• Hindi News
  • Madhya Pradesh
  • Harda
  • हरदा जनपद अध्यक्ष, उपाध्यक्ष की कार्यप्रणाली से नाराज होकर 16 सदस्यों ने जताया अविश्वास
--Advertisement--

हरदा जनपद अध्यक्ष, उपाध्यक्ष की कार्यप्रणाली से नाराज होकर 16 सदस्यों ने जताया अविश्वास

जनपद पंचायत के 25 में से 16 जनपद सदस्य अध्यक्ष और उपाध्यक्ष की कार्यप्रणाली से बेहद नाराज हैं। उन्होंने अध्यक्ष...

Dainik Bhaskar

Feb 02, 2018, 05:45 AM IST
हरदा जनपद अध्यक्ष, उपाध्यक्ष की कार्यप्रणाली से नाराज होकर 16 सदस्यों ने जताया अविश्वास
जनपद पंचायत के 25 में से 16 जनपद सदस्य अध्यक्ष और उपाध्यक्ष की कार्यप्रणाली से बेहद नाराज हैं। उन्होंने अध्यक्ष प्रतिनिधि और उपाध्यक्ष पति पर जनपद के कार्यों में अनावश्यक हस्तक्षेप और विकास कार्य नहीं कराने को लेकर अविश्वास जताया है। नाराज सदस्यों ने अविश्वास प्रस्ताव लाने के लिए गुरुवार शाम कलेक्टर अनय द्विवेदी को सामूहिक हस्ताक्षर वाला पत्र सौंपा। अचानक अविश्वास प्रस्ताव बुलाने की मांग के बाद जिले की राजनीति में उथल-पुथल शुरू हो गई है। भाजपा में हड़कंप मच गया। इस साल विधानसभा चुनाव है। इस कारण दोनों राजनीतिक दलों के नेता जोड़-तोड़ में जुट गए हैं। अविश्वास प्रस्ताव बुलाने वालों में 9 महिला व 7 पुरुष सदस्य शामिल हैं। जनपद अध्यक्ष के अविश्वास पर 16 व उपाध्यक्ष के अविश्वास 15 सदस्यों ने हस्ताक्षर किए हैं।

कांग्रेस नेता और अधिवक्ता आदित्य गार्गव व पूर्व नपाध्यक्ष हेमंत टाले के साथ जनपद पंचायत के 16 सदस्यों ने अविश्वास प्रस्ताव बुलाने के लिए शपथ पत्र कलेक्टर व विहित प्राधिकारी को दिया। इसमें सदस्यों ने आरोप लगाया कि जनपद अध्यक्ष फुंदाबाई की बजाय प्रतिनिधि रामनिवास पटेल कचबैड़ी अनावश्यक हस्तक्षेप करते हैं। उपाध्यक्ष किरण पटेल की जगह उनके पति गोविंद पटेल का दखल होता है। इससे जनपद के सभी सदस्य परेशान है। जनपद पंचायतों के कार्योें का संचालन अध्यक्ष व उपाध्यक्ष की बजाय उनके प्रतिनिधि और पति करते हैं। जनपद की योजनाओं का लाभ पात्र हितग्राहियों तक नहीं पहुंच पा रहा है। इसके कारण उन्हें अविश्वास प्रस्ताव लाने के लिए विवश होना पड़ा। वार्ड 25 की जनपद सदस्य प्रमिला सिंह ने कहा विकास कार्य नहीं होने से अविश्वास प्रस्ताव बुलाना पड़ा। वार्ड 10 के सदस्य दीपचंद जाट ने कहा जनपद अध्यक्ष फुंदाबाई के प्रतिनिधि और उपाध्यक्ष के पति द्वारा बेवजह हस्तक्षेप से सदस्यों में नाराजगी है।


अविश्वास प्रस्ताव बुलाने की मांग को लेकर कलेक्टोरेट पहुंचे जनपद सदस्य।

इन्होंने बुलाया

अविश्वास प्रस्ताव

अविश्वास प्रस्ताव के लिए आवेदन देने वालों में वार्ड 4 के सदस्य रामविलास उइके, वार्ड पांच ऊषाबाई, वार्ड 15 क्षमाबाई, वार्ड 7 लक्ष्मीबाई, वार्ड 9 के गोविंद गौर, वार्ड 10 दीपचंद जाट, वार्ड 24 रुखमणीबाई, वार्ड 8 महेंद्र किरार, वार्ड 16 अरुण तिवारी, वार्ड 17 मायाबाई, वार्ड 18 गोविंद आमकरे, वार्ड 19 दुर्गाबाई, वार्ड 20 दुलारीबाई, वार्ड 21 कलावती भुसारिया, वार्ड 24 के राजकुमार झूरिया, वार्ड 25 की प्रमिला सिंह शामिल हैं।

अविश्वास जताने 9 सदस्य जरूरी

जनपद अध्यक्ष के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव बुलाने के लिए नियमानुसार 9 सदस्य जरूरी हैं। इसके विरुद्ध 16 सदस्यों ने अविश्वास प्रस्ताव बुलाने की मांग की है।

अब यह होगा

कलेक्टर व विहित प्राधिकारी जनपद पंचायत इस प्रस्ताव की पुष्टि करेंगे। इसके बाद पीठासीन अधिकारी की नियुक्ति की जाएगी। नियुक्त पीठासीन अधिकारी मतदान कराएंगे। यह पूरी प्रक्रिया आज से 15 दिनों में सुनिश्चित होगी।



17 से 19 मतों का होगा

गणित

अविश्वास प्रस्ताव पास कराने और गिराने के लिए 2 मतों का गणित होगा। मतदान के दौरान कम से कम 25 में से 17 सदस्यों का मौजूद रहना जरूरी है। इसके अलावा अविश्वास प्रस्ताव पास कराने के लिए 19 मत जरूरी हैं। पंचायती राज अधिनियम के मुताबिक अविश्वास प्रस्ताव के मतदान के दौरान उपस्थित तथा मतदान करने वाले निर्वाचित सदस्यों के तीन चाैथाई से कम (अन्यून) ऐसे बहुमत से जो तत्समय जनपद पंचायत का गठन करने वाले निर्वाचित सदस्यों की संख्या के दो तिहाई से अधिक हैं और वे पक्ष में मत डालते हैं तो अविश्वास प्रस्ताव पास माना जाएगा।

X
हरदा जनपद अध्यक्ष, उपाध्यक्ष की कार्यप्रणाली से नाराज होकर 16 सदस्यों ने जताया अविश्वास
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..