को व्यवस्था बनाने में मशक्कत करनी पड़ रही है। सिमटती जा रही नर्मदा की धारा को हंडिया जलसंयंंत्र तक लाने के लिए नपा को पोकलेन मशीन से खुदाई करना पड़ेगी। अजनाल में तो नपा ने पानी की पहरेदारी की व्यवस्था शुरू कर दी है।

गर्मी शुरू होते ही पेयजल की मांग व आपूर्ति में अंतर बढ़ने लगा है। तय मानकों के मुताबिक रोजाना व्यक्ति को 135 लीटर पानी की जरूरत होती है। गर्मी में यह जरूरत बढ़ जाती है। नर्मदा से 70 फीसदी व अजनाल नदी से 30 प्रतिशत पानी शहर को सप्लाई होता है। बारिश की कमी और गर्मी के चलते नदियों में पानी सिमटने लगा है। इसका असर भी नजर आ रहा है।

हरदा। छीपानेर रोड की एक कॉलोनी में पेयजल टैंकर पहुंचते ही लग जाती है लोगों की भीड़।

60 से 100 फीट नीचे पहुंचा जल स्तर

30 दिन में शहर का पेयजल स्तर 60 फीट से खिसककर 100 फीट नीचे चला गया है। इसके कारण ट्यूबवेल व हैंडपंप में पानी उतरने लगा है। शहर में 225 हैंडपंप हैं। इनमें से करीब 100 हैंडपंप में पानी नीचे चला गया है। इसके कारण हैंडपंप से पानी कम आ रहा है। यही स्थिति रही तो आगामी पखवाड़े में शहर के कई जल स्रोत सूख जाएंगे।

शहर में 100 टैंकर हो रहा पानी सप्लाई

गर्मी शुरू होते ही टैंकरों से भी पानी की सप्लाई की डिमांड बढ़ गई है। 20 दिन पहले तक नपा वार्डों में 50 टैंकर पानी रोजाना सप्लाई करती थी। लेकिन वर्तमान में 100 टैंकर पानी रोज परिवहन करना पड़ रहा है। सबसे अधिक डिमांड अवैध कॉलोनियों में है। अप्रैल मई जूून में रोज यह मांग 200 टैंकर से ज्यादा हो जाएगी। निर्माण कार्यों पर भी रोक लगाने की जरूरत है।

पुराने शहर के 10 वार्डो में समस्या

पुराने शहर के दस वार्डों में पेयजल की अधिक समस्या है। खेड़ीपुरा, गढ़ीपुरा, मानपुरा, बंगाली कॉलोनी, रेलवे स्टेशन, कुलहरदा सहित पुराने शहर के अन्य क्षेत्रों में पेयजल संकट गहराने लगा है। इसके लिए नगर पालिका नर्मदा और अजनाल नदी के पेयजल टंकी की सप्लाई लाइन को आपस में जोड़ रही है। ताकि दोनों स्थानों से शहर की आठों पेयजल टंकियों को भरा जा सके।


बगैर टोंटी के नल होंगे बंद बर्बादी पर होगी कार्रवाई

सीएमओ दिनेश मिश्रा ने बताया शहर के बगैर टोंटी के नलों में टोंटियां लगाई जा रही हैं। घरों के बाहर लगे बगैर टोंटी के नलों को नपाकर्मी बंद करेंगे। सार्वजनिक नलों की टोंटियां चोरी होने पर उन्हें बंद कर दिया जाएगा। घर के बाहर पानी का छिड़काव करने, दो और चार पहिया वाहनों को धोने वालों के खिलाफ कार्रवाई होगी। बस स्टैंड पर बसों को धोने पर फोटो खींचकर उसका पंचनामा बनाया जाएगा। इसका प्रकरण एसडीएम कोर्ट में पेश करेंगे।