Hindi News »Madhya Pradesh »Harda» कॉलेजों में दिव्यांगों के लिए 5 फीसदी सीटें होंगी आरक्षित

कॉलेजों में दिव्यांगों के लिए 5 फीसदी सीटें होंगी आरक्षित

उच्च शिक्षा विभाग के अधीन संचालित शासकीय, अनुदान प्राप्त और गैर-अनुदान प्राप्त कॉलेजों में पहले वर्ष स्नातक,...

Bhaskar News Network | Last Modified - May 18, 2018, 04:25 AM IST

उच्च शिक्षा विभाग के अधीन संचालित शासकीय, अनुदान प्राप्त और गैर-अनुदान प्राप्त कॉलेजों में पहले वर्ष स्नातक, प्रथम सेमेस्टर स्नातकोत्तर सत्र 2018-19 में प्रवेश प्रक्रिया अगले सप्ताह शुरू हो जाएगी। इसे लेकर उच्च शिक्षा विभाग की तैयारी अब अंतिम चरण में चल रही है। ई-प्रवेश 2018-19 में पिछले साल की तुलना में विभिन्न परिवर्तन किए हैं। जिसमें इस बार दिव्यांगों को 5 प्रतिशत सीट आरक्षित की है। पिछले साल तक सिर्फ 3 प्रतिशत सीटें आरक्षित थीं, लेकिन इस बार 2 फीसदी की बढ़ोतरी की है। जिसे इसी सत्र से लागू किया जाएगा। स्नातक और स्नातकोत्तर कक्षाओं में अधिकतम आयु सीमा का बंधन खत्म कर दिया है।

हर कॉलेज में प्रथम वर्ष में प्रवेशित विद्यार्थियों के लिए जुलाई के प्रथम सप्ताह में व्याख्यान होंगे। डिजिटल इंडिया प्रोग्राम में ऑनलाइन प्रवेश शुल्क भुगतान की व्यवस्था की जा रही है। इससे प्रवेशार्थी व उनके अभिभावकों को भुगतान के लिए एक बेहतर सुविधा उपलब्ध रहेगी और समय की भी बचत होगी। पंजीकृत असंगठित कर्मकार की संतानों को नियमित पाठ्यक्रमों में प्रवेश लेने पर शैक्षणिक शुल्क से छूट दी जाएगी। सभी वर्गों की छात्राओं को केवल प्रथम चरण में निशुल्क ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन की व्यवस्था है। यदि कोई छात्रा प्रथम से अन्य चरण में रजिस्ट्रेशन कराती है तो निर्धारित शुल्क लिया जाएगा। माध्यमिक शिक्षा मंडल के 12वीं के परीक्षा परिणाम घोषित होने के बाद उच्च शिक्षा विभाग द्वारा पृथक से जारी समय-सारणी के अनुसार प्रवेश शुरू होंगे। ऑनलाइन प्रवेश प्रक्रिया उच्च शिक्षा विभाग के पोर्टल के माध्यम से होंगी। ई-प्रवेश पोर्टल पर इच्छुक आवेदक अपना पंजीयन करवा सकेंगे।

अच्छी खबर

दिव्यांगों के लिए यूजी और पीजी में उम्र का खत्म किया बंधन, पहले तीन फीसदी ही थी सीट

उच्च शिक्षा विभाग 20 मई से शुरू कर सकता है

प्रवेश प्रक्रिया

उच्च शिक्षा विभाग 20 मई से प्रक्रिया शुरू कर सकता है। इस दौरान स्नातक और स्नातकोत्तर की प्रवेश प्रक्रिया शुरू होगी। आवेदकों को एसएमएस अलर्ट द्वारा प्रवेश संबंधी जानकारी समय-समय पर दी जाएगी। ऐसे पंजीकृत आवेदक जिन्होंने आवंटन के बाद प्रवेश नहीं लिया है वे आगे प्रवेश ले सकेंगे।

उच्च शिक्षा विभाग और विवि से मिलने वाले हर आदेश का पालन किया जाएगा। जिससे विद्यार्थियों को ज्यादा से ज्यादा सुविधाएं मिल सके। प्रवेश प्रक्रिया के दौरान हेल्प डेस्क भी बनाई जाएगी। विजय अग्रवाल, प्रभारी प्राचार्य, शास. कॉलेज हरदा

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Harda

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×