पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

किसानों को सागौन और बांस के पौधों की जरूरत

2 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
पीपल्या | इस साल किसानों को वन विभाग से निशुल्क पौधे नहीं मिले। इस कारण वह पौधे नहीं लगा सके। मकड़ाई वन परिक्षेत्र सिराली ने पिछले साल वनदूतों से गांव गांव निशुल्क सागौन और बांस के लाखों पौधे बंटवाए थे। इन पौधों को किसानों खेत की मेड़ों, नदी-नाले किनारे लगाए थे। किसान हरीश गंगराड़े के अनुसार उन्हें खेत मे 1000 सागौन के पौधे लगाने हैं। पिछले साल लगाए पौधों में से कुछ नष्ट हो गए। उनकी जगह नए लगाने हैं, लेकिन वन विभाग से पौधे नहीं मिल रहे हैं। वन विभाग ग्राम पंचायतों के माध्यम से भी पौधरोपण करता है। रोजगार गारंटी के तहत किसानों के नाम एसओपी में जोड़कर पौधरोपण किया जाता है। इस बार विभाग ने पंचायतों को भी पौधे नहीं दिए। मालूम हो, 2 जुलाई 2018 को महापौधरोपण अभियान के तहत वन विभाग ने लाखों पौधे उपलब्ध कराए थे।

इस बार केवल वन विभाग के प्लांटेशन के पौधे आए थे, जिन्हें लगा दिए हैं। किसानों के लिए पौधे नहीं आए हैं। -अवधनारायण इवने, डिप्टी रेंजर, सिराली

खबरें और भी हैं...