हटा

--Advertisement--

देर रात तक बजतेे हैं डीजे व साउंड, छात्र परेशान

शराबी बारातियों ने जमकर मचाया हो हल्ला भास्कर संवाददाता| हटा एक ओर कक्षा नवमीं एवं ग्यारहवीं की वार्षिक...

Dainik Bhaskar

Feb 09, 2018, 03:40 AM IST
शराबी बारातियों ने जमकर मचाया हो हल्ला

भास्कर संवाददाता| हटा

एक ओर कक्षा नवमीं एवं ग्यारहवीं की वार्षिक परीक्षाएं चल रहीं हैं, साथ ही कक्षा दसवीं व बारहवीं की प्री-बोर्ड परीक्षाएं भी शुरू हो गई हैं, इसके बावजूद भी नगर में ध्वनि विस्तारक यंत्रों पर कोई प्रतिबंध नहीं लगाया गया है। जिससे छात्र-छात्राओं को काफी परेशानियों से जूझना पड़ रहा हे।नगर के बड़ा बाजार स्थित एक बारात घर में बीती रात नियम विरुद्ध तरीके से खुलेआम देर रात करीब 2 बजे तक डीजे और साउंड के साथ बारातियों ने जमकर हो हल्ला मचाया।

वहीं जिम्मेदार अधिकारी व पुलिस के नुमाइंदे चुपचाप इस आयोजन को समर्थन देते रहे। जिससे आसपास के लोगों को काफी परेशानियों से जूझना। स्थानीय लोगों ने बताया बारात घर में आए दिन शादियां तथा अन्य कार्यक्रम होते रहते हैं जिनमेँ जमकर डीजे और बड़े बड़े साउंड का उपयोग देर रात तक होता है। बीती रात 2 बजे तक डीजे बजने के कारण जहां लोगों की नींद खराब रहीं वहीं रात के समय पढ़ने वाले बच्चे भी परेशान रहे।

छात्र अशोक, रणधीर, वैभव ने बताया कि हमारी परीक्षा चल रहीं हैं और रात में कार्यक्रम में हो रहे शोर की वजह से हम लोग न तो पढ़ाई कर पाते हैं और न ही चैन की नींद सो पाते हैं। उन्होंने बताया कि साल भर की मेहनत पर यह रोज का शोरगुल पानी फेर देता है। 10वीं के छात्र अनुज ने बताया कि जिस रात को इस बारातघर में शादी होती है हमारी पढ़ाई चौपट हो जाती है। 12वीं के छात्र सुभाष ने बताया कि सुबह मुझे जल्दी कोचिंग जाना होता है और रात को बारात घर में जमकर डीजे और साउंड से हल्ला होता रहा जिसकी वजह से ना तो में 2 बजे तक सो पाया और लेट सोने की वजह से सुबह कोचिंग भी नहीं जा पाया। रहवासी और अभिभावक मनोज ने बताया कि बच्चों की परीक्षा आने वाली है और ऐसे समय पर इस बारात घर में रोज डीजे और साउंड बजाए जाते हैं जिससे बच्चे अपनी पढ़ाई नहीं कर पाते और हम लोग सो भी नहीं पाते, ऐसे बारात घर पर प्रशासन को तुरंत प्रतिबंध लगाना चाहिए।

कुछ माह पहले ही नगर के जागरूक युवा व विद्यार्थियों ने एसडीएम को कलेक्टर एवं एसपी के नाम एक ज्ञापन सौंपा था, जिसमें ध्वनि विस्तारक यंत्रो पर रोक लगाने की बात कही गई थी, लेकिन प्रशासन द्वारा कोई ध्यान नहीं दिया गया।

कल ही दिखवाते हैं


X
Click to listen..