• Hindi News
  • Mp
  • Harda
  • Timarni News mp news sahayag bridge the villagers of dholpur khurd built a temporary road on the ganjal river with bamboo wood clay

सहयाेग का पुल : धौलपुरखुर्द के ग्रामीणों ने बांस, लकड़ी, मिट्टी से गंजाल नदी पर बनाया अस्थाई रास्ता

Harda News - जहां चाह वहां राह यह कहावत धाैलपुरखुर्द गांव के ग्रामीणों ने चरितार्थ कर दी। धौलपुरखुर्द गांव के पास गंजाल नदी की...

Jan 16, 2020, 09:41 AM IST
Timarni News - mp news sahayag bridge the villagers of dholpur khurd built a temporary road on the ganjal river with bamboo wood clay
जहां चाह वहां राह यह कहावत धाैलपुरखुर्द गांव के ग्रामीणों ने चरितार्थ कर दी। धौलपुरखुर्द गांव के पास गंजाल नदी की तलहटी में बांस व अन्य पेड़ों की लकड़ी अाैर मिट्टी की मदद से ग्रामीणों ने जनसहयोग से 4 फीट चौड़ा और 60 फीट लंबा अस्थाई रपटा (पुल) बनाया है। इस पुल के दोनों ओर मिट्टी से पाटकर एक किलोमीटर के हिस्से में रास्ता बनाया है। अब इस पर के धाैलपुर, नयागांव, गाढ़ामाेड़, कुहीग्वाड़ी गांव के ग्रामीण बाइक, साइकिल अाैर पैदल नदी पार कर एक किलोमीटर दूर रिछी व कोलगांव, पापन, गुवाड़ी, अर्चनागांव, लुजगांव सहित अन्य गांवों में अाना-जाना करते हैं। क्योंकि गंजाल इन गांवों पास पुल नहीं है। जो बना है वह भी 12 किलोमीटर दूर गाडरापुर से नहारकाेला के पास बना है। इस कारण इन गांवाें के ग्रामीणों काे 30 किलोमीटर का फेर लगाते हुए जाना पड़ता है।

बारिश के चार माह नाव से पार करते हैं नदी : पुल के एक ओर हरदा जिले का धौलपुरखुर्द गांव है तो दूसरी ओर होशंगाबाद जिले का रिछी व कोलगांव गांव बसे हुए हैं। बारिश के 4 महीने छोड़कर ठंड और गर्मी के 8 महीने वाहन चालक एक से दूसरे गांव आने जाने के लिए इसी रपटे का उपयोग करेंगे। बारिश में जब गंजाल का जलस्तर बढ़ जाता है तो ग्रामीण नाव से नदी पार करते हैं।

साथी हाथ बढ़ाना
परेशानी : अव्यवस्थाओं के बीच इसी रपटे से रोजाना बाइक से पैदल गांव और खेत जाते हैं लोग

करताना। गंजाल नदी पर बना 4 फीट चौड़ा और 50-60 फीट लंबा रपटा। इनसेट : बांस व अन्य लकड़ी से इस तरह बनाया गया है रपटा।

होशंगाबाद जिले का शिवपुर बाजार पड़ता है पास

गंजाल किनारे वाले गांवों के कई किसान ऐसे हैं जिनकी जमीन रिछी, कोलगांव में है। बारिश के दिनों में खेतों में ट्रैक्टर ट्रॉली, हार्वेस्टर सहित अन्य उपकरण ले जाने में परेशानी होती है। इसके अलावा खेतों में फसल काटकर नदी पार कर घर लाना कठिन काम हो जाता है। गंजाल किनारे वाले गांव का मुख्य बाजार शिवपुर है। क्योंकि हरदा, टिमरनी की तुलना में शिवपुर बाजार नजदीक पड़ता है। आमजन की यह समस्या समझने वाला कोई नहीं है। धौलपुरखुर्द के ग्रामीणों ने कहा कि पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने गंजाल नदी पर पुल बनाने की घोषणा की थी। लेकिन आज तक यह घोषणा पूरी नहीं हुई है।

किसानों बोले- समस्या का निकाला जाए स्थायी समाधान

धौलपुरखुर्द निवासी छतरसिंह राजपूत की जमीन नदी के उस पार रिछी में है। उनके लिए खेती करना चुनौती से कम नहीं है। क्योंकि प्रतिदिन खेत जाने के लिए बाइक को संकरे रपटे से लेकर जाना पड़ता है। किसान ने कहा कि हरदा और होशंगाबाद प्रशासन को मिलकर इस समस्या का स्थायी समाधान निकालना चाहिए। ताकि किसानों और राहगीरों का सफर सुरक्षित हो सके। धौलपुरखुर्द निवासी एक अन्य किसान सूरज सिंह गुर्जर की जमीन भी रिछी गांव में है। उनकी समस्या भी किसान राजपूत की समस्या की तरह ही है। ऐसे गांव के किसान हैं जिनके लिए यह समस्या बड़ी है।

जनसहयोग से बनता है बांस का पुल

ग्रामीण जनसहयोग से गंजाल नदी पर हर साल बांस का रपटा बनाते हैं। किसान अपने-अपने स्तर से बांस और लकड़ी लेकर आते हैं। इसके बाद एक-दूसरे की मदद से नदी पर रपटा बनाते हैं। ताकि बाइक और पैदल नदी पार की जा सके। 8 माह तो जैसे तैसे नदी पार हो जाती है, लेकिन बारिश में नदी उफान पर आते ही रपटा टूट जाता है। नदी पर बने रपटे की चौड़ाई 4 फीट है। इस रपटे से वाहन चालकों और किसानों को जान जोखिम में डालकर गंजाल नदी पार करना पड़ता है।

माैके पर जाकर स्थिति पता करेंगे


शासन से गंजाल नदी पर पुल बनाने की मांग करेंगे


Timarni News - mp news sahayag bridge the villagers of dholpur khurd built a temporary road on the ganjal river with bamboo wood clay
X
Timarni News - mp news sahayag bridge the villagers of dholpur khurd built a temporary road on the ganjal river with bamboo wood clay
Timarni News - mp news sahayag bridge the villagers of dholpur khurd built a temporary road on the ganjal river with bamboo wood clay
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना