• Home
  • Madhya Pradesh News
  • Hata News
  • पांच सूत्रीय मांगों को लेकर आशा कार्यकर्ताओं ने धरना प्रदर्शन किया
--Advertisement--

पांच सूत्रीय मांगों को लेकर आशा कार्यकर्ताओं ने धरना प्रदर्शन किया

हटा | सोमवार को हटा तहसील की समस्त आशा कार्यकर्ताओं ने अपनी पांच सूत्रीय मांगों को लेकर स्थानीय सिविल अस्पताल में...

Danik Bhaskar | Mar 06, 2018, 03:30 AM IST
हटा | सोमवार को हटा तहसील की समस्त आशा कार्यकर्ताओं ने अपनी पांच सूत्रीय मांगों को लेकर स्थानीय सिविल अस्पताल में धरना प्रदर्शन दिया। बाद में नगर में रैली निकालते हुए मुख्यमंत्री के नाम एसडीएम कार्यालय में ज्ञापन सौंपा।

आशा कार्यकर्ता संघ की अध्यक्ष फरजाना बी, सचिव नूरजहां, कोषाध्यक्ष संतोष कोरी, तबस्सुम, माधुरी पटेल, फूलकुमारी ने बताया कि हम लोग सदैव स्वास्थ्य विभाग की सेवाओं के लिए तत्पर तैयार रहते हैं। इसके बावजूद भी हम शासकीय सेवक की श्रेणी में नहीं आते हैं। मप्र आशा कार्यकर्ताओं को कुशल श्रमिक के 8810 रुपए प्रतिमाह मानदेय भुगतान किया जाए। पुष्पा अठ्या, बेबी शमीम, अंजना सिंह, लीला अहिरवार, सोमवती बर्मन, प्रीति प्यासी ने कहा कि जिस ग्राम में एक से अधिक आशा कार्यकर्ता हैं उस ग्राम में प्रत्येक आशा कार्यकर्ता के हिसाब से समिति के लिए कम से कम दस हजार रुपए का फंड दिया जाए, आशा कार्यकर्ता की कार्य के दौरान किसी भी प्रकार से मृत्यु या दुर्घटना होती है तो उसका बीमा कम से कम पांच लाख रुपए शासन से मिलना चाहिए, किसी राष्ट्रीय कार्यक्रम पल्स पोलियो, फायलेरिया, कुष्ठ रोग निवारण आदि कार्यक्रमों में सहयोग प्रदान करने पर 200 रुपए प्रतिदिन के हिसाब से अलग से राशि प्रदान की जाए। इस अवसर पर पूरे तहसील की आशा कार्यकर्ता उपस्थित रहीं।

मेडिकल कॉलेज की मांग रखी

हटा| सोमवार को हटा तहसील की समस्त आशा कार्यकर्ताओं ने एक ज्ञापन प्रधानमंत्री, मुख्यमंत्री एवं जनप्रतिनिधियों के नाम एसडीएम कार्यालय में दिया। आशा कार्यकर्ता संघ की अध्यक्ष फरजाना, सचिव नूरजहां, कोषाध्यक्ष संतोषी कोरी सहित माधुरी पटेल, फूलकुमारी तबस्सुम बी, लक्ष्मी प्रजापति, शांति पटेल, रेखा साहू, शीला जोगी, राबिया कुरैशी, रामवती, बैजंती यादव ने बताया कि हम सभी स्वास्थ्य विभाग की सबसे निचली कड़ी हैं, मैदानी क्षेत्र में कार्य करके स्वास्थ्य सेवाएं देते हैं। उन्होंने कहा कि पूरा क्षेत्र स्वास्थ्य के प्रति शून्य प्रतिशत जागरूक है। यदि मेडिकल कॉलेज की सौगात मिलती है तो लोग स्वास्थ्य के प्रति जागरूक होंगे साथ ही रोजगार के नए अवसर प्राप्त होंगे ।